पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

सफलता:सरेंडर को तैयार नहीं हुए नक्सली डेविड की गिरफ्तारी, निशानदेही पर टैब, 17 चिप जब्त

राजनांदगांवएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कमजोर पड़ रहे संगठन में नए सदस्यों से लेकर संसाधनों की कमी, डेविड ने लीडरों को चिटि्ठयां भी लिखी
  • खुलासा: 11 वायरलेस सेट की सप्लाई साल्हेकसा के तेंदूपत्ता ठेकेदार ने की थी

जोब इलाके में कटेंगा-खोभा से गंभीर हालत में पकड़े गए नक्सल कमांडर डेविड को पुलिस सोमवार को जेल भेजेगी। एनकाउंटर में डेविड को गोली लगी थी, उसका इलाज रायपुर में जारी था। स्वस्थ हाेने के बाद भी डेविड उर्फ उमेश ने पुलिस की मदद नहीं की। समझाइश के बाद भी सरेंडर को तैयार नहीं हुआ। इसके चलते पुलिस ने अब उसे विधिवत गिरफ्तार कर लिया है। एसपी जितेंद्र शुक्ल ने प्रेसवार्ता में बताया कि डेविड से हुई पूछताछ के बाद खोभा-कटेंगा जंगल से फिर डंप बरामद किया है। इसमें टैब, मोबाइल चिप, कारतूस और कुछ पेन ड्राइव भी मिले हैं। इसमें नक्सल संगठन की आगे की प्लानिंग और वर्तमान स्थिति की पूरी जानकारी है। डेविड ने टूट रहे संगठन को लेकर कुछ चिट्ठियां भी शीर्ष नेताओं के लिए लिखी थी, जिसे वह उन तक पहुंचाने ही वाला था, इसके पहले ही वह पकड़ा गया। इधर पुलिस ने एनकाउंटर के दौरान मौके से बरामद किए 11 वायरलेस सेट (वॉकी-टॉकी) का भी कनेक्शन खोज निकाला है। इसकी सप्लाई साल्हेकसा के एक तेंदूपत्ता ठेकेदार ने की है। आरोपी ठेकेदार की पतासाजी के लिए टीम लगी हुई है।

टूट रहा संगठन... पत्र में लिखा है संसाधन नहीं, रोज हो रहा विवाद
डेविड की निशानदेही पर जो टैब और माेबाइल चिप बरामद हुआ है। उसमें कमजोर पड़ रहे संगठन को लेकर कई सबूत मिले हैं। खुद डेविड ने ही अपने पत्र में शीर्ष नेताओं के लिए लिखा है कि संगठन अब तक के सबसे बुरे दौर में हैं। नक्सलियों में रोजाना एक-दूसरे से विवाद हो रहा है। कोई भी किसी की बात मानने को तैयार नहीं है। संसाधनों की कमी को लेकर भी कई बार शीर्ष नेतृत्व को जानकारी दी जा चुकी है, लेकिन मदद नहीं मिल रही हैं। नक्सल सदस्यों के सामने अब पुलिस की गोली से मारे जाने के अलावा कोई दूसरा रास्ता नहीं हैं।

फोर्स में इस्तेमाल... सेट के निर्माण और वितरण की जानकारी खंगाली
एनकाउंटर के दौरान पुलिस ने 11 वॉकी-टॉकी सेट भी जब्त किया था, जब्त डिजिटल वायरलेस का इस्तेमाल आमतौर पर पुलिस के अफसर और सेना में ही होता है। नक्सलियों के पास ऐसा सेट कम ही देखा गया है। उक्त सेट के प्रोडक्शन से लेकर डिस्ट्रीब्यूटर से जानकारी खंगाली गई। जिसके बाद स्पष्ट हुआ है कि वायरलेस सेट को साल्हेकसा के एक तेंदूपत्ता ठेकेदार ने खरीदा था, जिसे उनके नक्सलियों तक पहुंचाया हैं। ठेकेदार व उसके सहयोगियों की पतासाजी जारी है। उनके संपर्क सूत्रों को तलाशा जा रहा है।

नहीं मिल रही मदद... सदस्य बनाने के लिए अब गांवों में बैठकें ले रहे
नक्सलियों के दस्तावेज में यह भी खुलासा हुआ है कि अब किसी भी हिस्से से युवा नक्सल संगठन में नहीं जुड़ रहे हैं। अपने सीनियर लीडरों के नाम लिखी चिट्‌ठी में डेविड ने उल्लेख किया है कि बीते दो साल में संगठन में सदस्यता के लिए गांव-गंाव में बैठकें ली गई हैं। ग्रामीणों पर दबाव भी बनाया गया, लेकिन अब कोई भी नक्सल संगठन का सदस्य बनने तैयार नहीं हो रहा है। इसके चलते सभी प्लाटूनों और दलम में सदस्यों की संख्या घटती ही जा रही है। ग्रामीणों पर दबाव और धमकियों का भी कोई असर नहीं हो रहा है।

पुलिस का साथ नहीं देने पर अड़ा, बोला- गांव लौट जाउंगा
डेविड उर्फ उमेश नक्सल संगठन डीवीसी का मेंबर हैं। इसके अलावा व कमांडर की भी जिम्मेदारी निभा रहा था। एनकाउंटर में जिंदा पकड़े जाने के बाद पुलिस ने उसे बार-बार सरेंडर के लिए प्रस्ताव दिया। लेकिन नक्सली डेविड ने पुलिस की बात नहीं मानी। वह किसी भी स्थिति में पुलिस का साथ देने के लिए तैयार नहीं हुआ। डेविड ने संगठन छोड़कर गांव लौट जाने की भी बात कही। लेकिन विधिवत सरेंडर से इनकार कर दिया। स्वस्थ होने तक डेविड अपनी बात पर अड़ा रहा, जिसके चलते उसे विधिवत गिरफ्तार किया है। 30 जून को खोभा कटेंगा जंगल में एनकाउंटर के बाद डेविड को गोली लगी थी, जहां से उसे पकड़ा गया था। पुलिस आगे कार्रवाई कर रही है

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज घर से संबंधित कार्यों को संपन्न करने में व्यस्तता बनी रहेगी। किसी विशेष व्यक्ति का सानिध्य प्राप्त हुआ। जिससे आपकी विचारधारा में महत्वपूर्ण परिवर्तन होगा। भाइयों के साथ चला आ रहा संपत्ति य...

और पढ़ें