पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

जागरूकता जरूरी:सैंपल देकर मोबाइल बंद कर रहे लोग

राजनांदगांव13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • दवा के लिए खुद मेडिकल तक पहुंच रहे संक्रमित, ऐसी लापरवाही से भी बढ़ रहा संक्रमण

स्वास्थ्य विभाग का कंट्रोल रूम इन दिनों सैंपल देने वालों के मोबाइल स्विच ऑफ होने से परेशान हैं। सैंपल देने के बाद लोग अपना फोन बंद कर रहे हैं। ऐसे लोगों को ट्रेस करने में मेडिकल टीम को खासी मशक्कत करनी पड़ रही है। पहले ही स्वास्थ्य अमला कर्मचारियों की कमी से जूझ रहा है। अब ऐसे लोगों की लापरवाही संक्रमण के खतरे को बढ़ा रही है। स्वास्थ्य विभाग के कंट्रोल रूम से सभी पॉजिटिव मरीजों को सूचना भेजी जाती हैं। उन्हें पॉजिटिव होने और घर पर ही रहने की हिदायत दी जाती है। इसके बाद संबंधित ब्लाक व क्षेत्र की मेडिकल टीम उन्हें रेस्क्यू या होम आइसोलेट करती है। लेकिन कई मरीज ऐसे भी सामने आए हैं, जो सैंपल देने के बाद अपना मोबाइल फोन बंद कर दे रहे हैं। बीते कुछ दिनों में ऐसे मामलों मेंं लगातार बढ़ोतरी हो रही है। इसमें ज्यादातर ऐसे मरीज हैं, जो हास्पिटल में दूसरी बीमारियों का इलाज करने पहुंचे थे और उन्हें कोरोना टेस्ट के लिए सैंपल देने कहा गया। इसके अलावा कॉन्टैक्ट में आने वाले लोगों पर भी टेस्ट के लिए दबाव बनाया जा रहा है, जो सैंपल देने के बाद इस तरह की लापरवाही बरत रहे हैं। इसकी वजह से यहां लोगों की परेशानी बढ़ती जा रही है।

मेडिकल टीम को करनी पड़ रही दोगुनी मशक्कत
स्वास्थ्य विभाग के अफसरों ने बताया कि ऐसी स्थिति में जहां संक्रमण का खतरा और बढ़ जाता है, वहीं मेडिकल टीम को भी दुगुनी मशक्कत करनी पड़ती है। पॉजिटिव मरीज का फोन बंद होने की स्थिति में उसके दिए पते पर उसे ढूंढना पड़ रहा है। इन मरीजों तक पहुंचने की चुनौती और भी बढ़ जाती है। मरीजों के मिलने के बाद ही स्थिति के मुताबिक तय किया जा रहा है कि होम आइसोलेट करें या कोविड सेंटर में शिफ्ट किया जाए ।

टीम नहीं आ रही तो दवा खरीदने भी निकल रहे
शहर के एक मेडिकल स्टोर्स के संचालन ने बताया कि बीते कुछ दिनों में उनके पास कुछ कोरोना संक्रमित मरीज ही दवाई खरीदने पहुंच गए। ये मरीज ग्रामीण इलाकों से हैं या ऐसे हैं जो मेडिकल कॉलेज हास्पिटल में दूसरी बीमारियों का जांच कराने पहुंचे थे, तब इन्हें संदिग्ध मानकर इनका सैंपल लिया गया। जब इनके मोबाइल में पॉजिटिव होने का मैसेज आया और दो से तीन दिनों तक रेस्क्यू करने कोई टीम नहीं पहुंची।

लिंक से होम आइसोलेट का फॉर्म भर सकेंगे
इधर राज्य स्तर पर नई व्यवस्था लागू कर दी गई है। आरटीपीसीआर रिपोर्ट में पॉजिटिव आने वाले मरीजों को अब मोबाइल फोन पर ही लिंक मिलेगा। इस लिंक के माध्यम से होम आईसोलेट के एप से जुड़ सकेंगे। जिसमें घर से ही मरीज होम आइसोलेशन की प्रक्रिया पूरी कर सकेंगे। इसमें ऑनलाइन ही पूरी जानकारी दर्ज कर बगैर लक्षण वाले मरीज घर पर ही इलाज ले सकेंगे। ऐसे मरीजों को दवाईयों से लेकर दूसरी मानिटरिंग स्वास्थ्य विभाग करेगी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- अगर आप कुछ समय से स्थान परिवर्तन की योजना बना रहे हैं या किसी प्रॉपर्टी से संबंधित कार्य करने से पहले उस पर दोबारा विचार विमर्श कर लें। आपको अवश्य ही सफलता प्राप्त होगी। संतान की तरफ से भी को...

और पढ़ें