तिजोरी चोर 2 भाई गिरफ्तार:MP के 3 भाई CG के पेट्रोल पंप से 6 लाख रुपए से भरी तिजोरी उठा ले गए थे; दो दबोचे गए; तीसरे की तलाश, 4 लाख कैश बरामद

राजनांदगांव10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पेट्रोल पंप में हुई चोरी का खुलासा पुलिस ने तीन दिन बाद कर दिया है। चोरों के पास से सारा सामान भी बरामद कर लिया गया है। - Dainik Bhaskar
पेट्रोल पंप में हुई चोरी का खुलासा पुलिस ने तीन दिन बाद कर दिया है। चोरों के पास से सारा सामान भी बरामद कर लिया गया है।

राजनांदगांव जिले में साल्हेवारा के बृज पेट्रोप पंप के कैश रूम से 6 लाख रुपए से भरी तिजोरी चोरी करने वाले दो भाइयों को गिरफ्तार किया गया है। इसका एक आरोपी अभी फरार है, जिसकी तलाश की जा रही है। तीनों आरोपी आपस में भाई हैं और MP के रहने वाले हैं। इन्होंने पूरा प्लान बनाकर पेट्रोल पंप से रुपयों से भरी तिजोरी चोरी की थी। पुलिस ने आरोपियों से नकद 4 लाख 24 हजार रुपए ,कार व मोबाइल जब्त किए हैं।

आरोपियों से नकद रुपए व कीमती मोबाइल बरामद।
आरोपियों से नकद रुपए व कीमती मोबाइल बरामद।

जानते थे तिजोरी में कब रहती है बड़ी रकम

जानकारी के मुताबिक, साल्हेवारा बस स्टैंड के पास बृज फ्यूल्स से चोर रविवार देर रात पूरी तिजोरी उठा ले गए थे। उस समय तिजोरी में 6 लाख रुपए रखे हुए थे। आरोपियों को यह जानकारी पहले से थी कि शनिवार और रविवार के पेट्रोल-डीजल के रुपए बैंक नहीं खुलने के कारण ऑफिस की तिजोरी में रहते हैं। घटना के बाद पुलिस ने मामले की जांच शुरू की और मंगलवार को इस वारदात में शामिल दीपक शांडिल्य और देवेन्द्र शांडिल्य को गिरफ्तार कर लिया गया है और इन दोनों का चचेरा भाई अनुराग शांडिल्य अभी फरार है।

चोरी की कहानी

बताया जा रहा है कि, आरोपी दीपक शांडिल्य का बृज पेट्रोल पंप पर आना-जाना पहले से था। वह यहीं से फुटकर पेट्रोल-डीजल लिया करता था। यहां उसकी उधारी भी चलती थी। लंबे समय से आरोपी ने रुपयों का हिसाब-किताब नहीं किया था। जिससे करीब ढाई लाख रुपए का कर्ज दीपक पर हो गया था। फिर दीपक ने दमोह में एक निजी कार्यक्रम में अपने भाई देवेन्द्र व अनुराग को बताया गया कि साल्हेवारा बृज पेट्रोल पंप में उसका बहुत कर्ज हो गया हैं। पेट्रोल पंप वाले उसे फोन करके रुपए के संबंध में बार-बार परेशान कर रहे हैं। उसके बाद तीनों ने दमोह में प्लान किया कि बृज पेट्रोल पंप की तिजोरी को तोड़कर रुपए चोरी करना है। इसके बाद तीनों दमोह के मेडिकल स्टोर्स से ग्लब्स खरीदे। अपने पास रखे स्कार्फ से मुंह बांधकर, प्लान के मुताबिक एक अगस्त की रात दमोह से साल्हेवारा कार से निकले। तीनों पेट्रोल पंप पहुंचे, पेट्रोल पंप के कैश रूम के दरवाजे को ड्रम खोलने वाले लोहे के पाने से खोला। फिर तीनों ने कैश रूम में घुसकर तिजोरी को ही कार की डिक्की में रख लिया। इसके बाद तीनों तुरंत साल्हेवारा से मंडई गांव (मध्य प्रदेश) के लिए रवाना हो गए। वहां तीनों ने रुपए का बंटवारा भी कर लिया।

घटना के बाद पुलिस ने पेट्रोल पंप में लगे CCTV कैमरे के फुटेज की जांच की। फुटेज में तीन व्यक्ति अपने चेहरे को ढंके हुए दिखाई दे रहे थे। घटना को अंजाम देने से पहले चोरों ने शातिराना तरीके से स्ट्रांग रूम की तरफ लगे कैमरे को कपड़े से ढक दिया था, जिससे वारदात कैमरे में कैद न हो।

साइबर सेल से वारदात को ट्रेस करने की मिली मदद

साल्हेवारा थाना प्रभारी बीरेन्द्र सिंह ने बताया कि इस वारदात में शामिल आरोपियों तक पहुंचने में साइबर सेल की अहम भूमिका रही। इनकी मदद से हमारी टीम आरोपियों के लोकेशन तक पहुंचने में कामयाब रही। इस वारदात में शामिल दो आरोपी व नकद रुपए सहित सारा सामान बरामद किया गया है। आगे की विवेचना की जा रही है।

खबरें और भी हैं...