ऐसी लापरवाही पड़ सकती है भारी:गोवा से लौटे और टेस्ट कराने से किया इंकार, पुलिस बल लेकर अफसरों को बरतनी पड़ी सख्ती, 2 पॉजिटिव मिले

डोंगरगढ़20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

लोग बाहर घूमने गए हैं और यहां आने पर अब संक्रमित निकल रहे हैं। लेकिन लोग टेस्ट नहीं कराने के लिए ऐसे हठधर्मी हो गए कि जांच टीम को दुत्कार कर वापस भेज रहे हैं। मजबूरन पुलिस बल की मदद लेकर स्वास्थ्य विभाग के अफसरों को सख्ती बरतनी पड़ी है। वार्ड 9 के मिसिया बाड़ा में एक परिवार पिछले दिनों छुट्टी मनाने गोवा गया हुआ था। 5 जनवरी को वापस लौटने के बाद परिवार के किसी भी सदस्यों ने टेस्ट नहीं कराया और शहर में घूमते रहे। स्वास्थ्य विभाग को जब जानकारी मिली तो कर्मी घर गए और टेस्ट कराने कहा। लेकिन गोवा से लौटे लोगों ने कर्मियों के साथ विवाद शुरू कर दिया और टेस्ट नहीं कराने की बात कहकर दुत्कार कर भगा दिया।

ऐसे में टेस्ट करने वाली टीम के सदस्यों ने अफसरों को बात बताई। जिसके बाद पुलिस बल की मदद लेकर समझाइश देते हुए पूरे सदस्यों की कोरोना जांच की गई। जिसके बाद एक व्यक्ति की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इधर मिसिया बाड़ा के परिवार के साथ वार्ड एक का एक परिवार भी साथ में घूमने गोवा गया था।

वहां भी एक व्यक्ति संक्रमित मिला। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम ने सभी को होम आइसोलेट कर एरिया को माइक्रो कंटेनमेंट जोन बना दिया है और बाहरी लोगों के आवाजाही पर रोक लगा दी है। 2021 के अंत में बाहर घूमने गए लोग अब लौटने पर पॉजिटिव निकल रहे हैं और वापस आने के बाद भी जांच कराने से परहेज कर रहे हैं। यही लापरवाही आगे खतरनाक साबित हो सकती है।

क्लर्क भी मिला पॉजिटिव आज होगी स्टाफ की जांच स्वामी आत्मानंद इंग्लिश मीडियम स्कूल के क्लर्क की कोरोना टेस्ट रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। इसलिए शुक्रवार सुबह स्कूल में बच्चों को छुट्टी दे दी गई। इधर शनिवार को पूरे स्टॉफ की कोरोना जांच की जाएगी। इसके बाद ही बच्चों को स्कूल बुलाया जाएगा। फिलहाल स्कूलों में 15 से 18 वर्ष तक के बच्चों का वैक्सीनेशन किया जा रहा है। लगातार संक्रमण का ग्राफ बढ़ने के चलते पालक भी अब बच्चों को स्कूल भेजने से कतरा रहे हैं। आने वाले समय में स्कूलों के बंद होने की आशंका है।

बाहर से आने वाले लोगों की ट्रेसिंग कर रखेंगे नजर अब तक मिले संक्रमित बाहरी राज्यों से लौटे हुए है। उनके संपर्क में अन्य लोगों से आने से कम्युनिटी स्प्रैड का खतरा रहेगा। इसलिए स्वास्थ्य विभाग की मोबाइल मेडिकल टीम बाहर से आने वाले लोगों की ट्रेसिंग कर रही है। उन पर पैनी नजर रखकर लौटने वाले लोगों का टेस्ट करना अनिवार्य होगा। टीम में स्वास्थ्यकर्मी लकेश वर्मा, टकेश साहू, अरूण लकड़ा शामिल है। रेलवे स्टेशन में भी सिंगल एंट्री व एक्जिट बनाकर बाहर से आने वाले यात्रियों की जांच की जा रही है। रिपोर्ट आने तक क्वारेंटाइन में रहना होगा।

तहसीलदार ने निरीक्षण कर दिए आवश्यक निर्देश बढ़ते संक्रमण को देखते हुए तहसीलदार राजू पटेल भी लगातार निरीक्षण कर आम जनता को सतर्कता बरतने के लिए जागरूक कर रहे हैं। उन्होंने प्रतिष्ठानों में पहुंचकर मास्क का अनिवार्य रूप से उपयोग करने के निर्देश दिए। साथ ही दुकानदारों से कहा कि जो ग्राहक बिना मास्क के सामान लेने पहुंचेगा उसे सामान न दें। आम लोग बैंक, दुकान, बाजार, धार्मिक स्थल सहित अन्य सार्वजनिक स्थानों पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन अवश्य करें। तहसीलदार ने कोरोना जांच व वैक्सीनेशन अभियान का अवलोकन भी किया।

खबरें और भी हैं...