पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

इमरजेंसी जैसे हालात:प्रशासन की नींद उड़ी; बढ़ रहे वेंटिलेटर वाले रोगी, घर पर हांफते हुए एंबुलेंस का इंतजार करने की मजबूरी

राजनांदगांव8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अस्पताल में गंभीर लक्षण वाले मरीज पहुंच रहे हैं। - Dainik Bhaskar
अस्पताल में गंभीर लक्षण वाले मरीज पहुंच रहे हैं।
  • जिले में पॉजिटिव आ रहे ज्यादातर मरीजों में गंभीर लक्षण, इन्हें घर पर रखना संभव नहीं
  • ऑक्सीजन की खपत बढ़ी: पॉजिटिव केस ज्यादा, रेस्क्यू तक नहीं कर पा रही टीम

जिले में मार्च 2020 के बाद कोरोना संक्रमण की शुरुआत हुई थी पर उस दौर में इतने केस नहीं आए थे जो कि अप्रैल माह में आ रहे हैं। बीते वर्ष अप्रैल माह में एक भी केस नहीं थे पर इस बार वायरस ने इस कदर कहर बरपाया है कि जिले में इमरजेंसी जैसे हालात पैदा हो गए हैं। कोविड हॉस्पिटल के 240 बेड फुल हैं।

वेंटिलेटर में भी जगह नहीं। कोविड के एक्टिव केस इतने ज्यादा हैं कि मेडिकल की टीम ट्रेसिंग कर रेस्क्यू नहीं कर पा रही है। इसके लिए 24 घंटे से ज्यादा समय लग रहा है। मरीज घर पर हांफते हुए एम्बुलेंस का इंतजार करने मजबूर हैं। इसके चलते भी मरीजों की हालत गंभीर स्टेज तक पहुंच रही। कोविड के मरीजों की संख्या बढ़ने से स्वास्थ्य विभाग की नींद पहले से ही उड़ी हुई थी। वहीं 5 अप्रैल को एक ही दिन में 1029 केस मिलने से पूरी व्यवस्था लड़खड़ा गई। स्वास्थ्य विभाग की ओर से मरीजों की स्थिति जानने के लिए ट्रेसिंग टीम की संख्या बढ़ाई गई है पर टीम मंगलवार देर शाम तक सभी मरीजों के संपर्क में ही नहीं पहुंच पाई थी।

सिलेंडर की सप्लाई लगातार करनी पड़ रही है।
सिलेंडर की सप्लाई लगातार करनी पड़ रही है।

अफसरों ने कहा- होम आइसोलेशन रिस्की
स्वास्थ्य विभाग के अफसरों ने बताया कि इन दिनों जो केस सामने आ रहे हैं, वे गंभीर लक्षण वाले हैं। इनमें संक्रमण ज्यादा है और ये दूसरों को भी तेजी से संक्रमित कर रहे हैं। इसलिए ही पॉजिटिव दर बढ़ रही है। इन मरीजों को होम आइसोलेट रखना भी रिस्की माना जा रहा है, क्योंकि इनमें ऑक्सीजन लेवल डाउन होने का खतरा बना हुआ है। फेफड़े में इंफेक्शन होने की शिकायतें ज्यादा हैं।

कमी दूर करने 48 घंटे में बढ़ाएंगे बेड
पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने मंगलवार को प्रशासनिक अफसरों, जनप्रतिनिधियों की बैठक ली। इस दौरान बेड की कमी बताए जाने पर डॉ रमन ने मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल की डीन को 48 घंटे के भीतर 100 बेड की व्यवस्था करने निर्देश दिए। डॉ रमन ने कहा कि संसाधनों की कोई कमी नहीं होगी। विधायक निधि, सांसद निधि से उपकरणों और अन्य सामानों की खरीदी के लिए स्वीकृति दी जाएगी।

डॉ. रमन सिंह ने केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री से की चर्चा
पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन ने बताया कि जिले की हालातों को लेकर केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री से चर्चा की गई है। उन्होंने हर संभव मदद का आश्वासन दिया है। वहीं प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री से भी पूर्व मुख्यमंत्री ने चर्चा कर समस्याओं को दूर करने कहा है।

बैठक में कहा- सीटी स्कैन की दर स्पष्ट करें
बैठक में मुद्दा उठा कि ज्यादा मरीजों को चेस्ट सीटी स्कैन की जरूरत पड़ रही है। निजी संस्थानों में इसके लिए 1800 रुपए से ज्यादा वसूल किया जा रहा है। संकट की घड़ी में सरकारी दर पर जांच की सुविधा की मांग उठी और संस्थानों में पोस्टर चस्पा करने कहा गया। बैठक में सांसद संतोष पंाडे, महापौर हेमा देशमुख, पूर्व सांसद मधुसूदन यादव व अफसर मौजूद रहे।

बेड की कमी बताकर इंतजार करने कहा
केस-1:
शंकरपुर निवासी एक व्यक्ति की रिपोर्ट दो दिन पहले पॉजिटिव आई है। मरीज को सांस लेने में तकलीफ है। परिजन लगातार कोविड हॉस्पिटल में संपर्क कर रहे हैं पर रिस्पांस नहीं मिल रहा। बेड की कमी बताकर इंतजार करने कहा जा रहा।

केस-2: तुलसीपुर निवासी एक बुजुर्ग महिला की चार दिन पहले आरटी-पीसीआर रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। महिला पहले से कमजोर है। परिजन कोविड हॉस्पिटल भेजना चाहते हैं पर एम्बुलेंस ही नहीं भेजा रहा है। हालत बिगड़ती जा रही है।

केस-3: ममता नगर क्षेत्र में एक ही परिवार के दो सदस्य पॉजिटिव आएं हैं। कोविड हॉस्पिटल में संपर्क करने पर एम्बुलेंस आने में देरी हुई तो मरीज स्वयं अपनी मोपेड से अस्पताल पहुंच गया। इस तरह लोगों को अस्पताल तक पहुंचने में परेशानी हो रही।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- व्यक्तिगत तथा पारिवारिक गतिविधियों में आपकी व्यस्तता बनी रहेगी। किसी प्रिय व्यक्ति की मदद से आपका कोई रुका हुआ काम भी बन सकता है। बच्चों की शिक्षा व कैरियर से संबंधित महत्वपूर्ण कार्य भी संपन...

    और पढ़ें