तेजी से हो रहा काम / जून में 253.4 मिमी बारिश से धान की बुआई 60 फीसदी पूरी हो गई

Sowing of paddy has been completed 60% due to 253.4 mm rainfall in June
X
Sowing of paddy has been completed 60% due to 253.4 mm rainfall in June

  • पिछले साल की तुलना में शुरुआती बारिश बेहतर

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 04:00 AM IST

राजनांदगांव. मानसून की दस्तक के बाद जून में हुई बेहतर बारिश से धान की बोवनी भी तेजी से हो रही है। जिले में खरीफ सीजन के लक्ष्य की तुलना में अब तक 60 फीसदी बोवनी कर ली गई हैं। अब तक हुई बारिश को बोवनी के लिहाज से बेहतर बताया जा रहा है। इससे जल्द ही धान के अनुमानित रकबे में बोवनी का कार्य जल्द पूरा हो जाएगा। 
कृषि विभाग के डीडीओ जीएस धुर्वे ने बताया कि खरीफ सीजन में कुल 3 लाख 46 हजार 714 हेक्टएयर क्षेत्र में फसल का लक्ष्य हैं। इसमें 2 लाख 91 हजार हेक्टएयर रकबे में धान की बोआई होगी। इसमें अब तक 60 फीसदी रकबे में बाेवनी पूरी कर ली गई है। वहीं मक्का 2 हजार हेक्टएयर, कोदो कुटकी 3 लाख 20 हजार हेक्टेयर, मूंग 1250 हेक्टेयर, उड़द 2950 हेक्टेयर, मूंगफली 140 हेक्टेयर, तिल 1500 हेक्टेयर और सोयाबीन 30,400 हेक्टएयर का लक्ष्य तय किया गया है। 15 जून से अब तक जिले में 253.4 मिमी बारिश दर्ज हो चुकी है। जो औसत बारिश से 176.5 फीसदी अधिक हैं। धुर्वे के मुताबिक बेहतर बारिश की स्थिति में ही किसान बोवनी में तेजी िदखा रहे हैं। इसका लाभ भी खरीफ फसल में बेहतर ढंग से मिलने की उम्मीद है।

जिले में सप्ताह भर बाद अच्छी बारिश के संकेत 
मौसम वैज्ञानिक डॉ. एचपी चंद्रा ने बताया कि फिलहाल बंगाल की खाड़ी में बारिश का सिस्टम कमजोर पड़ गया है। इसके चलते बारिश थमी हुई है। हालांकि चक्रीय चक्रवात के चलते हल्की बारिश कहीं कहीं दर्ज हो सकती है। अच्छी बारिश के सप्ताह भर तक इंताजर करना पड़ेगा। बोवनी के बाद कम से कम 15 दिन बाद किसानों को बेहतर बारिश की जरूरत होती है। सप्ताहभर बाद अच्छी बारिश के संकेत हैं।

खाद की कीमत में कमी से किसानों को मिली राहत 
खाद की कीमत में कमी आने से थोड़ी राहत भी मिली हैं। किसानों को इस बार यूरिया 290 की बजाए 267 रुपए, सुपरफास्फेट 370 से कम होकर 364 व पोटाश 919 की पिछली कीमत से कम होकर 874 रुपए में मिल रहा है। वहीं जिले में समितियों के माध्यम से 62 हजार 582 मीट्रीक टन खाद वितरण का लक्ष्य रखा गया है। जिसके एवज में 75 फीसदी से अधिक खाद का वितरण किसानों में किया जा चुका है।

सब्जी फसल पर भी फोकस, रकबा बढ़ा 
खरीफ सीजन में धान व दलहन- तिलहन के साथ सब्जी फसल में भी किसानों का फोकस अधिक है। इस साल सब्जी के रकबा बढ़ा है। आमतौर पर सब्जी फसल बड़े रकबे वाले किसान ही करते आए हैं, इस बार दो एकड़ तक की जमीन वाले किसान भी सब्जी फसल की ओर फोकस कर रहे हैं। सब्जी में धान की तुलना में अधिक मुनाफे को बताया जा रहा है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना