विरोध / नक्सलवाद के खिलाफ ग्रामीणों ने की नारेबाजी, बैनर भी जलाए

X

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

राजनांदगांव. गढ़चिरौली जिले के जिस सावरगांव में नक्सलियों ने 4 वाहनों को फूंका था, वहीं पहुंचकर ग्रामीणों ने नक्सलवाद का विरोध किया है। ग्रामीणों ने मौके पर नक्सलवाद के खिलाफ नारेबाजी की और लगाए गए बैनर को भी आग के हवाले किया।  
जिले में ऐसा पहली बार हुआ है कि नक्सल घटनास्थल पर पहुंचकर ग्रामीणों ने नक्सलवाद का विरोध किया है। गढ़चिरौली एसपी शैलेश बलकवड़े ने बताया कि 20 मई को नक्सलियों ने रेत से भरे चार वाहनों में आग लगा दी थी, ये वाहन मुरुगांव में निर्माण कार्य के लिए रेत लेकर जा रहे थे। शनिवार को उसी जगह पर आसपास के गांव से करीब 350 ग्रामीण एकत्रित हुए। स्वस्फूर्त जुटे इन ग्रामीणों ने नक्सलियों की इस करतूत का विरोध किया। 
ग्रामीणों ने नारेबाजी करते हुए नक्सलियों को ऐसी हरकत बंद करने की मांग की। उन्होंने कहा कि बंदूक के दम पर नक्सली गरीब आदिवासियों को परेशान कर रहे हैं, उनसे राशन से लेकर रुपयों तक की उगाही कर रहे हैं। उनके हितों के लिए हो रहे निर्माण कार्याें को बंद करा रहे हैं, जो सीधे तौर पर गलत है। ग्रामीणों ने नक्सलियों से ऐसी करतूतें बंद करने का आह्वान करते हुए उनके बैनर और पोस्टरों की मौके पर ही होली जला दी। इधर क्षेत्र में पुलिस की सर्चिंग जारी है। 
एनकाउंटर के बाद बड़े जवाब की भी चेतावनी 
इधर नक्सल संगठन ने ही हाल ही में पुलिस को बड़े जवाब की चेतावनी दी है। इसके लिए कांकेर राजनांदगांव डिवीजन के प्रमुख ने एक प्रेस विज्ञप्ति भी जारी की थी, इसमें परदौनी जंगल में मारे गए चार नक्सलियों की तस्वीरें भी थी। विकास नाम के इस नक्सल लीडर ने स्वीकार किया था कि राजनांदगांव पुलिस द्वारा एनकाउंटर में मारे गए सभी चार नक्सली संगठन को मजबूत करने जुटे हुए थे। उनके मारे जाने से संगठन को बड़ा झटका लगने की भी बात कही गई है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना