250 रुपए में कीजिए 3 राज्यों का सफर:CG से महाराष्ट्र और तेलंगाना के लिए शुरू हुई बस; विधायक और कलेक्टर ने हरी झंडी दिखाकर किया रवाना

बीजापुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
विधायक विक्रम मंडावी और कलेक्टर राजेंद्र कटारा ने बस को हरीझंडी दिखाकर रवाना किया है। - Dainik Bhaskar
विधायक विक्रम मंडावी और कलेक्टर राजेंद्र कटारा ने बस को हरीझंडी दिखाकर रवाना किया है।

छत्तीसगढ़ से महाराष्ट्र और तेलंगाना को जोड़ने के लिए तेलंगाना राज्य परिवहन की यात्री बस शुरू की गई है। रविवार को बीजापुर के विधायक विक्रम मंडावी और कलेक्टर राजेंद्र कटारा ने बस को हरीझंडी दिखाकर रवाना किया है। छत्तीसगढ़ को तेलंगाना और महाराष्ट्र से जोड़ने वाली यह पहली अंतर्राज्यीय सरकारी बस है। बस सुबह 7 बजे बीजापुर से निकलेगी और 11 बजे तेलंगाना पहुंचेगी। वहीं तेलंगाना से शाम 4 बजे रवाना होगी जो रात 9 बजे छत्तीसगढ़ के बीजापुर पहुंचेगी। खास बात यह है कि प्राइवेट बसों की अपेक्षा इसमें किराया बेहद कम करीब 225 से 250 रुपए ही होगा।

छत्तीसगढ़ के बीजापुर से तेलंगाना और महाराष्ट्र को जोड़ने के लिए कुछ प्राइवेट बसें चलती हैं। जिनमें लगभग 500 से 700 रुपए किराया वसूला जाता है। इसी वजह से इलाके के लोगों की मांग के बाद क्षेत्रीय विधायक विक्रम मंडावी ने पड़ोसी राज्य तेलंगाना सरकार और मन्चेरियाल जिला प्रशासन से बात कर बसों को छत्तीसगढ़ तक चलाने की मांग की थी। जिसके बाद शनिवार की शाम बीजापुर जिला मुख्यालय बस पहुंच गई। जिसे रविवार की सुबह हरीझंडी दिखाकर विधायक और कलेक्टर ने रवाना कर दिया। दोनों ने कई किलोमीटर तक बस में यात्रा भी की।

विधायक और कलेक्टर ने बस में बैठ कई किमी तक यात्रा की।
विधायक और कलेक्टर ने बस में बैठ कई किमी तक यात्रा की।

यह होगा रूट
छत्तीसगढ़ के बीजापुर बस स्टैंड से बस निकलेगी जो भोपालपटनम, के बाद महाराष्ट्र के आसरेली, सिरोंचा होते हुए तेलंगाना के चेन्नूर और फिर मन्चेरियाल पहुंचेगी। फिर शाम के समय मन्चेरियाल से निकलने वाली बस का बीजापुर तक यही रूट रहेगा। छत्तीसगढ़ से तेलंगाना तक करीब 183 किलोमीटर की दूरी तय करेगी। इस बस का सबसे ज्यादा फायदा इलाके के मजदूर वर्ग के लोगों को मिलेगा। क्योंकि हर साल सैकड़ों की संख्या में मजदूर रोजगार की तलाश में तेलंगाना जाते हैं। प्राइवेट बसों में किराया अधिक होने की वजह से मजदूरों को दिक्कत होती है।

शिक्षा, स्वास्थ्य और यात्रा के लिए फायदेमंद
तेलंगाना राज्य का मन्चेरियाल जिला शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार की दृष्टि से विकसित है। ऐसे में बीजापुर जिले के बच्चों को पढ़ाई के लिए रायपुर जाने की बजाए मन्चेरियाल जाना फायदेमंद होगा। वहीं जिले की बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं का लाभ छत्तीसगढ़ वासियों को मिल सकेगा। इसके अलावा मैनचेरियल रेलवे जंक्शन भी है यहां से साउथ के लिए बहुत सी ट्रेनें चलती हैं। बीजापुर इलाके में तैनात जो जवान साउथ के रहने वाले हैं उन्हें यहां से आसानी से किसी भी जंक्शन के लिए ट्रेन मिल जाएगी।

इंद्रवाती नदी पर तिमेड़ में पुल निर्माण का काम पूरा हो चुका है।
इंद्रवाती नदी पर तिमेड़ में पुल निर्माण का काम पूरा हो चुका है।

पुल बनने से मिली राहत
दरअसल, छत्तीसगढ़ को महाराष्ट्र से जोड़ने बॉर्डर में इंद्रवाती नदी पर तिमेड़ में पुल निर्माण का काम पूरा हो चुका है। जिसका अब इलाके के लोगों को बड़ा फायदा मिल रहा है। यह इलाका नक्सलियों का गढ़ है, इसी वजह से पुल निर्माण के काम में वक्त लगा था। पुल बनने से अब अंतर्राज्यीय बसे शुरू हो चुकी है। जिससे लोगों को फायदा मिल रहा है।