पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हीमोग्लोबीन की जांच:पंडो जनजाति की 100 प्रतिशत महिलाएं एनीमिक 27 की जांच में 19 के शरीर में 8 ग्राम हीमोग्लोबिन

अंबिकापुर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बलरामपुर जिला के रामचंद्रपुर ब्लाॅक में महिला बाल विकास व स्वास्थ्य विभाग की योजनाओं का क्या हाल है, इसका खुलासा उस समय हुआ जब पंडो बाहुल्य बरवाही पंचायत के भुसडियापारा में स्वास्थ्य विभाग ने कैंप लगाकर महिलाओं की हीमोग्लोबीन की जांच की। यहां 27 महिलाओं की जांच में किसी भी महिला के शरीर में हीमोग्लोबीन 11 ग्राम से अधिक नहीं मिला है। 27 महिलाओं में सिर्फ एक महिला के शरीर में 11 ग्राम तो सात महिलाओं के शरीर में 9 और 10 ग्राम तो 19 महिलाओं की जांच में सिर्फ 8 ग्राम हीमोग्लोबीन पाया गया। इस दौरान महिलाओं को आयरन का टेबलेट दिया गया। वहीं महिलाओं को हरी साग-सब्जी खाने के लिए कहा गया। महिलाओं ने इस दौरान बताया कि उन्हें गर्भवती होने पर न तो आंगनबाड़ी में कभी गर्म भोजन मिलता है और न ही स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी जांच के लिए आते हैं। इसके कारण उन्हें योजनाओं का लाभ नहीं मिल रहा है। बता दे कि पंडो जनजाति में कम उम्र में शादी के कारण वे सबसे अधिक एनीमिक हो रहीं हैं तो पंडो जनजाति में गरीबी के कारण किशोरियां भी एनीमिक हैं।

हद तो यह है कि इसके बाद भी पंडो विकास अभिकरण द्वारा उनके स्वास्थ्यगत विकास के लिए कोई कदम नहीं उठाया गया है। बता दें कि बरवाही पंचायत के भुसडियापारा में दो दिन पहले बीमार एक पंडो युवक की पैसों के अभाव में रेफर होने के बाद भी अस्पताल नहीं पहुंच सका था और जान चली गई थी। इसके बाद इस गांव में स्वास्थ्य विभाग का कैंप लगा है। इस दौरान, बीपी, शुगर की जांच के साथ मौसमी बीमारियों का इलाज किया गया।

खबरें और भी हैं...