चुनावी मुद्दा:150 घरों की छत से गुजरी 11 केवीए लाइन, महिला समेत कई लोगों की जा चुकी जान, नाले के बदबू से वार्डवासी परेशान

बैकुंठपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
घरों के ऊपर से गुजरी हाईटेंशन लाइन की वजह से लोगों की जान जोखिम में। - Dainik Bhaskar
घरों के ऊपर से गुजरी हाईटेंशन लाइन की वजह से लोगों की जान जोखिम में।

नगर के वार्ड नंबर 11 डबरीपारा व बाई सागरपारा के डेढ़ सौ मकानों की छत के ऊपर से होकर गुजरने वाली 11 केवीए हाइटेंशन तार की चपेट मे आने से एक महिला की मौत हो गई। इसके अलावा भी कई हादसे क्षेत्र में हो चुकी है। इसके बावजूद इसकी शिफ्टिंग की बात कहकर चुनाव जीतने वाले जनप्रतिनिधि कुछ नहीं कर सकें।

दूसरी बड़ी समस्या बदबूदार खुले नाले हैं। ऐसे में अब मोहल्ले वासी अब आने वाले निकाय चुनाव में लिखित आश्वासन देने वाले पार्षद उम्मीदवार को समर्थन देने की बात कह रहे हैं। पिछले 10 साल से मोहल्ले वासी हाइटेंशन 11 केवीए लाइन से परेशान है। मोहल्ले में आए दिन इसकी चपेट में आने हादसे हो रहे हैं। कुछ लोगों की जान तक जा चुकी है। पिछले दो निकाय चुनाव से पूर्व नपा अध्यक्ष और वार्ड पार्षद तक लाइन दूसरी जगह शिफ्ट नहीं करा सके।

इसके अलावा वार्ड में खुले नाले, गंदगी के बीच संचालित आंगनबाड़ी केंद्र, बड़े नाले का गंदा पानी निकासी की व्यवस्था नगर पालिका के तीन कार्यकाल में नहीं हो सकी हैं। कुल मिलाकर नपा क्षेत्र में बिजली, सफाई वार्डों बनें गड्ढे ही मुख्य मुद्दा है। यहां पार्षद की सीट पर एक दशक से कांग्रेस का कब्जा है। वार्ड नं. 11 में डबरीपारा और बाई सागरपारा का क्षेत्र शामिल है। इसमें करीब डेढ़ सौ मकान के ऊपर से गुजरा 11 केवीए बिजली का तार जर्जर हो चुका है। वार्डवासी बताते हैं कि हाइटेंशन लाइन से एक महिला की मौत के साथ कई हादसे पहले हो चुके हैं। 11 केवी हाइटेंशन बिजली की तार की वजह से लोग अपनी घर की छत पर नहीं जाते है। पूर्व के नपा अध्यक्षों ने लाइन शिफ्टिंग को लेकर बड़े-बड़े वायदे किए थे, लेकिन दो साल बीतने के बाद भी केवल गिनती के कुछ खंभे ही शिफ्ट हो सका है।

कांग्रेस ने काम नहीं करने वाले को चुना उम्मीदवार
वार्ड वासियों से वादाखिलाफी करने वाले मुशर्रत जहां को कांग्रेस तीसरी बार अपना उम्मीदवार बनाया है। इस वार्ड से पति-पत्नी ही बीते दो चुनाव से पार्षद चुने गए हैं। ऐसे में पार्टी ने एक बार फिर इनपर भरोसा जताया है, लेकिन दूसरी ओर भाजपा भी इस बार इलेवन केवीए लाइन को मुद्दा बनाते हुए यहां से शाहजहां को उम्मीदवार बनाया है। ऐसे में लोग लाइन हटवाने के लिखित आश्वासन पर समर्थन देने की बात कह रहे हैं।

शिफ्टिंग को लेकर लोग कर चुके हैं चक्काजाम
बता दें कि जनवरी 2020 में वार्ड 11 से गुजरने वाली 11 केवीए लाइन की शिफ्टिंग को लेकर यहां के लोग चक्काजाम तक कर चुके हैं, लेकिन लाइन अबतक पूरी तरह शिफ्ट नहीं हो सकी है। सीएसपीडीसीएल के अफसरों का कहना है कि बिना डिमांड राशि मिले वह शिफ्टिंग नहीं कर सकते हैं। वहीं नपा के जनप्रतिनिधि सांसद से शिफ्टिंग के लिए राशि दिलवाने की बात कह रहे है।

यहां पांच सौ लोग खतरे के साए में रहने को मजबूर
लाइन की शिफ्टिंग के लिए नगर पालिका ने करीब 20 लाख की डिमांड राशि बिजली विभाग को दी थी, लेकिन इतनी राशि से केवल 11 खंभे ही शिफ्ट किए जा सके। बाकी खंभों को शिफ्ट करने के लिए न तो बिजली विभाग के पास बजट है, न ही नपाा ने आगे का काम पूरा करवाने के लिए राशि दी है। ऐसे में यह काम अब अधर में लटक गया है। वार्ड में अभी 150 मकानों में करीब 500 से ज्यादा लोग रोज खतरे के साए में अपना जीवन बीता रहे हैं।

मुद्दा: हाईटेंशन बिजली तार शिफ्ट नहीं करवाया
बाई सागरपारा के मुन्नवर अली दो साल पहले बिजली का तार टूटकर घर की आंगन में गिर गया था। घटना में पत्नी बाल-बाल बची थी। करंट लगने से कई बंदरों की मौत हाे चुकी है। वहीं घर की आंगन में रखा सामान जल गया। इसके बाद नगर पालिका ने बिजली तार शिफ्ट करवाने के लिए कहा था, लेकिन अब तक तार की शिफ्टिंग नहीं हाे सकी है।

मुद्दा: नाले की बदबू से लोग परेशान
आसिफ खान ने बताया कि डबरीपारा में आंगनबाड़ी के पास बीच सड़क में नाले का गड्ढा खुला है। अंधेरे में अक्सर यहां लोग गिरकर चोटिल होते रहते है। मकान के पास से गुजरे बड़े नाले की सफाई नहीं होने और खुला होने से यहां रहना मुश्किल हो गया है।

खबरें और भी हैं...