राष्ट्रपति के दत्तक पुत्रों का हाल:सर्पदंश, डूबने से 5 साल में 36 कोरवा-पंडो की मौत, नहीं मिला मुआवजा

अंबिकापुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बलरामपुर जिले में पिछले 5 साल में राष्ट्रपति के दत्तक पुत्र माने जाने वाले पहाड़ी कोरवा और पंडो जनजाति के 36 लोगों की अकाल मौत हो गई। इसमें 18 लोगों की मौत तो सिर्फ सर्पदंश से हुई है, लेकिन उन्हें अब तक मुआवजा तक नहीं मिला है। इस पर विशेष पिछड़ी जनजाति के प्रदेश अध्यक्ष उदय पंडो ने कलेक्टर के नाम ज्ञापन देकर मृतकों के परिजन को मुआवजा दिलाने की मांग की है।

उन्होंने आरोप लगाया है कि मुआवजा के लिए मृतकों के परिजनों ने आवेदन दिए, लेकिन उनके आवेदन पर कार्यवाही नहीं हुई। उन्होंने मृतकों के नाम की सूची, मौत की तारीख और वजह के साथ आवेदन देकर मुआवजा प्रकरण स्वीकृत करने मांग की है। बलरामपुर कलेक्टर कुंदन कुमार ने बताया है कि उन्होंने आवेदन को गंभीरता से लिया है। और जहां भी बिना कारण आवेदन पेंडिंग होंगे, तो संबंधित कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई होगी और मुआवजा की शर्तों का पालन करने पर उनके परिजनों को सहायता राशि उपलब्ध कराई जाएगी। बता दें कि बलरामपुर कलेक्टर कुंदन कुमार ने बलरामपुर ज्वाइन करते ही पंडो जनजाति के लोगों के इलाज के लिए विशेष तौर पर प्लानिंग कर इलाज कराया, तब जाकर लगातार हो रही मौत की घटनाओं को रोका जा सका।

खबरें और भी हैं...