डराने लगा कोरोना:जनवरी में 400 नए केस, संक्रमण दर अब 5 फीसदी से ज्यादा

बैकुंठपुर8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिले में 1776 की जांच में 100 संक्रमित मरीज मिले, प्राइमरी के बच्चों को परिजनों ने स्कूल भेजना किया बंद

जिले में कोरोना संक्रमण का दर 5.6 फीसदी से अधिक पहुंच चुका है। रोज 100 नए संक्रमण के मामले सामने आ रहे हैं। इसके बावजूद बच्चों की सुरक्षा को देखते हुए स्कूल बंद नहीं हुए हैं। प्राइमरी के बच्चों को परिजनों ने खुद ही स्कूल भेजना बंद कर दिया है, लेकिन स्कूलों की ओर से अधिकारिक तौर पर छुट्टी नहीं दी गई है। चिंता यह भी है कि स्कूल ऑनलाइन क्लास भी शुरू नहीं करवा रहे हैं। यदि बच्चों में संक्रमण फैलता है तो जिम्मेदार कौन होगा? शुक्रवार को जिले में 1776 की जांच में कोरोना वायरस के 100 संक्रमित मरीज पाए गए हैं। इसमें बैकुंठपुर शहरी क्षेत्र से सबसे अधिक 39 केस हैं। वहीं चिरमिरी से 5, चरचा से 1, मनेंद्रगढ़ से 4 और ग्रामीण क्षेत्र बैकुंंठपुर से 18, खड़गवां से 10, मनेंद्रगढ़ से 2 और सोनहत से 1 नए केस मिले हैं। इसी के साथ जिले में एक्टिव केस की संख्या 495 पहुंच गई है। कोविड अस्पताल कंचनपुर में दो मरीजों को भर्ती कर इलाज किया जा रहा है। जबकि 493 कोराेना संक्रमित मरीज होम आइसोलेशन में रहकर उपचार ले रहे हैं।

जिले में दिनोंदिन बढ़ते संक्रमण से प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग की चिंता बनी हुई है। लेकिन जिले में स्कूलों को अब तक बंद नहीं किया गया है। हायर सेकेंडरी से प्राइमरी तक के कई बच्चे अब भी स्कूल जा रहे हैं। इधर प्रदेश में कोविड के बढ़ते संक्रमण पर नियंत्रण के लिए राज्य सरकार ने सभी प्रशासन को यह स्पष्ट किया है कि जिले में ऐसे विशेष क्षेत्र जहां कोविड संक्रमण 4% या उससे अधिक है वहां संक्रमण की रोकथाम के लिए नाइट कर्फ्यू जैसे प्रतिबंध लगाए जा सकते हैं।

यदि कलेक्टर संपूर्ण जिले को कोविड संक्रमण की कैटेगरी-”ए’’ में नहीं रखना चाहते हैं तो अपने जिले के अधिक संक्रमण दर वाले ब्लॉकों को कैटेगरी-”ए’’ में रख सकते हैं। इससे जिले के किसी एक क्षेत्र में 5% से ऊपर पॉजिटिविटी रेट में होने पर जिले के अन्य क्षेत्र को इससे बाहर रखने में मदद मिलेगी। पिछले दो दिन से जिले में लगातार 5% पॉजिटिविटी रेट होने के बावजूद स्कूलों को बंद करने कोई निर्देश नहीं दिया गया है।

खबरें और भी हैं...