जोखिम बढ़ा / बाटीडांड़ में बुखार के लक्षण मिलने पर 6 श्रमिकों के भेजे सैंपल में एक पॉजिटिव निकला, 5 की रिपोर्ट का इंतजार

बाटीडांड़ के क्वारेंटाइन सेंटर पहुंची पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की टीम ने शुरू की जांच। बाटीडांड़ के क्वारेंटाइन सेंटर पहुंची पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की टीम ने शुरू की जांच।
X
बाटीडांड़ के क्वारेंटाइन सेंटर पहुंची पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की टीम ने शुरू की जांच।बाटीडांड़ के क्वारेंटाइन सेंटर पहुंची पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की टीम ने शुरू की जांच।

  • बलरामपुर में पहला कोरोना केस मिला, तेलंगाना से 21 श्रमिकों के साथ लाैटा था युवक

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

अम्बिकापुर/ राजपुर. बलरामपुर जिले के बाटीडांड़ स्थित पहाड़ी कोरवा आश्रम में एक प्रवासी मजदूर कोरोना पाॅजिटिव मिला है। इसके साथ ही सरगुजा संभाग का एक मात्र जिला बलरामपुर जो ग्रीन जोन में था। वह भी अब ऑरेंज जोन में चला गया। यह मरीज रामचंद्रपुर के धमनी सरनी गांव का रहने वाला है। जो तेलंगाना से 21 मजदूरों के साथ लौटा था।
इनमें से छह में बुखार के लक्षण मिलने पर जांच के लिए सैम्पल एम्स भेजा गया था। इसमें एक का रिपोर्ट पाॅजिटिव आई है। अधिकारियों ने बताया कि 13 मई को तेलंगाना से लौटे मरीजों को बरियों के पास बाटीडांड़ स्थित पहाड़ी कोरवा आश्रम में बनाये गए क्वारेंटाइन सेंटर में रखा गया था। मरीज की रिपोर्ट पाॅजिटिव आने पर प्रशासन में हड़कंप है। मरीज को अम्बिकापुर में बनाये गए कोविड अस्पताल में भर्ती कराया जा रहा है। यहां पहले से 5 लोग भर्ती थे। अब यहां भर्ती मरीजों की संख्या बढ़कर 6 हो गई है।
सरगुजा ऑरेंज जोन में: सूरजपुर और बलरामपुर के कुछ ब्लाॅक भी शामिल
राज्य सरकार ने सरगुजा जिले के सभी ब्लाकों को और सूरजपुर व बलरामपुर के कुछ ब्लाॅक ऑरेंज जोन शामिल किए हैं। सूरजपुर जिले का ओड़गी, रामानुजनगर और सूरजपुर। जबकि बलरामपुर का राजपुर, वाड्रफनगर, कुसमी, शंकरगढ़ और रामानुजगंज शामिल हैं। बता दें कि तीनों जिले में कोरोना के सक्रिय मरीज मिले हैं।
सेंटर में मौजूद 16 श्रमिकों की समय पर रिपोर्ट आनी भी अहम 
जिस मरीज के साथ पांच अन्य लोगों का सैम्पल जांच के लिए भेजा गया है, प्रशासन उनकी रिपोर्ट का इंतजार कर रहा है। ये रिपोर्ट बेहद अहम होगी। अगर रिपोर्ट निगेटिव आती है तो राहत की बात होगी। वरना पांच की रिपोर्ट भी पाॅजिटिव आती है तो उनके साथ रखे गए 16 अन्य मजदूरों का सैम्पल भेजकर समय पर रिपोर्ट आना बेहद जरूरी होगा।
पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की टीम काम में जुट गई है: एसडीएम
एसडीएम आरएस लाल ने बताया कि जांच रिपोर्ट आने के बाद स्वास्थ अमला और पुलिस की टीम मौके पर तत्काल पहुंच गई है। गांव से एक किलोमीटर दूर में हॉस्टल है। हॉस्टल के पास सात परिवारों के घर हैं। उस इलाके को सील कर दिया गया है। वहीं अन्य पांच लोगों के सैम्पल की जांच रिपोर्ट नहीं आई है।
बलरामपुर में 5 बेड का कोविड अस्पताल तैयार
बलरामपुर के वाड्रफनगर में है 5 बिस्तर का कोविड अस्पताल तैयार है, लेकिन इसमें तब भर्ती कराया जाएगा जब अम्बिकापुर मेडिकल कॉलेज के सौ बिस्तर वाले कोविड अस्पताल में जगह नहीं होगी। वहीं वाड्रफनगर से बांटीडांड़ की दूरी करीब 80 किलोमीटर है। जबकि अम्बिकापुर महज 30 किलोमीटर है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना