पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अच्छी खबर:सीएचसी में होगी सिजेरियन डिलीवरी, सोनहत के गोयनी, मुरकिल में उपकरण इंस्टाल

बैकुंठपुर15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
गोयनी और मुरकिल में डिलीवरी उपकरण इंस्टॉल किया गया। - Dainik Bhaskar
गोयनी और मुरकिल में डिलीवरी उपकरण इंस्टॉल किया गया।
  • नई व्यवस्था के बाद स्वास्थ्य केंद्र में 24 घंटे डिलीवरी की सुविधा ग्रामीणों को मिलेगी, गोयनी उप स्वास्थ्य केंद्र के लिए होगा नए भवन का निर्माण

जनकपुर सीएचसी में सिजेरियन आॅपरेशन से डिलीवरी व सोनहत ब्लॉक के गोयनी, कमर्जी, मुरकिल जैसे पहुंच विहीन गांवों में गर्भवती महिलाओं की जांच की सुविधा जल्द मिलेगी। इसके लिए डिलीवरी टेबल समेत अन्य जरूरी उपकरण इंस्टॉल किए गए हैं। इस नई व्यवस्था के बाद स्वास्थ्य केंद्र में 24 घंटे डिलीवरी की सुविधा ग्रामीणों को मिलेगी। इतना ही नहीं गोयनी के आंगनबाड़ी केंद्र में संचालित उपस्वास्थ्य केंद्र के लिए जल्द नए भवन की व्यवस्था भी जाएगी।

बारिश के दिनों में खराब सड़कों के कारण पहुंच विहीन ग्रामीण क्षेत्रों में डिलीवरी की व्यवस्था नहीं होने से गर्भवती महिलाओं काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। विपरीत परिस्थियों में महिलाओं की जान पर भी खतरा बना रहता है। कई बार एेसी तस्वीरें भी सामने आई है, जब गर्भवती महिलाओं व गंभीर मरीजों को ग्रामीण खाट में लिटाकर किसी तरह नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र तक पहुंचाया गया। समय पर स्वास्थ्य केंद्र नहीं पहुंच पाने के कारण उनकी जान नहीं बचाई जा सकी, लेकिन अब एेसा न हो इस लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा पहुंच विहीन ग्रामीण क्षेत्रों में गर्भवती महिलाओं के समुचित उपचार की व्यवस्था की जा रही है।

जनकपुर सीएचसी में डिलीवरी के दौरान ऑपरेशन की सुविधा होने से गर्भवती महिलाओं की जान बचाई जा सकेगी। पहले चरण में ब्लाक सोनहत के गोयनी, मुरकिल में डिलीवरी टेबल समेत अन्य उपकरण लेकर सीएमएचओ डॉ रामेश्वर शर्मा स्वयं शनिवार को पहुंचे। मौके पर मौजूद मेडिकल स्टॉफ सीएचओ,एएनएम समेत आरएचओ को उन्होंने सौ फीसदी संस्थागत डिलीवरी कराने की बात कही। जनकपुर सीएचसी में महिला रोग विशेषज्ञ डॉ अभ्या गुप्ता मौजूदा सिजेरियन उपकरणों की जानकारी सीएमएचओ को दी गई।

ग्रामीणों नहीं होगी अब परेशानी
पहुंच विहीन ग्रामीण क्षेत्रों में सीएमएचओ जनकपुर से ब्लाक सोनहत के गोयनी से आनंदपुर, कमर्जी, मुरकिल बाइक से पहुंचे और ट्रेक्टर में डिलीवरी टेबल समेत अन्य उपकरण गोयनी उपस्वास्थ्य केंद्र में इंस्टॉल कराया गया। यहीं नहीं उन्होंने ग्रामीणों से सीधे मुलाकात कर स्वास्थ्य सेवा में हो रही समस्याओं को जल्द दूर करने की बात कही।

डिलीवरी नहीं होने भड़के सीएमएचओ
कमर्जी उपस्वास्थ्य केंद्र में डिलीवरी नहीं कराने के कारण सीएचओ,एएनएम समेत आरएचओ को फटकार लगाई। इसके अलावा उन्होंने सीएचसी में बीईई को एक महीने के भीतर रिफ्रेशर ट्रेनिंग कराने के साथ गर्भवती महिलाअों की डिलीवरी जल्द उप स्वास्थ्य केंद्र में शुरू कराने के निर्देश दिए हैं।

ग्रामीण क्षेत्रों में अब महिलाओं को नहीं होगी परेशानी - कलेक्टर
कलेक्टर श्याम धावड़े ने बताया कि पहुंच विहीन ग्रामीण क्षेत्रों में गर्भवती महिलाओं की जांच से लेकर डिलीवरी तक समस्त सुविधाएं मुहैया कराई जाएगी। ताकि विपरीत परिस्थितियों में स्वास्थ्य सुविधा संबंधित गांव में ही उपलब्ध कराई जा सकेे। इस नई सुविधा के बाद महिलाओं को परेशानी नहीं होगी। इसके लिए सभी जरूरी उपकरण, सामग्री समेत मेडिकल स्टॉफ की उपलब्धता भी तय की जा रही है।

खबरें और भी हैं...