सरगुजा में डायल 112 के ड्राइवर की हत्या:गुरुवार को ड्यूटी पर नहीं आया था; हमलावरों ने धारदार हथियार से सिर पर किया वार

सरगुजा7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

छत्तीसगढ़ के सरगुजा जिले में डायल 112 के ड्राइवर की हत्या कर दी गई है। अज्ञात लोगों ने धारदार हथियार से हमला कर ड्राइवर की जान ली है। ड्राइवर गुरुवार को ड्यूटी पर नहीं आया था। अगले दिन शुक्रवार सुबह उसकी लाश मिली। मौके पर पुलिस के सीनियर अधिकारी पहुंचे हैं। पुलिस मामले की जांच कर रही है। मामला मणिपुर चौकी के सुंदरपुर गांव का है।

जानकारी के मुताबिक, कोरिया निवासी सोनूलाल यादव(33) पिता कुंज बिहारी यादव डायल 112 (पुलिस वाहन) में ड्राइवर के रूप में पदस्थ था। गुरुवार को उसके ड्यूटी पर नहीं आने पर साथ काम करने वाले पुलिसकर्मियों ने उससे संपर्क किया था, मगर उससे संपर्क नहीं हो पाया था। पुलिस को सोनूलाल की मौत की खबर तब लगी है, जब गांव के लोगों ने उसका शव सड़क किनारे पड़ा हुआ देखा। इसके बाद आस-पास के लोगों ने ही पुलिस को सूचना दी।

डायल 112 की गाड़ी 24 घंटे शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में गश्त पर रहती है।
डायल 112 की गाड़ी 24 घंटे शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में गश्त पर रहती है।

खबर मिलते ही एडिशनल एसपी विवेक शुक्ला सीएसपी पुष्कर शर्मा समेत तमाम पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे और मामले की जांच शुरू की है। मौके पर डॉग स्क्वायड और फॉरेंसिक टीम को बुलाया गया है। पुलिस को सोनूलाल के सिर में काफी गेहरे चोट के निशान मिले हैं।

पुलिस ने बताया कि अज्ञात लोगों ने रात में धारदार हथियार से वार कर सोनूलाल की हत्या की है। शव के पास भी खून बिखरा हुआ मिला है। शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया है। फिलहाल पुलिस मामले की जांच में जुटी है और हमलावरों को पता लगा रही है।

डायल 112 क्या है?
सरकार ने डायल 112 वाहन की सुविधा लोगों के इमरजेंसी सुविधा के लिए शुरू की है। इसके तहत यदि किसी को इमरजेंसी में पुलिस की मदद की जरूरत पड़ती है तो लोग सीधे मोबाइल पर 112 डायल कर इस गाड़ी को बुला सकते हैं। छत्तीसगढ़ में कई महिलाओं समेत कई लोगों की मदद इस डायल 112 वाहन के जरिए की जा चुकी है। इस गाड़ी का इस्तेमाल कई बार पुलिसकर्मी गर्भवती महिला को अस्पताल ले जाने में भी कर चुके हैं।

खबरें और भी हैं...