पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

अच्छी खबर:फैकल्टी की कमी 9 फीसदी से कम हो गई पांचवें बैच की मान्यता की बढ़ी उम्मीद

अंबिकापुर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • मेडिकल काॅलेज में पहली बार एमसीआई ने ऑनलाइन लिया जायजा

कोरोना संक्रमण के कारण एमसीआई की टीम दिल्ली से पहली बार मेडिकल काॅलेज अंबिकापुर में यूजी की पांचवें बैच की मान्यता के लिए ऑनलाइन ही मंगलवार को निरीक्षण की। काॅलेज प्रबंधन को इसके बारे में मंगलवार को सुबह दिल्ली से फोन कर बताया गया और साढ़े 12 बजे दिल्ली के तीन अलग-अलग मेडिकल काॅलेज के विशेषज्ञ डाक्टरों की टीम ने ऑनलाइन काॅलेज की तैयारी की जानकारी लेनी शुरू कर दी। एक घंटे तक चले निरीक्षण में एमसीआई का पूरा फोकस प्रबंधन द्वारा पिछले दिनों भेजी गई कम्प्लाइंस रिपोर्ट पर रहा। हेड काउंटिंग भी हर विभाग की कराई गई। काॅलेज की फैकल्टी में नवंबर की तुलना में करीब 14 फीसदी की सुधार से एमसीआई ने संतुष्टि जताई। हेड काउंटिंग में विभिन्न विभागों की फैकल्टी में 8.4 व रेसिडेंस में 5 फीसदी तक ही कमी पाई गई। यह स्वीकार करने योग्य है। फैकल्टी में 10 फीसदी से ज्यादा कमी रहने पर पांचवें बैच की मान्यता पर एमसीआई आपत्ति करती है। इसके साथ दूसरे कमियां भी दूर कर ली गई हैं। काॅलेज में फैकल्टी के कुल 106 पद हैं और अभी 97 पदस्थ हैं। इसी प्रकार रेसिडेंस में 62 की जगह 59 डाॅक्टर हैं। इससे अगले सत्र में कालेज को एमसीआई से 125 सीट के लिए मान्यता मिलने की पूरी उम्मीद है। अक्टूबर तक इसकी रिपोर्ट आने की उम्मीद है। एमसीआई का निरीक्षण ठीक-ठाक खत्म हो जाने से प्रबंधन भी राहत महसूस कर रहा है। कालेज को 2016 में पहले बैच की मान्यता मिली थी। इसके बाद 2017 व 2019 में जीरो ईयर हो गया।

अभी तक सिर्फ पीजी का ही ऑनलाइन होता है निरीक्षण
काॅलेज प्रबंधन के अनुसार मेडिकल काॅलेज में पीजी की सीट के लिए एमसीआई पहले ऑनलाइन निरीक्षण करती रही है। इसमें किसी एक विभाग के लिए मान्यता देनी होती है। इससे आसानी से निरीक्षण हो जाता है। यूजी में पहली बार इस साल से ऑनलाइन निरीक्षण शुरू हुआ है। यहां बता दें कि भास्कर ने पहले ही ऑनलाइन निरीक्षण की संभावना जताई थी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- अगर आप कुछ समय से स्थान परिवर्तन की योजना बना रहे हैं या किसी प्रॉपर्टी से संबंधित कार्य करने से पहले उस पर दोबारा विचार विमर्श कर लें। आपको अवश्य ही सफलता प्राप्त होगी। संतान की तरफ से भी को...

और पढ़ें