पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बैठक:सामाजिक सहभागिता से खत्म किया जा सकेगा फाइलेरिया रोग

अंबिकापुर4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

प्रदेश सरकार की ओर से फाइलेरिया रोग को खत्म करने के उद्देश्य से 23 नवंबर से सरगुजा और सूरजपुर जिलों में आयोजित होने वाले सामूहिक दवा सेवन कार्यक्रम के लिए मीडिया कार्यशाला आयोजित हुई। इसमें कार्यक्रम का उद्देश्य, फाइलेरिया रोग की गंभीरता को बताया गया और आम लोगों तक जानकारी पहुंचाने की अपील की गई। कार्यक्रम में जिला मलेरिया अधिकारी डॉ. अनिल प्रसाद ने बताया कि दवा सेवन कार्यक्रम में सामजिक और सामुदायिक सहभागिता बहुत आवश्यक है। फाइलेरिया रोग को खत्म करने के लिए प्रतिबद्धता के साथ, जन-प्रतिनिधियों, अधिकारियों, स्वास्थ्य कर्मियों और समुदाय को फाइलेरिया उन्मूलन कार्यक्रम को जन-आन्दोलन का रूप देना अत्यंत आवश्यक है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के राज्य एनटीडी समन्वयक डॉ. जमील सरोश ने बताया कि फाइलेरिया या हाथी पांव रोग, सार्वजनिक स्वास्थ्य की गंभीर समस्या है। यह रोग मच्छर के काटने से फैलता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार फाइलेरिया दुनिया भर में दीर्घकालिक विकलांगता के प्रमुख कारणों में से एक है। आमतौर पर बचपन में होने वाला यह संक्रमण लिम्फैटिक सिस्टम को नुकसान पहुंचाता है और अगर इसका इलाज न किया जाए तो इससे शारीरिक अंगों में असामान्य सूजन होती है। फाइलेरिया के कारण हाइड्रोसील, लिम्फोएडेमा व काइलुरिया से ग्रसित लोगों को अक्सर सामाजिक बोझ सहना पड़ता है। जिससे उनकी आजीविका व काम करने की क्षमता भी प्रभावित होती है। यह एक घातक रोग है। हालांकि प्रशिक्षित स्वास्थ्यकर्मियों की ओर से दी गई दवाएं खाने से इस रोग से आसानी से बचा जा सकता है। इस अवसर पर राज्य कार्यक्रम अधिकारी डॉ. जितेन्द्र कुमार ने बताया कि भारत को वर्ष 2021 तक फाइलेरिया से मुक्ति का लक्ष्य रखते हुए कोरोना महामारी के दौरान भी महत्वपूर्ण सार्वजनिक स्वास्थ्य पहलों को जारी रखने के महत्व को स्वीकार करते हुए प्रदेश सरकार ने राज्य के दो जिलों सरगुजा और सूरजपुर में 23 से 26 नवंबर और 27 से 30 नवंबर तक अभियान चलाया जाएगा। इस दौरान कलाम खान, अनुज घोष आदि ने जानकारी दी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- परिस्थिति तथा समय में तालमेल बिठाकर कार्य करने में सक्षम रहेंगे। माता-पिता तथा बुजुर्गों के प्रति मन में सेवा भाव बना रहेगा। विद्यार्थी तथा युवा अपने अध्ययन तथा कैरियर के प्रति पूरी तरह फोकस ...

और पढ़ें