पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

उपलब्धि:जिला अस्पताल में पहली बार कूल्हे के जोड़ का प्रत्यारोपण

बैकुंठपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोरिया जिले से अब तक इन ऑपरेशन के लिए मरीज को अंबिकापुर और रायपुर भेजा जा रहा था

जिला अस्पताल के इतिहास में गुरुवार को एक और कामयाबी मिली है। हॉस्पिटल के हड्डी रोग विशेषज्ञ ने 55 वर्षीय एक व्यक्ति के कूल्हे के जोड़ का प्रत्यारोपण किया। हॉस्पिटल में कूल्हे की हड्डी प्रत्यारोपण का यह पहला ऑपरेशन है। विशेषज्ञ ने जोड़ प्रत्यारोपण पूरी तरह सफल होने का दावा किया है। बता दें कि खड़गवां बड़का नार के रहने वाले लालाराम 6 महीने पहले दुर्घटना में गिर गए थे। इससे इनके कूल्हे का बॉल खराब हो गया था। बाहर इलाज कराने के बाद यह ठीक नहीं हुआ, जिसके बाद वे जिला अस्पताल पहुंचे। डाॅ. जीएस पैकरा व उनकी टीम ने सीमित संसाधनों के सहारे कूल्हे की हड्डी का प्रत्यारोपण कर अस्पताल में नया इतिहास रचा है, क्योंकि यह सर्जरी पहले बड़े शहरों के अस्पतालों में होती थी। डाॅ. पैकरा ने बताया कि मरीज की स्थिति को देखते हुए इलाज शुरू किया गया। परिणाम सकारात्मक मिले तो परिजन से सहमति लेकर जोड़ प्रत्यारोपण सर्जरी (टोटल हिप रिप्लेसमेंट) प्लान की। इसमें आर्टिफिशियल हड्डी लगाई। सर्जरी में करीब तीन घंटे लगे। डॉक्टर ने सर्जरी कामयाब होने का दावा किया है। स्टाफ के अनुसार यह हॉस्पिटल के इतिहास में कूल्हे की हड्डी प्रत्यारोपण पहली सर्जरी है। मरीजों को ऐसी सुविधाएं मेडिकल कॉलेज व बड़े शहरों में ही संभव हो पाती हैं। मरीज फिलहाल आर्थो वार्ड में भर्ती है। सर्जरी के बाद वह एकदम स्वस्थ है। सर्जरी में डॉ. पैकरा व उनकी टीम में एनेस्थीसिया डॉ. मरावी, स्टाफ अंजू लकड़ा, सचिन शर्मा, रंजू गुप्ता शामिल थे।

अब जिला अस्पताल में मिलती रहेगी ये सुविधा
कूल्हे का सफल प्रत्यारोपण करने पर सीएमएचओ ने डाॅक्टर व उनकी टीम को बधाई दी है। डाॅ. पैकरा ने बताया कि वृद्ध अब पूरी तरह स्वस्थ्य है और जल्द ही चलने फिरने लायक बनेगा। दोबारा एक्सरे किया गया और प्रत्यारोपण पूरी तरह सफल रहा। अब तक इन ऑपरेशनों के लिए मरीज को अंबिकापुर, रायपुर भेजा जाता था। अब यह सुविधा जिले में मिल पाएगी।

6 महीने से चलने फिरने में असमर्थ था लालाराम
लालाराम ने बताया कि वे 6 महीने से दमामी चल फिरने, बैठने में असमर्थ था। लोगों के सहारे उन्हें उठाना चलाना पड़ता था। परिजन निर्धन होने के कारण प्राइवेट अस्पताल नहीं ले जा पा रहे थे। जिला अस्पताल में हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ. पैकरा को दिखाया। इसके बाद डॉ. पैकरा ने प्रत्यारोपण किया।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज व्यक्तिगत तथा पारिवारिक गतिविधियों के प्रति ज्यादा ध्यान केंद्रित रहेगा। इस समय ग्रह स्थितियां आपके लिए बेहतरीन परिस्थितियां बना रही हैं। आपको अपनी प्रतिभा व योग्यता को साबित करने का अवसर ...

और पढ़ें