मनमानी / बारिश में चल रहा हाईवे का काम, इंजीनियर बोले- यहां काम कैसा चल रहा, बस यही देखने आया हूं

Highway work going on in the rain, the engineer said - how is the work going here, I have come to see just this
X
Highway work going on in the rain, the engineer said - how is the work going here, I have come to see just this

  • बारिश में कमजोर पकड़ से उखड़ सकती है करोड़ों की सड़क

दैनिक भास्कर

Jun 30, 2020, 04:00 AM IST

बैकुंठपुर. सड़कें मजबूत बनें इसलिए, कुछ नियम कायदे बनाए गए हैं। ऐसा ही एक नियम है कि बारिश के बीच डामर की सड़क नहीं बनाई जा सकती। यह प्रतिबंध इसलिए है क्योंकि, पानी में भीगना तो दूर सिर्फ सीलन से ही डामर की पकड़ कमजोर हो जाती है। इस रोक के बाद भी जिले में नेशनल हाईवे का निर्माण बारिश के बीच चल रहा है। ऐसे में सवाल यह उठता है कि यह हाईवे कितने दिन टिकेगा? और इस घटिया निर्माण और शासन के करोड़ों रुपए की बर्बादी का जिम्मेदार कौन होगा?
जिले में कटनी-गुमला नेशनल हाईवे 43 पर मध्यप्रदेश सीमा से सूरजपुर सीमा तक 10 मीटर चौड़ाई में डामरीकृत मार्ग और 2 लेन सड़क का काम 234 करोड़ से चल रहा है। कोरोना से काम प्रभावित होने के बाद मई से निर्माण में तेजी आई है पर बरसात शुरू होने के 15 दिन बाद भी सड़क पर बिना रुकावट के डामरीकरण जारी है। बता दें कि बरसात को देखते हुए 15 जून से 15 अक्टूबर तक के लिए सड़क निर्माण कार्य पर रोक लग गई है लेकिन एनएचएआई शासन के इस आदेश को अनदेखा कर सड़क पर डामरीकरण करवा रही है, जबकि जानकार बताते हैं कि बरसात में नमी होने से डामर और गिट्टी का मिश्रण सही नहीं होता, सरफेस पर भी नमी होती है और डामर जल्द उखड़ जाता है। 79 किमी तैयार किए जा रहे इस सड़क पर पिछले 10 दिन में करीब 10 किमी सड़क कंपनी ने पूरी कर दी है, ऐसे में कमजोर पकड़ से करोड़ों की सड़क को बड़ा नुकसान हो सकता है। शिकायतों पर रविवार को सड़क की जांच करने एनएचएआई के ईई वीके पटोरिया पहुंचे। जांच के दौरान उन्होंने कहा कि वे बारिश में चल रहे सड़क की जांच करने आए हैं। आगे कहा कि बरसात से सड़कों पर पानी भर रहा है, इसे देख रहे हैं। इधर स्थानीय अधिकारी कोरोना का बहाना बनाकर तर्क दे रहे हैं कि लॉकडाउन के कारण सभी कार्यों को ब्रेक लग गया था, अब जब काम को मंजूरी मिली है तो तेजी से काम चल रहा है। 
एक पुल का काम अटका हसदेव पुल अधूरा, पुराने पुल के ऊपर से गुजर रहा पानी
बता दें कि एनएच पर तैयार होने वाले 9 पुल-पुलियों के निर्माण में 8 पुलियों का निर्माण कंपनी ने करीबन पूरा कर लिया गया है, जबकि मनेंद्रगढ़ में एक पुल काम फारेस्ट क्लीयरेंस नहीं मिलने के कारण अटका हुआ है। जिला मुख्यालय में बाइपास सड़क पर 14 पुलिया और 1 पुल तैयार किए जा रहे हैं। इस पर भी जोर-शोर से काम जारी है। वहीं मनेंद्रगढ़ में हसदेव नदी पुल अधूरा होने से पुल के ऊपर से पानी गुजर रहा है, जिससे जान जोखिम में डालकर लोग गुजर रहे हैं। 

काम रोकने के लिए शासन से नहीं मिला आदेश: इंजीनियर किरण 
एनएच पर चल रहे डामरीकरण की गुणवत्ता को लेकर अक्सर सवाल उठते रहे हैं, वहीं अब विभाग बारिश के बावजूद डामरीकरण करने से परहेज नहीं कर रहा है। जिले में झमाझम बारिश के दौर के बावजूद विभाग डामरीकरण करवा रहा है। पटना में चल रहे डामरीकरण पर इंजीनियर किरण ने कहा कि काम रोकने शासन से कोई आदेश अब तक नहीं मिला है। 

डस्ट व अधूरी सड़क से परेशानी मुरुम की जगह डाली मिट्‌टी
उजियापुर में ओवरब्रिज पर अधूरी सड़क का काम परेशानी की वजह बना हुआ है। सड़क पर जगह-जगह गिट्टियां उखड़ रही हैं। बारिश रुकने के बाद डस्ट से लोगों को परेशानी हो रही है। सड़क किनारे मुरूम की जगह मिट्टी भराव होने से भारी वाहन अक्सर इसमें फंस रहे हैं। 

नगर में नाली को पाटा, बारिश का पानी घरों में घुस रहा, बढ़ी नाराजगी
नगर में रेलवे स्टेशन के पास एनएच कंपनी को 100 मीटर नाली बनानी थी लेकिन कंपनी ने पंचायत की नाली को पाट दिया, 6 घरों में बारिश का पानी घुस रहा है। अमित, संस्कार, राजीव मिश्रा, चंद्रशेखर राजवाड़े, कृष्ण मुरारी के घर में बारिश का पानी घुसने से वे परेशान हैं। 

हाईवे के रख-रखाव की जांच करने आए हैं: ईई
एनएच के ईई वीके पटोरिया ने कहा कि वे बरसात को देखते हुए एनएच के रख-रखाव की जांच करने आएं हैं, मुख्य रूप से बारिश के पानी की निकासी व्यवस्था को देख रहे हैं। वहीं एनएच एसडीओ बृजेश चतुर्वेदी ने कई बार कॉल करने के बाद भी फोन नहीं उठाया। 

बारिश में डामरीकरण नहीं होना चाहिए: कलेक्टर 
कोरिया कलेक्टर एसएन राठौर का कहना है कि एनएच सड़क निर्माण में डामरीकरण टेक्निकल काम है। इस समय करना चाहिए या नहीं, इसकी जानकारी लेकर मैं इस बारे में एनएच अथॉरिटी से बात करता हूं। हालांकि बारिश में डामरीकरण का काम नहीं होना चाहिए।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना