खुद उठाया बीड़ा / लॉकडाउन में पहाड़ी कोरवाओं ने मिलकर बनाई 5 किलोमीटर कच्ची सड़क

लॉकडाउन में रामनगर के ग्रामीणों ने गांव में बना दी कच्ची रोड। लॉकडाउन में रामनगर के ग्रामीणों ने गांव में बना दी कच्ची रोड।
X
लॉकडाउन में रामनगर के ग्रामीणों ने गांव में बना दी कच्ची रोड।लॉकडाउन में रामनगर के ग्रामीणों ने गांव में बना दी कच्ची रोड।

  • रामनगर के ग्रामीण 30 साल से कर रहे थे पक्की सड़क की मांग, इस काम से प्रभावित मंत्री टीएस बोले- जल्द बनेगी पक्की रोड

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

अंबिकापुर. लॉकडाउन में रामनगर के ग्रामीणों ने गांव को पंचायत और जनपद से जोड़ने के लिए आखिरकार खुद ही कच्ची सड़क 10 दिन में तैयार कर ली। ऐसा माना जा रहा है कि इसे बनाने में 10 से 12 लाख रुपए खर्च होते।
ग्रामीण पिछले तीन दशक से सड़क निर्माण के लिए सरकार से मांग करते आ रहे थे लेकिन मदद नहीं मिल रही थी। शहर से पांच किलोमीटर दूर यह गांव अब तक पहुंचविहीन था। ग्रामीणों की पहल से पंचायत मंत्री टीएस सिंहदेव व विधायक ने प्रभावित होकर पक्की सड़क बनाने का आश्वासन दिया है। रामनगर ग्राम पंचायत मलगांवा का आश्रित गांव है। शहर से लगे होने के बाद भी यह गांव मुख्य मार्ग से कटा हुआ है। ग्राम पंचायत से यह गांव तीन किलोमीटर दूर है और पंचायत से गांव तक लोगों को राशन पहुंचना भी मुश्किल था। जंगल के रास्ते किसी तरह से लोग आना-जाना करते थे। सरकारी शिविरों से लेकर शासन-प्रशासन से कई बार ग्रामीणों ने सड़क निर्माण के लिए अर्जी लगाई, लेकिन सड़क नहीं बनी। लॉकडाउन में ग्रामीण जब खाली हुए तो तय किया कि खुद से सड़क बनाएंगे। जनसहयोग से मलगंवा से रामनगर और कोरिमा तक 5 किलोमीटर कच्ची सड़क तैयार कर ली।
जल्द बनाई जाएगी पक्की सड़क: राकेश
जिला पंचायत उपाध्यक्ष राकेश गुप्ता ने बताया कि सालों से ग्रामीण सड़क के लिए आवाज उठा रहे थे लेकिन इस पर ध्यान नहीं दिया गया। ग्रामीणों ने जनसहयोग से सड़क तैयार कर प्रभावित किया। पंचायत मंत्री टीएस सिंहदेव गांव में पक्की सड़क के लिए पहल कर रहे हैं और जल्द सड़क तैयार होगी।
आंगनबाड़ी तक नहीं पहुंच पाते थे बच्चे
रामनगर से आंगनबाड़ी और स्कूल तीन किलोमीटर दूर है। सड़क नहीं होने के कारण बच्चे आंगनबाड़ी तक नहीं पहुंच पाते थे। वहीं स्कूल आने-जाने में भी बच्चे परेशान होते थे। उबड़, खाबड़ रास्ते से किसी तरह बच्चे स्कूल पहुंचते थे। वहीं बीमार पड़ने पर गांव में एम्बुलेंस तक नहीं पहुंच पाती थी।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना