पत्र जारी:चिरमिरी-नागपुर न्यू रेल लाइन प्रोजेक्ट में भूमि अधिग्रहण करने भू-अर्जन अफसरों ने लिखा पत्र

बैकुंठपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

चिरमिरी-नागपुर के बीच न्यू रेल लाइन प्रोजेक्ट के लिए भूमि अधिग्रहण को लेकर भू-अर्जन अधिकारी मनेंद्रगढ़ द्वारा राजस्व निरीक्षण समेत अन्य अधिकारियों को पत्र जारी कर सर्वे कार्य पूरा करने के बाद जल्द सर्वे प्रतिवेदन देने की बात कही है, जिससे आगे की कार्रवाई पूरी की जा सके। इस न्यू रेल लाइन प्रोजेक्ट के लिए 50 फीसदी केंद्र और 50 फीसदी राशि राज्य की सरकार खर्च करेगी। अधिकारी के द्वारा भू-अर्जन के संबंध में सर्वे को लेकर जारी पत्र के बाद प्रोजेक्ट के जल्द शुरू होने की उम्मीद जागी है।

यहां बात दें कि बीते चार साल से चिरमिरी-नागपुर न्यू रेल लाइन परियोजना अटकी हुई है, इसकी वजह सत्ता परिवर्तन के बाद कांग्रेस की सरकार बनी, जिसके चलते प्रोजेक्ट के शुरू होने में लेटलतीफी की जा रही है। दरअसल यह प्रोजेक्ट राज्य की भाजपा सरकार ने साल 2016-17 में चिरमिरी के स्थायित्व और लंबी दूरी की ट्रेन चलाने समेत बड़े जंक्शन से महानगरों के लिए बेहतर कनेक्टिविटी के लिए तैयार किया गया और इसमें केंद्र और राज्य सरकार को 50-50 फीसदी राशि खर्च करना था, लेकिन सत्ता परिवर्तन के बाद लगातार भाजपा द्वारा इस प्रोजेक्ट को लेकर सरकार को घेरा। विपक्ष ने आरोप लगाते हुए कई बार यह कहा कि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार अपने हिस्से का 50 फीसदी राशि जारी करने में लापरवाही बरत रही है, जिससे कोरिया जिले को मिलने वाले स्थायित्व के लिए भाजपा सरकार द्वारा बनाई गई महत्वाकांक्षी योजना शुरू नहीं हो पा रहा है। इसके लिए लगातार एडव्होकेट विजय प्रकाश पटेल ने एक साल तक घंटानाद कार्यक्रम मनेंद्रगढ़ में चलाया।

सर्वे करने के लिए निर्देश दिए हैं: एसडीएम
मामले में मनेंद्रगढ़ के भू-अर्जन एसडीएम ने राजस्व निरीक्षक, बंजी, चिरईपानी, सरभोका समेत खैरबना के पटवारी, वन विभाग रेलवे इंजीनियर को पत्र जारी कर न्यू रेल लाइन प्रोजेक्ट के लिए भूमि का सर्वे कर प्रतिवेदन देने के संबंध में कहा है।

खबरें और भी हैं...