पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लापरवाही का आलम:मदनपुर में घर से एक किमी दूर नाले से पानी लेने सुबह 5 बजे घर से निकलती हैं महिलाएं, इसलिए इस गांव में नहीं होती लड़कों की शादी

अंबिकापुर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बलरामपुर जिले के कई गावों में लोग नदी व नालों का पी रहे पानी, जिम्मेदार बेपरवाह, सरपंच नहीं लगवा रहे एक भी हैंडपंप
  • बलरामपुर जिले के मनोहरपुर ग्राम पंचायत में पानी की भारी किल्लत, सोलर लाइट बंद रहने से रात में रहता है अंधेरा

बलरामपुर जिले के मनोहरपुर ग्राम पंचायत के गांव मदपुर में पीने के लिए महिलाओं को एक किलोमीटर दूर पगडंडी रास्तों से होकर जाना पड़ता है। वहीं किसी भी घर में बिजली नहीं है। सोलर बल्ब लगाए गए हैं लेकिन वे दो साल से खराब हैं तो यहां पहुंचने के लिए सड़क तक नहीं है।

इसे देखते हुए यहां के लड़कों की शादी के लिए लोग बेटी नहीं दे रहे हैं। वहीं इस समस्या को लेकर यहां के लोग पूर्व विधायक सिद्धनाथ पैकरा व संसदीय सचिव चिंतामणि महाराज को अवगत करा चुके हैं फिर भी कोई पहल नहीं हुई है। दैनिक भास्कर टीम ने शंकरगढ़ ब्लाॅक मुख्यालय से 20 किलोमीटर दूर इस गांव के लोगों की शिकायत पर जाकर जायजा लिया तो पता चला कि गांव में करीब 60 परिवार हैं।

गांव में एक भी हैंडपंप तक नहीं है। इसके लिए पंचायत ने अब तक पहल की और न ही वोट मांगने वाले नेताओं ने। यहां के ग्रामीण पुष्पा यादव ने बताया कि दो वक्त की रोटी के लिए उन्हें जितना मेहनत नहीं करनी पड़ता है उससे अधिक परेशानी पीने के पानी के लिए होती है। रात में बच्चे बिजली के अभाव में पढ़ाई नहीं कर पाते हैं क्योंकि सोलर बल्ब खराब हो गए हैं।

अब तक गांव का प्राथमिक स्कूल भवन पड़ा है अधूरा
मदपुर गांव में एक मात्र प्राथमिक स्कूल है, लेकिन उसके लिए इस साल भवन बन रहा है। बच्चे आंगनबाड़ी भवन के बाहर आंगन में पढ़ते हैं। विधायक चिंतामणि महाराज डेढ़ माह पहले गए थे। वहीं जब स्कूल में कोरोना से पहले मिड डे मिल बच्चों को दिया जा रहा था तब भी बच्चे नाला से पानी पीते थे। तब भी किसी अफसर ने नहीं सोचा कि गांव में हैंडपंप लगवाया जाए।

एंबुलेंस नहीं पहुंचती, गर्भवती को झेलगी में लेकर जाते हैं
फूलचंद नामक ग्रामीण ने कहा कि वह बुजुर्ग हो गया है, गांव के किसी भी लड़के के विवाह के लिए लड़की पक्ष के पास रिश्ता लेकर जाते हैं तो पानी व बिजली नहीं होने पर लोग शादी के लिए रिश्ता तय नहीं करते हैं। वहीं जब कोई गर्भवती हो जाती है तो प्रसव पीड़ा पर गांव में एम्बुलेंस नहीं पहुंच पाती है और झेलगी में ढोकर ले जाना पड़ता है।

ग्रामीण बोले- तत्काल हैंडपंप लगाया जाए
बलरामपुर जिले के ही धंधापुर पंचायत के महुआपारा में महुवारी में कई परिवार रहते हैं। यहां लोहार जाति के भी कुछ परिवार हैं लेकिन पेयजल के लिए उन्हें भी एक किलोमीटर दूर जाना पड़ता है। यहां के ग्रामीणों ने तत्काल हैंडपंप खनन की मांग की है। वहीं महुवारी में महुआ चुनने आने वालों को पेयजल के लिए परेशान होना पड़ रहा है।

कुआं निर्माण की स्वीकृति मिली है
शंकरगढ़ ब्लाॅक के जनपद सीईओ प्रमोद कुमार सिंह ने कहा कि मदपुर में कुआं निर्माण स्वीकृत हुआ है। दो चार दिन में कुआं की खुदाई शुरू होगी। हैंडपंप तब लगेगा जब स्कूल भवन का निर्माण पूरा होगा। वहीं रोड निर्माण घाट कटिंग के कारण नहीं हुआ है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज मार्केटिंग अथवा मीडिया से संबंधित कोई महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है, जो आपकी आर्थिक स्थिति के लिए बहुत उपयोगी साबित होगी। किसी भी फोन कॉल को नजरअंदाज ना करें। आपके अधिकतर काम सहज और आरामद...

    और पढ़ें