सतर्कता / कोरोना से लड़ रहे हमारे वाॅरियर्स नए रोस्टर में 24 दिन तक रहेंगे परिवार से दूर

Our Warriors fighting Corona will stay away from family for 24 days in the new roster
X
Our Warriors fighting Corona will stay away from family for 24 days in the new roster

  • मेडिकल काॅलेज ने नए रोस्टर से लगाई डाॅक्टरों की ड्यूटी,10 दिन ड्यूटी के बाद 14 दिन रहेंगे होम क्वारेंटाइन

दैनिक भास्कर

May 29, 2020, 05:00 AM IST

अंबिकापुर. कोविड उपचार केंद्र में ड्यूटी करने वाले डाॅक्टर्स व मेडिकल स्टाफ को अब अपने परिवार से मिलने के लिए 24 दिन का इंतजार करना पड़ेगा। इस नए ड्यूटी रोस्टर से इनमें नाराजगी भी सामने आ रही है। यह स्थिति मेडिकल काॅलेज अस्पताल अंबिकापुर में बन रही, लेकिन कोई खुलकर सामने नहीं आ रहा है। हालांकि प्रबंधन इससे इनकार कर रहा है। 
शासन के नए नियमों के तहत अब अस्पताल प्रबंधन ने कोविड वार्ड में 7 दिन  की जगह 10 दिन का ड्यूटी रोस्टर शुरू कर दिया है और दूसरे बैच की ड्यूटी भी लगा दी गई है। ये दस दिनों तक ड्यूटी करने के बाद 14 दिनों तक क्वारेंटाइन रहेंगे। इस दौरान सबकुछ ठीक रहने पर ही वे घर जा पाएंगे। यहां बता दें कि पहले ड्यूटी व क्वारेंटाइन में रहने पर 21 दिन परिवार से दूर रहना पड़ता था।
ड्यूटी के बाद 1 डाॅक्टर सहित तीन का स्टाफ है क्वारेंटाइन
मेडिकल काॅलेज अस्पताल के कोविड वार्ड में ड्यूटी करने वाली पहली टीम 14 दिन के लिए क्वारेंटाइन हो गई है। इनका सैंपल भी लेकर जांच के लिए भेज दिया गया है। पहली टीम में एक डाॅक्टर, एक नर्स व एक वार्ड ब्वाय शामिल हैं। इन्हें 23 मई को क्वारेंटाइन में भेजा गया है। इनकी जगह दो डाॅक्टर्स सहित 5 लोगों की टीम 10 दिनों के लिए ड्यूटी कर रही है। फिलहाल केस भी लगातार बढ़ रहे हैं। ऐसे में जब तक कोरोना संक्रमितों के केस कम नहीं होंगे। इनको इसी तरह ड्यूटी करनी होगी।
जिंदगी जोखिम में डालकर संक्रमित का कर रहे इलाज
बहरहाल अपनी जिंदगी दांव पर लगाकर ये हमारे कोरोना वारियर्स रोज ड्यूटी कर रहे हैं। अंबिकापुर के कोविड उपचार केंद्र में अभी 22 मरीज भर्ती हैं। इससे यहां अभी तीन डाक्टर्स, दो नर्स व दो सफाई कर्मी की ड्यूटी लगी है। हालांकि प्रबंधन भी मानता है कि जोखिम भरी ड्यूटी के साथ 24 दिन तक परिवार से अलग रहना मानवीय दृष्टिकोण से थोड़ा मुश्किल भरा काम है।
पीपीई किट में घंटों ड्यूटी कर रहे हैं हमारे कोरोना योद्धा
हमारे मेडिकल स्टाफ जान जोखिम में डालकर काम कर रहे हैं। अभी वार्ड में ये 12 घंटे की ड्यूटी करते हैं। इसके बाद दूसरी टीम जाती है। पीपीई किट में इतने समय तक अंदर रहना किसी लड़ाई में जाने से कम नहीं है। फिर भी इनके हौसले कम नहीं हैं। इनके लिए वार्ड के पास आराम करने के लिए कमरे बनाए गए हैं। इसके लिए पेइंग वार्ड को ले लिया गया है।
कोविड वार्ड में 22 कोरोना मरीजों का चल रहा इलाज
मेडिकल काॅलेज अस्पताल के कोविड वार्ड में अभी सरगुजा संभाग के 22 मरीज भर्ती हैं। इनमें 3 महिला व 19 पुरुष शामिल हैं। इनमें से दो में कोरोना के कुछ लक्षण थे। इनके साथ अन्य सभी की हालत सामान्य है। अस्पताल प्रबंधन के अनुसार मोमिनपुरा निवासी महिला की दो रिपोर्ट निर्णायक आई हैं। महिला की हालत ठीक है। इसलिए इसे छुट्टी दी जा सकती है।
सरकार का निर्णय: कम स्टाफ में ज्यादा काम हो इसलिए शासन ने बढ़ाया है ड्यूटी का रोस्टर
"शासन के नए निर्देश के अनुसार अब कोविड वार्ड में सात दिन की जगह 10 से 14 दिन की ड्यूटी लगाई जा सकती है। इससे किसी में नाराजगी की बात नहीं आई है। यह थोड़ा कठिन है, लेकिन कम स्टाफ में ज्यादा काम हो इसलिए ऐसा किया गया है। सभी इसी में शामिल हैं जो जाएंगे तो जरूरत पड़ने पर स्टाफ की कमी महसूस होने लगेगी। क्योंकि अस्पताल में ओपीडी सहित दूसरे काम भी चल रहे हैं।"
-डाॅ. लखन सिंह, एचओडी मेडिसिन विभाग, मेडिकल काॅलेज अस्पताल, अंबिकापुर

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना