पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ऐसी अनदेखी:पंचायतों की लापरवाही से पौधे व ट्री-गार्ड खराब, मनरेगा योजना के तहत 28 ग्राम पंचायतों में लाखों की लागत से रोपे गए थे पौधे

पटना6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

मनरेगा के तकनीकि सहायक और 28 ग्राम पंचायत के सरपंच, सचिव, रोजगार सहायकों ने पौधरोपण के नाम पर शासन के लाखों रुपए का दुरुपयोग किया है। प्रत्येक ग्राम पंचायतों में 5 से 9 लाख रुपए पौधरोपण के नाम पर खर्च करने की औपचारिकता पूरी कर लगाए गए पौधों की समुचित देखभाल व आवश्यक रख-रखाव की ओर ध्यान नहीं दिया गया है। जिसके चलते आज स्थिति यह है कि पौधों के साथ-साथ पौधों की सुरक्षा के लिए लगाए गए ट्री-गार्ड नष्ट हो गए हैं।

बता दें कि कोरिया जिले के बैकुंठपुर विकासखण्ड के अंतर्गत ग्राम पंचायत बुड़ार, रटगा, अमहर, जमड़ी, खुटरापारा, कंचनपुर, जुनापारा, कुड़ेली, डबरीपारा, सलका, सोरगा, मझगंवा, डुमरिया, बस्ती, उमझर, पटना, चेरवापारा, नगर, झरनापारा, ओड़गी, मझगंवा, सलबा, सरभोका, खोड़री, भांड़ी, मनसुख, तेन्दुआ एवं जटासेमर में मनरेगा योजना के तहत पौधरोपण व ट्री-गार्ड के नाम पर लाखों रुपए खर्च किए गए थे। उसके बाद पौधों की देखरेख और आवश्यक रखरखाव की ओर पंचायत प्रतिनिधियों ने ध्यान नहीं दिया, जिससे पौधे नष्ट हो गए। बैकुन्ठपुर अंतर्गत लगाए गए पौधे व ट्री-गार्ड की सुध लेने के लिए जनपद पंचायत बैकुन्ठपुर के सीईओ ने तकनीकि सहायक व संबंधित पंचायत के सरपंच, सचिव एवं रोजगार सहायकों को पत्र जारी कर पौधों की सुध लेते हुए रोपित किए गए पौधों की शत-प्रतिशत जीवितता के लिए पौधरोपण कार्यों का रख रखाव अपनी ग्राम पंचायत स्तर पर सुनिश्चित करने, क्षतिग्रस्त ट्री-गार्ड की मरम्मत कराने का आदेश पिछले साल 28 दिसम्बर को दिया था। आदेश जारी किए 5 महीने बीत गए, लेकिन आज तक नष्ट हुए पौधों व नष्ट हो रहे ट्री-गार्ड की ओर ध्यान नहीं दिया।

खबरें और भी हैं...