पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्रतियोगिता:स्टेट पावर लिफ्टिंग स्पर्धा में खिलाड़ियों को मिला 9 गोल्ड

बैकुंठपुर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • महिला वर्ग में अलीशा को दो गोल्ड और संजीता खातून को स्ट्रांग वूमेन छत्तीसगढ़ का खिताब मिला

छत्तीसगढ़ स्टेट पॉवर लिफ्टिंग एसोसिएशन कोरबा के तत्वावधान में आयोजित राज्य स्तरीय पुरुष व महिला डेड लिफ्ट और बेंच प्रेस प्रतियोगिता में कोरिया जिले के खिलाड़ियों ने उत्कृष्ट प्रदर्शन करते हुए नौ गोल्ड, दो रजत समेत दो कांस्य पदक जीतने में सफलता पाई है। वहीं स्ट्रांग वूमेन छत्तीसगढ़ मास्टर वर्ग का खिताब जिले की संजीदा खातून को दिया गया है।

4 और 5 सितम्बर को कोरबा के राजीव गांधी ऑडिटोरियम में आयोजित राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में प्रदेश के सभी जिलो से करीब 350 खिलाड़ी शामिल होने पहुंचे थे। यहां जिले के खिलाड़ियों ने हर बार की तरह इस बार भी बेहतर प्रदर्शन करते हुए 9 स्वर्ण सहित समेत 13 पदक जीत हासिल करने में सफल रहे। वहीं महिला वर्ग मास्टर 2 में संजीदा खातून ने 2 स्वर्ण पदक और महिला वर्ग सीनियर में शेख अलीशा ने 2 स्वर्ण पदक प्राप्त कर क्षेत्र को गौरवांवित किया है, दिव्यांग वर्ग में धर्मेंद्र दास ने 1 स्वर्ण पदक, जूनियर वर्ग में दिवस प्रसाद, फारूक अंसारी ने स्वर्ण पदक और 1 रजत पदक जीता है।

इसके अलावा पुरुष सब-जुनियर वर्ग में संजू दास ने 2 कांस्य पदक, गौतम कुमार ने कांस्य पदक और पिंटू मलिक ने 1 स्वर्ण पदक प्राप्त किया है। सीनियर वर्ग में रवि कुमार ने 1 स्वर्ण पदक अपने नाम किया। स्ट्रांग वूमेन छत्तीसगढ़ मास्टर वर्ग का खिताब जिले की संजीदा खातून ने अपने नाम किया। साथ ही कोरिया जिले के खिलाड़ियों में बेस्ट डिसिप्लिन का खिताब भी अपने नाम किया है। सभी खिलाड़ियों ने इस उपलब्धि के लिए जिम ट्रेनर धर्मेंद्र दास व राम नारायण सिंह के राष्ट्रीय स्तर पावर लिफ्टर व आईबीबीएफ बॉडी बिल्डर को दिया है। खिलाड़ियों ने बताया कि राज्य स्तरीय खेल प्रतियोगिता में इस प्रदर्शन के बाद सभी के हौसले बुलंद है। अब आगे की खेल प्रतियोगिता में शामिल होने के लिए और कड़ी मेहनत करेंगे। वहीं संजीदा खातून ने बताया कि 350 खिलाड़ी अलग विधा के खेल में शामिल होने पहुंचे थे, लेकिन सभी के बीच कड़ा मुकाबला था। हम अच्छा प्रदर्शन करने में सफल रहे है। जिम ट्रेनर धर्मेंद्र दास ने बताया कि यह उपलब्ध आने वाली पीढ़ी को प्रोत्साहित करेगी, क्योंकि मोबाइल के जमाने में आज के बच्चे मैदान में जाकर पसीना बहाना भूल गए है। जिन खिलाड़ियों ने आज मेडल प्राप्त किया है वे अपने क्षेत्र के लोगों को खेल के प्रति प्रोत्साहित करे।

खबरें और भी हैं...