पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

चक्रवात की बदली दिशा:ओडिशा से मध्य छत्तीसगढ़ तरफ पहुंचा, सरगुजा में असर कम

अंबिकापुर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बारिश के बीच प्रतापपुर रोड में वन विभाग के सामने ऐसा रहा नजारा। - Dainik Bhaskar
बारिश के बीच प्रतापपुर रोड में वन विभाग के सामने ऐसा रहा नजारा।
  • दिनभर रिमझिम बारिश, 24 घंटे छाए रहेंगे बादल, दिन का तापमान 25 डिग्री पर पहुंचा

बंगाल की खाड़ी से चले चक्रवात की दिशा ओडिशा से मध्य छत्तीसगढ़ की ओर होने से सरगुजा में इसका आंशिक असर ही रहा। इसके प्रभाव से दिनभर बादल छाए तो रहे, लेकिन रिमझिम बारिश से ही संतोष करना पड़ा। हवा के बीच रुक-रुककर बारिश होती रही। मंगलवार की शाम तक अंबिकापुर में करीब 10 मिमी ही बारिश ही दर्ज की गई।

इससे कुछ राहत तो मिली है, लेकिन बारिश की कमी की पूर्ति का इंतजार अभी बना हुआ है। खासकर दरिमा, उदयपुर, सीतापुर सहित चार तहसीलों में जहां औसत से काफी कम बारिश अब तक दर्ज की गई है। बहरहाल बादलों से अभी कुछ उम्मीद बंधी है।

आसमान में पूरे दिन बादल छाए रहे और धूप तक नहीं निकली। इससे दिन के तापमान में काफी गिरावट दर्ज की गई है। मंगलवार को अंबिकापुर का अधिकतम तापमान 25 डिग्री के करीब रहा। इधर चक्रवात कोरबा-बिलासपुर होते हुए मध्यप्रदेश की ओर बढ़ रहा है।

24 घंटे तक छाए रहेंगे बादल हल्की बारिश भी संभव

मौसम विज्ञान केंद्र अंबिकापुर के मेट्रोलाजिस्ट एएम भट्‌ठ ने बताया चक्रवात की दिशा बिलासपुर होते हुए मध्यप्रदेश की ओर है। इससे सरगुजा में इसका असर कम रहा। बुधवार को प्रदेश के कई स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने अथवा गरज-चमक के साथ छींटे पड़ने की संभावना है।

जिले के चार तहसीलों में औसत से कम बारिश

सरगुजा जिले की चार तहसील सीतापुर, उदयपुर, दरिमा व लुंड्रा में स्थिति ज्यादा खराब है। इन तहसीलों में औसत से कम बारिश हुई है। दरिमा में तो औसत से 42 प्रतिशत कम वर्षा दर्ज की गई है। इसी प्रकार अन्य तीन तहसीलों में 28 से 40 प्रतिशत कम बारिश हुई है।

खबरें और भी हैं...