दाे बसों में कर्मियों को भेजते तो टल जाता हादसा:एसईसीएल भटगांव जीएम की लापरवाही से नदी में गिरी बस 50 सीटर बस में 70 कर्मियों को ड्यूटी करने भेज रहे थे खदान

अंबिकापुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
घायलों को पानी से निकालते ट्रक ड्राइवर व राहगीर। - Dainik Bhaskar
घायलों को पानी से निकालते ट्रक ड्राइवर व राहगीर।
  • सुखड़ी पुल की रेलिंग तोड़ नदी में गिरी बस, 1 की मौत, 8 बिलासपुर रेफर, 33 अंबिकापुर में भर्ती

सूरजपुर जिले के भटगांव स्थित एसईसीएल की काॅलोनियों से महान-2 और महान-3 कोल माइंस में बस में क्षमता से अधिक कर्मियों को ड्यूटी लेकर जा रही बस सुखड़ी नाला से 20 फीट नीचे नदी में गिर गई। बस में सवार 70 में से 8 कर्मचारियों को अपोलो अस्पताल बिलासपुर भेजा गया। वहीं 40 अन्य कर्मचारी जख्मी हुए हैं, जिनमें से 33 का इलाज अंबिकापुर के निजी अस्पताल में चल रहा है। इनमें पंप ऑपरेटर बसंत की अस्पताल में मौत हो गई।

घटनास्थल से ही कुछ घायलों को अंबिकापुर लाया गया तो बाकी को निजी वाहनों से भटगांव अस्पताल पहुंचाया गया। पर्याप्त एम्बुलेंस नहीं होने पर घटनास्थल से घायलों को निजी वाहनों व ट्रक से भी भटगांव अस्पताल लाया गया, जहां से परिजन निजी वाहनों से अंबिकापुर के निजी अस्पताल ले गए। कइयों के हाथ-पैर टूट गए। रोजाना महान 2 व महान 3 कोल माइंस के कर्मचारी अलग-अलग बसों में सवार होकर सुबह की पाली में ड्यूटी जाते थे, लेकिन रविवार को एक ही 50 सीट वाली बस में 70 से अधिक कर्मचारियों को ठूंस-ठूंसकर ड्यूटी के लिए भेजा जा रहा था। यह नदी करीब 50 मीटर चौड़ी है और बारिश की वजह से इसमें बहाव भी काफी तेज है। बनारस मार्ग पर सोनगरा होते ग्राम बोझा व खड़गवां के बीच स्थित सुखड़ी नाला पुलिया में बस अनियंत्रित होकर गिर गई।

ट्रक ड्राइवरों ने की मदद: मची चीख-पुकार, एंबुलेंस भी कम
प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि तेज रफ्तार बस पुल में जैसे ही पहुंची तो एक पहिया गड्ढे में पड़ा और अनियंत्रित होकर पुल की रेलिंग को तोड़कर नीचे गिर गई। राहगीरों और ट्रक चालकों ने घायलों को किसी तरह बस से निकाला। कई लोग बस के सामने का कांच टूटने के बाद बस से छिटककर नदी में जा गिरे। हादसे के बाद चारों तरफ चीख-पुकार मच गई, मदद करने वाले समझ नहीं पा रहे थे कि वे घायलों को कैसे अस्पताल भेजें, क्योंकि वहां एम्बुलेंस पहुंचने में काफी समय लग रहा था।

सुखड़ी पुल से नदी में गिरी बस
सुखड़ी पुल से नदी में गिरी बस

गैर जिम्मेदारी: हादसे के बाद जीएम का मोबाइल बंद
एसईसीएल ने कर्मचारियों को माइंस तक पहुंचाने और लाने के लिए श्रीराम ट्रेवल्स से अनुबंध किया है। इसके बाद भी यात्रियों को एक ही बस में भेजा जा रहा था, जबकि दो बसों में कर्मचारियों को भेजना था। सबसे अधिक कर्मचारी महान 3 माइंस के थे और इसमें महिलाएं भी शामिल थीं। उन्हें भी चोट लगी हैं। वहीं घटना के बाद एसईसीएल के भटगांव जीएम से बात करने की कोशिश की गई, लेकिन यहां भी वे लापरवाह दिखे और मोबाइल बंद कर लिया।

ड्राइवर फरार: पुलिस ने बस चालक पर किया केस दर्ज
घायलों को बस व नदी से निकालने लोगों व राहगीरों ने तत्परता दिखाई। कई घायल कर्मचारी नदी में बह जा रहे थे, लेकिन उन्हें लोगों ने किसी तरह नदी के किनारे तक पहुंचाया। इस दौरान कई कर्मचारियों के बैग और दूसरे सामान नदी में बह गए। वहीं घटना के बाद बस चालक का पता नहीं चला। पुलिस ने मामले में वाहन चालक के खिलाफ केस दर्ज किया है। वहीं पुल के ऊपर सड़क पर गड्ढे के कारण हादसे होने के कारण लोग सड़क के जिम्मेदार इंजीनियर व अफसरों पर केस दर्ज करने की मांग पुलिस से कर रहे हैं।

एसईसीएल के ये कर्मचारी हैं जख्मी
घायलों में राघवेंद्र पटेल, संतोष कुमार यादव, जय सिंह, सुभाष शर्मा, विपिन बिहारी मिश्रा, संतोष कुमार बरई, धर्मेंद्र सिंह, दूजराम बर्मन, उदयनाथ दुबे, अनिल सिंह, अजय द्विवेदी, राजनाथ, सियाराम, रेवती, सुनील, सूरज, बड़ो बाई, छत्रपाल प्रजापति, धर्मपाल सिंह, हंसाराम प्रधान, गुरु प्रसाद सिंह, मन्नू लाल उरांव, मनोहर, नसीम आलम, इंद्रसेन, विधानचंद्र राय, नागेंद्र सिह, खगेंद्र मंडल, मसरुद्दीन, उमेश कुमार मिश्रा, अमित तिवारी, अरविंद्र सिंह, रावेंद्र पटेल, रामकुमार, सुनील कुमार, केएल वाडेकर, रमाकांत पटेल, कैलाश गिरी, शशांक श्रीवास्तव, कादिर रसूल, कृष्णा देवांगन व शशिकांत शामिल हैं।

हादसे के कारण की कराएंगे जांच: पीआरओ
एसईसीएल बिलासपुर पीआरओ सनिश चंद्रा ने बस में क्षमता से अधिक कर्मियों को बैठाने के सवाल पर कहा प्रबंधन घायलों के इलाज और जान बचाने में जुटा है। स्थिति सामान्य होने पर जांच कराएंगे। अभी हादसा कैसे हुआ है, इसका पता नहीं चला है।

पीआरओ से करें बात: भटगांव जीएम झा
एसईसीएल भटगांव क्षेत्र के जीएम कृष्ण मोहन झा से हादसे के बारे में जानकारी के लिए संपर्क किया गया तो उन्होंने पीआरओ से संपर्क करने की बात कहकर फोन डिस्कनेक्ट कर दिया।

खबरें और भी हैं...