पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मांग पर अड़े:संसदीय सचिव से ग्रामीण बोले- वादे बहुत कर चुके, अब भरोसा नहीं, सड़क, बिजली, पानी पहुंचाइए तब गांव लौटेंगे

अंबिकापुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बातचीत करने पहुंचे संसदीय सचिव व विधायक राजवाड़े को बैजनपाट के ग्रामीणों ने दिया जवाब

सूरजपुर जिले के ओडगी ब्लाॅक के खोहिर पंचायत के बैजनपाट व तेलाईपाट के ग्रामीणों द्वारा गांव में विकास कार्य नहीं होने के कारण पहाड़ से नीचे नदी किनारे नया गांव बसाने की दैनिक भास्कर में खुलासे के बाद पूरा प्रशासन और जनप्रतिनिधि उन्हें समझा रहे हैं, लेकिन आजादी के 73 सालों में हजारों बार आश्वासन के भरोसे रहने वाले यहां के ग्रामीणों को अब विकास के वादे पर भरोसा नहीं हो रहा। गुरुवार को संसदीय सचिव व विधायक पारसनाथ राजवाड़े के साथ सभी विभागों के अफसर भी पहुंचे लेकिन गांव वालों ने उन्हें लौटा दिया और बोले कि अब हम यहीं रहेंगे। विधायक ने बताया कि बैजनपाट व तेलाईपाट के कुछ लोग पहाड़ से नीचे बसना चाहते हैं, लूल व भुण्डा वाले नीचे नहीं आना चाहते हैं। वे लोग गुमराह में फंसे हैं। विधायक गुरुवार को उनके बीच पहुंचे थे। लोगों ने बात नहीं मानी, लोगों ने विधायक से कहा कि आप पहले वहां सड़क बनाइए, स्कूल भवन, आंगनबाड़ी, अस्पताल बनाइए, तब हम गांव लौटेंगे।

विधायक बोले- कर रहे गांव का विकास
विधायक ने इस मसले पर भास्कर से कहा कि भाजपा की प्रदेश में 15 साल सरकार रही, लेकिन वहां के विकास के लिए काम नहीं हुआ, दो साल में हमने वहां 40 लाख खर्च कर लिफ्ट से सौर सिस्टम लगाकर पानी पहुंचाने की कोशिश की, वन विभाग ने सीसी सड़क भी कुछ सौ मीटर बनाई है लेकिन 12 किमी की पहाड़ी पर तुरंत संभव नहीं है। यहां घाट कटिंग के लिए 65 लाख दिए जा रहे हैं और मार्च के बाद और राशि दी जाएगी।

साथ रहें तो विस्थापन पर होगा विचार
विधायक ने कहा कि अब अगर आधा ग्रामीण बैजनपाट में तो आधा नीचे रहेंगे तो फिर नई बस्ती उन्हें नहीं बसाने देंगे, जंगल नहीं उजाड़ने देंगे। यदि सभी ग्रामीण एकजुट हो जाएं और पूरी तरह बैजनपाट में नहीं रहेंगे तो विस्थापन पर विचार किया जाएगा। इसके बाद जहां संभव होगा, वहां पर नई बस्ती बसाकर ग्रामीणों को विस्थापित कर दिया जाएगा। इस पर भी विचार किया जा सकता है।

ग्रामीणों से मिलने अकेले पहुंचे विधायक, की चर्चा
विधायक जंगल में ग्रामीणों से मिलने अकेले गए थे, वहीं अफसर बैजनपाट गए थे, लेकिन तीन चार घरों में महिलाएं ही थीं। अधिकारियों ने वहां मूलभूत सुविधाओं को वहां कैसे विकसित किया जा सकता है, इस पर विचार किया, इस दौरान स्वास्थ, महिला बाल विकास, शिक्षा, पीएचई सहित पंचायत विभाग के अधिकारी शामिल थे।

डीएफओ ने गांव छोड़ने पर 10 लाख का दिया आश्वासन
खोहिर पंचायत से पहाड़ी शुरू होती है, पहाड़ी में सबसे पहले बैजनपाट फिर आगे लूल गांव, भुण्डा और आखिरी में तेलाईपाट आता है। इन चारों गावों की कुल दूरी 25 किमी से अधिक है। ऐसे में अब जब बैजनपाट के लोग विकास के अभाव में गांव छोड़ दिए हैं तो दूसरे गांव के लोग भी गांव छोड़े इसलिए गुरु घासीदास अभ्यारण के डीएफओ ने गांव वालों को कहा है कि आप लोग अगर गांव छोड़ते हैं तो आप लोगों के विस्थापन के लिए दस दस लाख दिए जाएंगे। ऐसा इसलिए क्योंकि ये गांव अभयारण्य क्षेत्र में हैं और अभयारण्य क्षेत्र को टाइगर रिजर्व बनाने की प्लानिंग है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज समय कुछ मिला-जुला प्रभाव ला रहा है। पिछले कुछ समय से नजदीकी संबंधों के बीच चल रहे गिले-शिकवे दूर होंगे। आपकी मेहनत और प्रयास के सार्थक परिणाम सामने आएंगे। किसी धार्मिक स्थल पर जाने से आपको...

    और पढ़ें