• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Bilaspur
  • Ambikapur
  • Villagers Said Elephants Roaming In The Areas, Yet They Do Not Make Money, If The Forest Staff Visits The Forests Regularly, Then No Family Is Destroyed By The Attack Of Elephants

हाथियों की दहशत:ग्रामीण बोले- क्षेत्रों में घूम रहे हाथी, फिर भी नहीं कराते मुनादी, वन अमला जंगलों का नियमित दौरा करे तो हाथियों के हमले से नहीं उजड़े कोई परिवार

प्रतापपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हाथी के दल ने घर लौट रहे युवक को पटक-पटककर मार डाला। - Dainik Bhaskar
हाथी के दल ने घर लौट रहे युवक को पटक-पटककर मार डाला।
  • बहरादेव हाथी के दल ने प्रतापपुर में युवक को मार डाला, ग्रामीणों ने 4 घंटे तक सरहरी-प्रतापपुर मार्ग किया जाम डीएफओ के आश्वासन के बाद माने

सूरजपुर जिले में हाथियों का उत्पात बढ़ता ही जा रहा है। इसके पीछे वजह यह है कि वन विभाग हाथी प्रभावित क्षेत्रों के ग्रामीणों को हाथी के लोकेशन की जानकारी नहीं देते और न ही वे क्षेत्र भ्रमण पर निकलते हैं। यही वजह है कि इसका खामियाजा यहां के लोगों को अपनी जान गंवाकर भुगतनी पड़ती है।

इसका एक और नतीजा है कि मंगलवार रात बहरादेव हाथी के दल ने घर लौट रहे युवक को पटक-पटककर मार डाला। मामले की जानकारी लगते हुए बुधवार सुबह ग्रामीण आक्रोशित हो गए और प्रतापपुर मार्ग 4 घंटे तक जाम लगाकर प्रदर्शन किया। वन विभाग के रेंजर कमलेश राय सुबह करीब 9 बजे गांव पहुंचे तो वहां मौजूद महिलाओं ने रेंजर से भी बदसलूकी की। महिलाओं ने रेंजर की कॉलर पकड़ ली और उनके साथ अभद्रता शुरू कर दी। यह बवाल काफी देर तक चलता रहा। विवाद बढ़ता देख आसपास के लोगों ने ही महिलाओं को शांत कराया, लेकिन ग्रामीण लगातार वन विभाग के खिलाफ नारेबाजी करते रहे। इसके बाद मौके पर पहुंचे वन विभाग के अफसरों ने करीब 4 घंटे बाद इस हंगामे को शांत कराया। करीब 4 घंटे तक चले चक्काजाम को मौके पर पहुंचे डीएफओ के आश्वासन के बाद खत्म किया।

युवक की मौत पर गुस्साए ग्रामीण, महिलाओं ने रेंजर की कॉलर पकड़ी
युवक की मौत पर गुस्साए ग्रामीण, महिलाओं ने रेंजर की कॉलर पकड़ी

मुख्य वन संरक्षक अनुराग श्रीवास्तव ने देर शाम रेंजर कमलेश कुमार राय, वनपाल गुलशन यादव व गार्ड जीतन सिंह को सस्पेंड कर दिया है। प्रतापपुर वन रेंज में हाथियों का दल भ्रमण कर रहा है। इसी दौरान मंगलवार रात करीब 11 बजे ग्राम प्रहरी के पथरापारा निवासी नारायण पुत्र रामचंद्र उम्र 35 काम कर साइकिल से अपने घर लौट रहा था। इसी बीच गांव के ही देवलाल के घर के पास बहरादेव हाथी से उसका सामना हो गया। हाथी को देख रामच्रंद हड़बड़ा गया। रामचंद्र मौके से भाग पाता, इससे पहले ही हाथी ने उसे सूंड से उठाकर जमीन पर पटक-पटक कर मारा डाला। सुबह करीब 6 बजे जब ग्रामीणों ने रामचंद्र का शव सड़क किनारे देखा तो वह आक्रोशित हो गए। लोग वन विभाग के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। उन्होंने सरहरी-प्रतापपुर मार्ग जाम कर दिया।

मुआवजा और नौकरी की मांग
ग्रामीण मृतक के घर के सदस्य को नौकरी और मुआवजा देने की मांग कर रहे थे। वहीं रेंजर व एसडीओ को सस्पेंड करने की मांग की। ग्रामीणों ने कहा बहरादेव हाथी को कॉलर आईडी लगाई है, लेकिन वन विभाग हाथी का लोकेशन गांव वालों को नहीं बताता। ग्रामीणों का आरोप है कि वन अमला भी क्षेत्र में भ्रमण नहीं करता। यह सब वन विभाग के अफसरों की लापरवाही है। यदि गांव में हाथी के पहुंचने की सूचना वन विभाग से मिलती, तो यह घटना नहीं होती।

10 दिन पहले भी हो चुकी है मौत
10 दिन पहले भी जिले के प्रतापपुर वन परिक्षेत्र में इसी तरह की घटना हुई थी। उस दौरान ददुरापारा निवासी वीरसाय कंवर सुबह 6 बजे अपने खेत में धान की फसल देखने गया था। उसी दौरान हाथियों ने वीरसाय को पटक कर मार डाला। इसकी खबर लगते ही ग्रामीण नाराज हो गए और वन विभाग की टीम पर हाथियों के मूवमेंट की जानकारी नहीं देने का आरोप लगाया था। वहीं मौके पर पहुंची वन विभाग की टीम को ग्रामीणों ने घेर लिया था।

एक महीने में हाथी ने 4 लोगों को मार डाला
ग्रामीणों ने बताया हाथियों के हमले से 1 महीने के दौरान 4 लोगों की मौत हो चुकी है। इसका कारण वन विभाग की लापरवाही ही है। इस दौरान ग्रामीण काफी देर तक हंगाम करते रहे। इसकी सूचना मिलते ही डीएफओ मौके पर पहुंचे और उन्होंने ग्रामीणों से जल्द कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है।

खबरें और भी हैं...