पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सबका एक ही मकसद:दानवीरों और जरूरतमंदों के बीच सेवा की कड़ी बने युवा, टीम बनाकर की मदद

बैकुंठपुर18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
चिरमिरी समेत ग्रामीण अंचलो तक युवाओं ने पहुंचाई मदद। - Dainik Bhaskar
चिरमिरी समेत ग्रामीण अंचलो तक युवाओं ने पहुंचाई मदद।
  • }आपकी सेवा जरूरतमंदों तक पहुंचाएंगे, समाजसेवियों व प्रशासन की मदद से बढ़ा हौसला

काेराेना के प्रभाव के बीच चिरमिरी व अासपास के ग्रामीण अंचलाें में जरूरतमंदों तक राशन सामग्री समेत संक्रमित मरीजाें काे उपचार के लिए जरूरी सेवाएं उपलब्ध कराने में युवा अहम भूमिका निभा रहे हैं। पिछले डेढ़ महीने के दाैरान इन युवाओं ने दानवीर और जरूरतमंदाें के बीच सेवा की कड़ी बनकर मदद पहुंचाई है।

इस दौरान संक्रमित मरीज को दवा, ऑक्सीमीटर, थर्मामीटर पहुंचाने के साथ जरूरतमंद दिव्यांगो को व्हील चेयर, स्टैंड चेयर के लिए मदद का हाथ बढ़ाया है। इतना ही नहीं युवाओं ने सरकारी अस्पताल में ऑक्सीमीटर, नेबुलाइजर, कूलर, पंखे भी दान दिए हैं। गरीब, असहाय परिवारों को राहत पहुुंचाने के काम में युवाओं की टोली सुबह से शाम तक दौड़ रही है। गांव-गांव में कोरोना के प्रति जागरूकता फैलाने के साथ मास्क, सैनेटाइजर तक पहुंचाए जा रहे हैं।

चिरमिरी गोदरीपारा के इन 10 से अधिक युवाओं के सहयोग से रोजाना करीब सौ परिवारों तक मदद का हाथ पहुंच रहा है। इसमें राशन, सब्जी के पैकेट के साथ आवश्यकता को देखते हुए अन्य राहत भी दी जा रही है। युवाओं का ग्रुप साथी हाथ बढ़ाना के नाम से सोशल मीडिया पर छाया हुआ है। ग्रुप के राहुल भाई पटेल, सदाशिव बारीक, विक्रम सिंह चौहान ने बताया कि 20 अप्रैल से उन्होंने सेवा कार्य शुरू किया था और अब तक 4 हजार से ज्यादा परिवारों तक सूखा राशन, सब्जी, फल के पैकेट, सैनेटाइजर को बांटा जा चुका है।

दान में मिले दवा, जरूरी सामान के साथ वे सुबह 11 से शाम 5 बजे तक जरूरतमंद परिवारों से संपर्क करते थे। युवाओं ने 40 दिन में करीब 4 लाख रुपए तक की मदद दानवीरों के माध्यम से इकट्ठा कर जरूरतमंदों काे दी है। इस सेवा में जितेंद्र साव, संजू रगड़ा, अजय सिंह चौहान, सुदीप चटर्जी, विजेंद्र सोनवानी, आकाश वधावन, शकील अहमद, मनोज दास, शशिकांत सिंह, सुशोभन भौमिक, रोहित, नान दाऊ, नीरज सहित अन्य युवा साथ दे रहे हैं।

शहर समेत गांव-गांव तक पहुंचा रहे जरूरतमंदों तक मदद

आंधी से छत उड़ी, गांव में शीट दिलवाई
महामारी के कारण गरीब मजदूरों के बीच कई तरह का समस्या उत्पन्न हो रही है। काम नहीं होने से कई परिवारों के सामने भोजन की समस्या खड़ी हो गई है। ऐसे में हमने पहले अपने आसपास के मोहल्ले से यह प्रयास शुरू किया। इसके बाद मदद के लिए हर मोहल्ले से मदद के लिए हाथ उठ रहे हैं। अांधी से उड़े घर की छत काे देखते हुए एक घर की छत छाने के लिए शीट तक की व्यवस्था की है।

धैर्य : दो युवा कोरोना से संक्रमित हुए
राहुल ने बताया कि इस कठिन परिस्थिति में हमारे ग्रुप के दो युवा कोरोना से संक्रमित हो गए हैं, जो घर पर होम आइसोलेशन में हैं। युवाओं ने चिरमिरी के लामीगोड़ा, कांदामार, मोहारीडांड, अंजनहिल के जंगलों तक अपनी सेवाएं दी हैं। जरूरतमंदों के अंतिम संस्कार के लिए मुक्तिधाम में लकड़ियों की भी व्यवस्था की। इसके लिए प्रशासन, नगर सरकार के साथ उन्हें शहर के दानवीरों से मदद मिली है।

खबरें और भी हैं...