• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Bilaspur
  • Bhaiyathan
  • As Soon As The Crop Insurance Money Was Deposited In The Account Of The Farmers, The Bank Officers Took It Out On The Same Day, Now They Are Avoiding Printing The Passbook And Giving The Statement.

हक पर डाका:किसानों के खाते में फसल बीमा के रुपए जमा होते ही उसी दिन बैंक अफसरों ने निकाले, अब पासबुक प्रिंटिंग और स्टेटमेंट देने से बच रहे

भैयाथान2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
किसानों का बयान दर्ज करने पहुंचे बैंक अधिकारी। - Dainik Bhaskar
किसानों का बयान दर्ज करने पहुंचे बैंक अधिकारी।
  • चौंकाने वाली बात पता चली कि अफसरों ने उन रुपयों को भी निकाल लिया, जो किसानों के खाते में पहले से जमा थे

जिला सहकारी केंद्रीय बैंक में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की राशि में हुए घोटाला का मामला थमने का नाम नहीं ले रहा है। चौंकाने वाली सच्चाई सामने आई है कि जिस तारीख को किसानों के खाते में रुपए भेजे गए। उसी तारीख में बैंक कर्मियों ने दलालों से मिलीभगत कर उन रुपयों को किसानों के खाते से निकाल लिया।

बैंक कर्मियों ने एक कदम आगे बढ़ते हुए किसानों से खाते से वह रुपए भी निकाल लिए, जो बीमा के रुपए आने से पहले ही उनके खातों में जमा थे। वहीं अब घोटाले को लेकर कई ग्रामों के किसानों की शिकायत लंबी हो रही है। हालांकि, जांच के नाम पर बैंक प्रबंधन मामले की लीपापोती में जुटा है। आलम यह है कि कई माह पहले आई शिकायतों को ही सुन रहे हंै। वहीं नई शिकायतों पर ध्यान नहीं दे रहे। वहीं ओडगी व भैयाथान ब्लॉक के कई ग्राम के किसान खाते का स्टेटमेंट लेने बैंक का चक्कर लगा रहे हैं और सुबह से बैंक के बाहर किसानों की भीड़ जमा हो रही है, लेकिन शाखा प्रबंधक गोलमोल जवाब देकर टरकाने में लगे हैं। शाम 4 बजे तक बैठने के बाद भी किसानों को स्टेटमेंट नहीं मिल रहा है।

पासबुक प्रिंट करने से भी कतरा रहे अफसर

किसानों ने बताया सहकारी बैंक में कई वर्षों से पासबुक प्रिंट नहीं हो रहा। इसी कारण फसल बीमा राशि आने व फर्जी तरीके से निकालने के बाद भी उन्हें पता नहीं चला कि उनके खाते से रुपए गायब हो गए हैं। अफसरों ने इतने बड़े घोटाले को अंजाम दे डाला। इसमें बैंक की संलिप्तता दिख रही है।

समझिए: किसानों के साथ कैसे किया अफसरों ने खेल

  • खडगवां निवासी केवला के खाते में 6 अगस्त 2019 को फसल बीमा राशि के 159688 रुपए जमा हुए। 6 अगस्त को अफसरों ने किसान के खाते से 159000 रुपए निकाल लिए। नावापारा के दौलतराम के खाते में 99933 रुपए 6 अगस्त को जमा होते हैं, उसी दिन 1 लाख निकाल लिए जाते हैं।
  • ओडगी विकासखंड के चबदा निवासी देवसाय के खाते में बीमा राशि के 47 हजार रुपए जमा हुए और उसी दिन पूरी राशि निकाल ली जाती है। नवापारा निवासी भरत कुमार के खाते में 120402 जमा होते हैं। जिसे उसी दिन निकाल लिया जाता है।

भ्रष्ट बैंक अफसरों परहो एफआईआर

इस संबंध में नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि अधिकारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज होनी चाहिए। केंद्र सरकार अगर यह पैसा किसानों तक भेज रही है तो पूरा पैसा उन्हें मिलना चाहिए। बैंक कर्मचारियों का यह छल दुर्भाग्यजनक है। कांग्रेस सरकार आने के बाद लगातार यही स्थिति है। बिलासपुर में भी एफआईआर दर्ज हुई है। भाजपा इसे बर्दाश्त नहीं करेगी बल्कि सड़क से सदन तक की लड़ाई लड़ेगी।

खबरें और भी हैं...