पदोन्नति की मांग:185 आईटीआई याेग्यताधारी बिजली कर्मी काे संयंत्र सहायक पद पर किया नियुक्त

काेरबा10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • विगत 10 वर्ष से प्रदर्शन कर पदाेन्नति की मांग कर रहे थे कर्मचारी

बिजली कंपनी में विगत 10 वर्षों से पदोन्नति की मांग कर रहे 185 आईटीआई योग्यताधारी कर्मचारियों को हेल्पर से तृतीय श्रेणी सहायक के पद पर नियुक्ति का आदेश गुरुवार काे प्रबंधन की ओर से जारी कर दिया गया। बिजली उत्पादन कंपनी के कोरबा पूर्व, एचटीपीपी, मड़वा प्लांट में काम करने वाले आईटीआई योग्यता वाले वर्ष 2011 बैच के कर्मचारी पदोन्नति के लिए लंबे समय से संघर्ष कर रहे थे।

नए आदेश ने कर्मचारियाें काे राहत दी है। दरअसल, कर्मचारी अविभाजित विद्युत मंडल के समय से नियमों के तहत सीधे सहायक के पद पर वेतनमान पर नियुक्ति की मांग कर रहे थे। इसके परिपत्र 22 नवंबर 1990 के अनुसार नीति व नियमों के तहत 1200 कर्मचारियों को सीधे सहायक पद पर नियुक्ति की गई थी। मगर 2011 बैच के 185 कर्मचारियों से अब तक प्रबंधन हेल्पर के पद पर ही उच्च पद का कार्य ले रहा था। विद्युत कर्मचारी संघ फेडरेशन के प्रदेश महासचिव आरसी चेट्टी ने कहा कि सभी कर्मचारियों ने इसके खिलाफ एकजुट होकर संगठन के नेतृत्व में संघर्ष शुरू किया था। आंदाेलन की भी चेतावनी दी गई थी। मगर कोरोना काल में प्रबंधन ने कर्मचारियों की मांगों को गंभीरता से नहीं लिया, जिसके कारण कर्मचारियों ने कोर्ट जाने का निर्णय लिया था। संबंधित मामले पर कोर्ट ने कंपनी को कर्मचारियों के मामले को 120 दिनों में निराकृत करने का आदेश दिया था। वहीं इसे लेकर संगठन की ओर से प्रबंधन से वार्ता भी जारी थी। बावजूद इसके प्रबंधन मामले का निराकरण नहीं कर रहा था।

राजस्व मंत्री के सामने भी रखी थी अपनी समस्या
संगठन के अनुसार प्रमाेशन नहीं हाेने से बिजली कर्मचारी निराश थे। इस बारे में कर्मचारियों ने सामूहिक रूप से राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल से मिलकर अपनी समस्या उनके समक्ष रखी थी। उन्हाेंने समस्या काे गंभीरता से लेते हुए बिजली कंपनी के चेयरमैन से चर्चा कर 30 दिनों में मामले का निराकरण करने काे कहा था। इसके तहत प्रबंधन ने 185 आईटीआई पात्रताधारी बिजली कर्मचारियों को हेल्पर से संयंत्र सहायक श्रेणी-3 पर नियुक्ति का आदेश जारी कर दिया है। बड़ी राहत मिलने पर कर्मचारियाें ने राजस्व मंत्री व फेडरेशन का आभार जताया है।

खबरें और भी हैं...