पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरोना की ये लहर ज्यादा खतरनाक:267 नए कोरोना के केस मिले: दो लोगों की मौत, 98 साल की महिला संक्रमित, 15 दिन में 1723 संक्रमितों में 11 की गई जान

कोरबा7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पिछले साल 159 दिन में मिले थे एक हजार केस, अब तक 140 लोगों की हो चुकी मौत
  • सितंबर में तीन गुना बढ़ गया था कोरोना का संक्रमण दिसंबर तक 5 गुना तेजी से बढ़ा, अब इस साल होली के बाद से कई गुना दिखा रहा असर, अब ज्यादा खतरा

कोरोना की दूसरी लहर ज्यादा खतरनाक है। इसमें पिछले 15 दिन के दौरान जिले में 10 संक्रमितों की मौत हो चुकी है। वहीं रोजाना संक्रमितों का आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है। मार्च के पहले सप्ताह में ऐसा लग रहा था कि जल्द ही जिला कोरोना मुक्त हो जाएगा, क्योंकि तब इकाई अंक में ही संक्रमित मिल रहे थे। 15 मार्च के बाद यह संख्या बढ़ने लगी।

होली के बाद के एक सप्ताह के दौरान प्रतिदिन निकलने वाले संक्रमितों का आंकड़ा रोज नया रिकार्ड बना रहा है। 15 मार्च को जिले में संक्रमण से मृतकों की संख्या 128 थी, जो 20 मार्च को 130 हो गई। अभी जितने संक्रमितों की संख्या रोज निकल रही है, वह उस आंकड़े के आसपास है, जब पिछले साल अक्टूबर से दिसंबर के बीच प्रवासी मजदूरों की यहां वापसी हुई थी। राजधानी रायपुर में सोमवार से सख्त लॉकडाउन की घोषणा की गई है। एक अधिकारी का कहना है कि यदि संक्रमितों की संख्या यहां इसी रफ्तार से निकलती रही, तो कोरबा में भी लॉकडाउन से इनकार नहीं किया जा सकता।

कोरोना की पहली लहर में 30 मार्च 2020 को कोरबा जिले में पहला कोरोना केस मिला था और संक्रमितों का आंकड़ा 6 सितंबर 2020 को 1000 हुआ। यूं 1 से 1000 केस होने में कुल 159 दिन का समय लगा था। 30 सितंबर 2020 को यह 3 गुना होकर 3034 व दिसंबर 2020 के अंत में 5 गुना बढ़कर 15869 हो गया। इसके बाद संक्रमितों के मिलने की रफ्तार कम होते चली गई और 20 मार्च 2021 को यह आंकड़ा बढ़कर 17332 हो गया। इनमें से 17073 ठीक हो चुके थे और जिले में सिर्फ 129 एक्टिव केस थे। 20 मार्च तक कोरोना से मृतकों की संख्या 130 थी। अब यदि 15 दिन बाद हम नजर डालते हैं तो 6 अप्रैल को अब तक हुए कुल संक्रमितों की संख्या 19055 है।

इनमें से 17537 ठीक हो चुके हैं। वहीं 1379 एक्टिव केस हैं। यूं 15 दिनों में ही एक्टिव केस की संख्या 10 गुना से ज्यादा हो गई है। 6 अप्रैल को इस रिकार्ड 294 केस मिले। 20 मार्च से 6 अप्रैल के बीच 10 और संक्रमितों की जान गई है। साफ है कि अब भी यदि हम नहीं चेते तो यह दूसरी लहर बहुत भारी पड़ने वाली है।

बड़े शहरों के अस्पतालों में नहीं मिल रहे बेड, इलाज नहीं मिलने से मौत
कोरोना के खतरे के अलावा इन दिनों दूसरी गंभीर बीमारी से बचने की जरूरत है। क्योंकि बिलासपुर और रायपुर समेत बड़े अस्पतालों में दूसरी गंभीर बीमारी के मरीजों के लिए बेड नहीं हैं। बालकोनगर के एक व्यक्ति की इसी वजह से मौत हो गई, क्योंकि उन्हें अस्पतालों में बेड नहीं मिला। 2 दिन पहले उनकी तबीयत बिगड़ी, क्योंकि वह पहले रायपुर के अस्पताल इलाज करा रहे थे, इसलिए परिजन इलाज के लिए उन्हें वहां लेकर गए, जहां बेड नहीं मिला। दूसरे अस्पताल में भी यही हाल था।

बुधवार काे मिले 267 मरीज, 98 साल की बुजुर्ग महिला भी संक्रमित
बुधवार काे जिले में 267 नए संक्रमित मिले। इसमें 157 पुरुष और 110 महिला हैं। काेरबा ब्लाॅक के शहरी क्षेत्र से 125 और ग्रामीण से 9, कटघाेरा के शहरी क्षेत्र 60 व ग्रामीण क्षेत्र से 45, पाली ब्लाॅक से 15, करतला ब्लाॅक से 10 और पाेड़ी-उपराेड़ा ब्लाॅक से 3 मरीज मिले हैं। इनमें पाली के लिटियाखार की 98 साल की महिला भी है, जिनके परिवार से 50 साल का बेटा और 9 साल का बच्चा संक्रमित है। कटघाेरा डीएफओ के संक्रमित हाेने के बाद जांच में उनके ऑफिस के 4 कर्मी भी पाॅजिटिव मिले हैं।

वैक्सीन लेने के बाद भी लोग रहें सावधान : सीएमएचओ डॉ. बोडे
सीएमएचओ डॉ.बीबी बोडे ने कहा कि 15 दिन मेें संक्रमितों की रफ्तार बढ़ी है। ऐसा ही रहा तो इस लहर को संभालने में दिक्कत होगी। लोग लापरवाही न करें, कोविड प्रोटोकाल का पालन ही इस महामारी से बचाव का एकमात्र उपाय है। वैक्सीन लेने के बाद लोगों ने सावधानी छोड़ दी है। लोग ऐसा मानते हैं कि टीका लग गया तो अब कोरोना नहीं होगा, जबकि दूसरे डोज के 15 दिन बाद भी टीका लेने में वाले में पर्याप्त प्रतिरोधक क्षमता विकसित होने की स्टडी अब तक सामने आई है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- ग्रह स्थिति अनुकूल है। मित्रों का साथ और सहयोग आपकी हिम्मत और हौसले को और अधिक बढ़ाएगा। आप अपनी किसी कमजोरी पर भी काबू पाने में सक्षम रहेंगे। बातचीत के माध्यम से आप अपना काम भी निकलवा लेंगे। ...

    और पढ़ें