पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लापरवाही:निगम क्षेत्र में 17 हजार स्ट्रीट लाइटों पर हर साल 32 लाख रुपए खर्च, 20 फीसदी खराब पड़ीं, अंधेरे में हो रहे हादसे

कोरबाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • अंधेरे में सड़क पर बैठे मवेशी नजर नहीं आते, रोज कोई न कोई टकराकर होता है दुर्घटना का शिकार

नगर निगम क्षेत्र में लोगों की सुविधा के लिए सड़कों के किनारे 17 हजार से अधिक स्ट्रीट लाइट लगाई गई है। इसके रखरखाव के लिए हर साल 30 से 32 लाख रुपए खर्च किए जाते हैं। इसके बाद भी 20 प्रतिशत लाइट जलती ही नहीं। जिसके कारण सड़कों में अंधेरा छाया रहता है। बारिश के समय खराब हुई सड़क और मवेशियों के बैठे होने से रोज दुर्घटनाएं हो रही हैं। निगम की सीमाएं 215.02 वर्ग किलोमीटर में फैली हुई है। शहर से उपनगरीय क्षेत्रों की दूरी 15 किलोमीटर से कम नहीं है। सभी मार्गों में भारी वाहनों की आवाजाही होती है। ऐसे में सड़क किनारे लगी स्ट्रीट लाइट बंद होने से सबसे अधिक छोटे वाहन चालकों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। औद्योगिक संस्थान अपने क्षेत्रों की स्ट्रीट लाइट की देखरेख करते हैं। अभी टीपी नगर, रिकांडो रोड, सीतामढ़ी, भिलाईखुर्द, बालको मार्ग, दर्री मार्ग, कुसमुंडा मार्ग की सड़कें सबसे अधिक खराब हैं।

दर्री थाना से गोपालपुर रोड पर लाइट के बाद भी अंधेरा
दर्री से गोपालपुर मार्ग पर कभी स्ट्रीट लाइट जलने के बाद भी सड़क में अंधेरा रहता है। इसकी देखरेख का जिम्मा एनटीपीसी का है। इस क्षेत्र में एनटीपीसी, एचटीपीपी, इंडियन आयल कंपनी है। जहां के कर्मचारियों के समय ड्यूटी आने जाने में काफी असुविधा होती है। इसके बाद भी स्ट्रीट लाइट बदला नहीं जा रहा है।

सर्वमंगला से कुसमुंडा मार्ग में नजर नहीं आता गड्‌ढा
सर्वमंगला से कुसमुंडा मार्ग में रात के समय भारी वाहनों के चलने से धूल उड़ते रहती हैं। अंधेरा होने से गड्‌ढे नजर नहीं आते। इस मार्ग को फोरलेन बनाने का काम अगले महीने शुरू होगा। लेकिन अभी जान जोखिम में डालकर लोग आवाजाही कर रहे हैं।

अंधेरा होने से गड्‌ढा नहीं दिखा बाइक समेत गिरा
पथर्रीपारा के रामकुमार ने बताया कि कोरबा से घर लौट रहा था। टीपी नगर में पेट्रोल पंप के सामने सड़क पर स्ट्रीट लाइट बंद होने से गड्‌ढा नहीं दिखा। गड्‌ढे में पहिया घुसने से गिर गया। अच्छा हुआ कि स्पीड में नहीं था।

सड़क पर बैठे मवेशी नजर नहीं आए, पैर टूट गया
रिस्दी के खिलावन कंवर ने बताया कि रात के समय घर लौट रहा था। स्ट्रीट लाइट बंद थी। जिसकी वजह से सड़क में बैठे मवेशी नजर नहीं आए। पीजी कॉलेज के आगे बाइक समेत टकरा गया। जिसमें मेरा पैर फ्रैक्चर हो गया।

कार की टक्कर से मवेशी की हो गई मौत, बाल बाल बचे
पोड़ीबहार के सुनील मिश्रा ने बताया कि रजगामार जा रहे कार सवार को अंधेरा होने से मवेशी नजर नहीं आए, उसी दौरान सामने एक हाईवा आ गया, कार मवेशी से टकरा गई। जिससे मौके पर ही मवेशी की मौत हो गई। कार चालक बाल बाल बच गया।

इसलिए कह रहे 20 प्रतिशत लाइट नहीं जलती
वीआईपी रोड, टीपी नगर रोड, बरबसपुर रोड में लगी 60-60 स्ट्रीट लाइट को तीन दिनों तक वाच किया गया। जिसमें से किसी में 40 तो किसी में 45 स्ट्रीट लाइट ही जलती मिली। सुधरा भी दो से तीन दिन के बीच किया गया लेकिन इसके कुछ दिन बाद फिर से दूसरी जगह की लाइट बंद हो गई।

कंपनी के साथ विभागीय होती है मरम्मत: ईई
नगर निगम के ईई भूषण उरांव का कहना है कि स्ट्रीट लाइट की मरम्मत के लिए ठेका नहीं होता। जहां सीएफएल लगा है वहां कंपनी ही सुधार करती है। साथ ही विभागीय स्तर पर मरम्मत कार्य कराते हैं। दर्री क्षेत्र की स्ट्रीट लाइट एनटीपीसी देखती है। जहां भी बंद होने की सूचना मिलती है वहां मरम्मत कराते हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- यह समय विवेक और चतुराई से काम लेने का है। आपके पिछले कुछ समय से रुके हुए व अटके हुए काम पूरे होंगे। संतान के करियर और शिक्षा से संबंधित किसी समस्या का भी समाधान निकलेगा। अगर कोई वाहन खरीदने क...

और पढ़ें