पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

सुविधा:35 सौ पशुपालकों ने 2 लाख 39 हजार किलो गोबर बेचकर कमाए 4.97 लाख

कोरबा6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • गोठान में गोबर बेचने वाले संग्राहकों को पहला ऑनलाइन भुगतान 5 को होगा
Advertisement
Advertisement

जिले के गोठानों में गोबर बेचे संग्राहकों को पहला भुगतान 5 अगस्त को होगा। उनके खाते में राशि भेजी जाएगी। इसके लिए को-ऑपरेटिव बैंक में खाता खुलवाना होगा। कलेक्टर किरण कौशल ने बताया कि 12 दिनों में 3500 पशुपालकों ने 2 लाख 39 हजार किलो गोबर बेचकर 4 लाख 97 हजार रुपए कमा लिए हैं। गोठानों को ग्रामीण अर्थव्यवस्था का प्रमुख केन्द्र बनाने गोधन न्याय योजना की शुरुआत हुई है। दो रुपए प्रति किलो की दर से 200 गोठानों में पशुपालकों से गोबर की खरीदी हो रही है। संग्राहकों के खाते में राशि भेजने को-ऑपरेटिव बैंक में खाते खोले जा रहे हैं। इसी बैंक में गोठान समितियों के भी खाते खुलेंगे, ताकि गोबर से बने वर्मी कम्पोस्ट की बिक्री से मिली राशि सीधे खातो में जमा की जा सके। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देशानुसार गोबर संग्राहकों को खरीदे गए गोबर का पहला भुगतान पांच अगस्त को किया जाएगा। बेचे गए गोबर के हिसाब के लिए सभी गोबर संग्राहकों को गोबर खरीदी कार्ड दिए गए हैं। कार्डों में हर दिन खरीदे गए गोबर की मात्रा और राशि की इंट्री कर गोबर संग्राहकों तथा गोठान प्रभारी के हस्ताक्षर भी लिए जा रहे हैं। कृषि और पंचायत तथा ग्रामीण विकास विभाग के अफसर नियमित रूप से गोठानों का निरीक्षण कर गोबर खरीदने की सभी व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने के साथ-साथ गोबर खरीदी की जानकारी प्रतिदिन जिला पंचायत के गोठान सेल में दे रहे हैं। जनपद कोरबा में 39 हजार 455 किलो, करतला में 12 हजार 840 किलो, कटघोरा में 45 हजार 626 किलो, पाली में 1 लाख 13 हजार 435 किलो और जनपद पंचायत पोड़ी-उपरोड़ा में 17 हजार 595 किलो गोबर बेचा है। जिला पंचायत सीईओ कुंदन कुमार ने बताया कि गोधन न्याय योजना से जिले के पशुपालकों को सीधा लाभ होगा।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - अपने जनसंपर्क को और अधिक मजबूत करें। इनके द्वारा आपको चमत्कारिक रूप से भावी लक्ष्य की प्राप्ति होगी। और आपके आत्म सम्मान व आत्मविश्वास में भी वृद्धि होगी। नेगेटिव- ध्यान रखें कि किसी की बात...

और पढ़ें

Advertisement