कोरबा जिले में केस 50 हजार के पार:42,368 लोगों ने कोरोना को हराया 620 हमारे अपने हमसे बिछड़ गए

कोरबाएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

जिले में 50193 लोग कोरोना संक्रमित हुए। इस दौरान हमने 620 अपनों को खो दिया। यह क्षति कभी भी पूरी नहीं की जा सकती। कोरोना की दूसरी लहर के शुरू होते ही मरीज व मृतकों का आंकड़ा तेजी से बढ़ा। लॉकडाउन 12 अप्रैल को रिटर्न हुआ। शनिवार को कलेक्टर किरण कौशल ने लॉकडाउन को 31 मई रात 12 बजे तक कुछ और छूट के साथ बढ़ा दिया।

लॉकडाउन के दौरान सबसे अधिक 1316 केस 5 मई काे मिले थे। इसके बाद संक्रमितों की सं‌ख्या 1 हजार से नीचे पहुंचकर कम होते गई। हालांकि अभी भी रोज मृतकों का आंकड़ा दहाई अंक में जा रहा है। उसमें भी कामकाजी उम्र के अर्थात 60 से कम उम्र के लोगों की संख्या ज्यादा है। लॉकडाउन के अगले चरण में हमें कुछ अतिरिक्त छूट मिल रही है, लेकिन अब हमें ही यह संकल्प लेना होगा कि कोरोना की इस लड़ाई में जिंदगी बचाने कोविड प्रोटोकाल का कड़ाई से पालन करें। वैक्सीन को लेकर जो भ्रांतियां हैं, उसे दूर करने की कोशिश करें। सबसे महत्वपूर्ण यह है कि बहुत जरूरी न हो तो घर से न निकलें।

हमने 136 को खोया: पहली लहर का एक साल ऐसे बीता

कोरबा में कोरोना का पहला केस 30 मार्च 2020 काे मिशन राेड से मिला था। इसके बाद कटघाेरा में महाराष्ट्र के तब्लीगी जमाती किशाेर समेत एक के बाद एक 27 केस मिले थे। कटघाेरा प्रदेश का पहला हाॅटस्पाॅट बना था, जिससे काेरबा रेड जाेन में आ गया था। एक माह के बाद संक्रमण की रफ्तार कम हाेते गई। 31 मार्च 2021 तक की स्थिति में 17850 संक्रमित थे। इस दाैरान 136 लाेगाें की माैत हुई।

हमने 484 को खोया: दूसरी लहर के डेढ़ माह में बरपा कहर

काेराेना की दूसरी लहर का असर जिले में 1 अप्रैल से शुरू हुआ, जब संक्रमिताें की संख्या दहाई काे पार कर 104 पहुंची थी। इसके बाद केस बढ़ते गए। अप्रैल के दूसरे पखवाड़े में आंकड़ा हजार से ऊपर पहुंच गया। 5 मई काे सबसे अधिक 1311 केस मिले थे। इसके बाद केस कम हाेते गए और 15 मई काे 360 केस तक पहुंच गया। डेढ़ माह में 32343 नए संक्रमित मिले हैं। वहीं 484 की माैत हुई है।

खबरें और भी हैं...