अधेड़ की गला घोंटकर हत्या:मवेशी चराने गया था, फिर नहीं लौटा, गले मेें कपड़ा बंधा हुआ शव मिला; जांच कर रही पुलिस

कोरबाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अधेड़ के गले में कपड़ा बंधा हुआ था। - Dainik Bhaskar
अधेड़ के गले में कपड़ा बंधा हुआ था।

छत्तीसगढ के कोरबा जिले में एक अधेड़ उम्र के शख्स की लाश मिली है। वह सोमवार को मवेशी चराने के लिए गया था। अगले दिन जंगल में उसकी लाश मिली। अधेड़ के गले में कपड़ा बंधा हुआ मिला है। जिसकी वजह से उसकी गला घोंटकर हत्या की आशंका जताई गई है। मामला राजगामार चौकी क्षेत्र का है।

जानकारी के अनुसार, गिरवानी निवासी छबिलाल यादव(50) मवेशी चराने का काम करता था। वह अपने साथ-साथ गांव के दूसरे लोगों के भी मवेशी चराया करता था। सोमवार को भी वह मवेशी चराने निकला था। मगर देर शाम तक वापस नहीं लौटा। इसके बाद से ही उसके परिजन उसकी तलाश कर रहे थे। इसके बावजूद देर शाम तक उसका कुछ पता नहीं चल सका।

साइकिल दूसरी तरफ झाड़ियों में पड़ी थी।
साइकिल दूसरी तरफ झाड़ियों में पड़ी थी।

मंगलवार को भी परिजनों ने छबिलाल की तलाश शुरू की तो उसके शव चकामार के जंगल में पड़ा हुआ मिला। उसकी साइकिल भी दूसरी तरफ पड़ी हुई थी। उसके गले को किसी कपड़े से बांधा गया था। इस पर परिजनों ने तुरंत इस बाती की सूचना पुलिस को दी। खबर लगते ही पुलिस की टीम मौके पर पहुंची और शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया है।

शकुंतला बाई
शकुंतला बाई

किसी से ज्यादा मतलब नहीं रखते थे पापा

छबिलाल की बेटी शकुंतला बाई ने बताया कि उसके पिता ज्यादा किसी से कुछ मतलब नहीं रखते थे। सामान्य तौर पर शाम होने तक घर आ जाते थे, लेकिन सोमवार को घर नहीं आए। जिस तरह से उनका शव मिला है। हमें पूरा संदेह है कि उनकी गला घोंटकर हत्या की गई है।

इधर, पुलिस ने भी छबिलाल के हत्या की आशंका जताई है। राजगामार पुलिस चौकी प्रभारी आशीष सिंह ने कहा है कि छबिलाल की मौत संदिग्ध परिस्थितियों में हुई है। हमने केस दर्ज कर जांच शुरू की है। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मौत की असल वजह साफ हो पाएगी। हम मामले की जांच कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...