पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अव्यवस्था काे लेकर जताई नाराजगी:रजगामार काॅलाेनी में पसरी गंदगी, मकानाें की हालत खराब, सदस्याें के सवाल पर अफसराें की बाेलती बंद

कोरबा2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कॉलोनी में सफाई व्यवस्था का निरीक्षण करते वेलफेयर बोर्ड के सदस्य व अधिकारी। - Dainik Bhaskar
कॉलोनी में सफाई व्यवस्था का निरीक्षण करते वेलफेयर बोर्ड के सदस्य व अधिकारी।
  • कंपनी वेलफेयर बाेर्ड के सदस्याें ने एसईसीएल रजगामार काॅलाेनी का दाैरा किया

एसईसीएल कंपनी वेलफेयर बोर्ड के सदस्यों की टीम ने बुधवार को एसईसीएल कोरबा क्षेत्र में दौरा किया। सदस्य बजरंगी साही, महेश श्रीवास्तव, संपत शुक्ला, एके पांडेय, अजय विश्वकर्मा मानिकपुर गए। जहां से सीधे सब- एरिया क्षेत्र कर्मचारियों की कॉलोनी का निरीक्षण किया। सदस्यों ने सबसे पहले ओमपुर स्थित कॉलोनी में कर्मचारी सुविधाओं से जुड़ी व्यवस्थाओं का जायजा लिया। इस दौरान कॉलोनी में अव्यवस्था देखकर वेलफेयर बोर्ड के सदस्य अफसरों पर भड़क गए।

साफ-सफाई बेहतर नहीं होने को लेकर अधिकारियों काे जमकर नाराजगी जताई। सफाई से जुड़े रखरखाव के अलावा इसके लिए जरूरी निर्माण कार्यों के भी नहीं होने को लेकर अफसरों से सवाल किए। लेकिन, अधिकारी सिर्फ गोलमोल जवाब देते नजर आए।

माइनस टाइप कॉलोनी के निरीक्षण के बाद बोर्ड के सदस्य ओमपुर में ही डीएम टाइप के क्वार्टरों के मकानों के पीछे गंदगी का आलम देख कर बोले कि बहुत बुरा हाल है। मौके पर सवाल जवाब करने पर अफसरों की बोलती भी बंद हो गई। रजगामार के अलावा जेपी काॅलाेनी का भी दाैरा किया।

पूरी काॅलाेनी की वन टाइम क्लीनिंग करने के निर्देश दिए

रजगामार निरीक्षण के लिए पहुंचे कंपनी वेल्फेयर बाेर्ड के सदस्य बजरंगी साही ने कहा कि रजगामार में काॅलाेनी के रखरखाव से लेकर सफाई व्यवस्था की स्थिति खराब हाेने पर नाराजगी व्यक्त की गई है। प्रबंधन काे पूरे काॅलाेनी की वन टाइम क्लीनिंग कराने के निर्देश दिए हैं। प्रबंधन के अधिकारियाें ने इस काम काे जल्द कराने का आश्वासन दिया है। सफाई व्यवस्था के साथ सीवरेज सिस्टम काे भी दुरुस्त करने कहा गया है। स्थिति सुधारने आने वाले समय में सभी क्षेत्राें में अलग-अलग कांट्रेक्ट की जगह एक साथ पूरे काम के लिए ऑर्डर किया जाएगा।

मकानाें में लगी पानी की टंकियां कभी भी गिर सकती हैं, हादसे का डर

ओमपुर काॅलाेनी के मकानाें में पानी टंकिया रखरखाव नहीं होने से खराब हो गई हैं। जिसके कारण टंकियां कभी भी गिर जाने की स्थिति में है। इससे हादसा हाे सकता है। वेलफेयर बाेर्ड के सदस्याें ने अधिकारियाें काे निर्देश दिया है कि जल्द से जल्द छताें पर सीमेंट व कांक्रीट की टंकियाें की जगह प्लास्टिक के टैंक लगाए जाएं, ताकि समस्या दूर हाे। प्रबंधन ने सदस्याें से काम जल्द पूरा करने की बात कही है।

कॉलोनियों में सफाई नहीं होने से बीमारी फैलने का लोगों को डर

कोरबा एरिया के विभागीय कॉलोनियों में सफाई व्यवस्था अलग-अलग है। सदस्यों के दौरे को देखते हुए काॅलोनियों के कई हिस्सों में सफाई व्यवस्था ठीक दिखी, कुछ जगहों पर नालियों के किनारे डीटीटी का छिड़काव भी करा दिया गया था। रजगामार में सफाई व्यवस्था काफी खराब थी। लाेगाें ने कहा कि बारिश में स्थिति और खराब हो गई है। जिसके कारण बीमारी फैलने का डर भी बना हुआ है।

रजगामार रोड की हालत भी खराब हादसे की बनी रहती है आशंका

राजगामार ने एसईसीएल की भूमिगत खदान संचालित है। कर्मचारियों के लिए ओमपुर और राजगामार ने कॉलोनी बने हैं। लोगों का कहना है कि यहां सुविधाओं को लेकर प्रबंधन के अधिकारी गंभीरता नहीं दिखाते हैं। कॉलोनी में सड़क की हालत भी खराब है। राजगामार से रिसदी मार्ग की हालत तो काफी खराब है। इसका अब तक सुधार नहीं किया गया है। इसके चलते हादसे की आशंका रहती है।

बारिश का पानी रोकने छत पर प्लास्टिक लगाने की मजबूरी

एसईसीएल के मकान काफी पुराने हो चुके हैं। लेकिन, रखरखाव की जिम्मेदारी प्रबंधन की है। वेलफेयर बोर्ड के सदस्यों ने डिसेंट हाउसिंग स्कीम के तहत कराए गए कामों की भी जानकारी ली। कॉलोनी के किसी एक मकान में भी ठीक-ठाक काम बताने के लिए कहा, लेकिन अफसरों ने जिस तरह के काम होना बताया उसको लेकर सदस्य संतुष्ट नहीं दिखे। जिस मकान में सदस्य डिसेंट हाउसिंग का काम देखने पहुंचे। वहां बारिश के पानी से बचने के लिए मकान की छत पर प्लास्टिक लगा था। कॉलोनियों के जिन मकानों में कर्मचारी रहे हैं उनका हाल ठीक नहीं है।

खबरें और भी हैं...