पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

निरीक्षण:डीएसटीई ने पूछा- पिटलाइन पर कितनी गाड़ी खड़ी होती हैं, एक नंबर प्लेटफार्म की ट्रेनों को चलाकर ट्रैक का उपयोग कर सकते हैं

कोरबाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • डीआरएम ने कहा- यहां क्या विकास हो सकता है उसकी संभावनाओं को देखकर बनाएंगे प्रस्ताव, बढ़ेंगी सुविधाएं

दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर जोन समेत डिवीजन के अधिकारियों की एक टीम मंगलवार को कोरबा रेलवे स्टेशन पहुंची। टीम में डीआरएम आलोक सहायक, एडीआरएम श्यामसुंदर दास, सीनियर डीओएम रविश कुमार के साथ विभिन्न विभागों के प्रमुख अधिकारी शामिल थे। री-माड्यूलिंग को हुए अधिकारियों का हुआ यह दौरा एक काफी अहम माना जा रहा है। यहां पहुंचने के बाद अधिकारियों की टीम ट्रैक पर पैदल चलते हुए उरगा एंड की तरफ बिछे ट्रैक पर घंटों खड़े होकर ट्रेनों का मूवमेंट देखते रहे। इस बीच टीम में शामिल सीनियर डीएसटीई ने पिटलाइन की ओर इशारा करते हुए यातायात निरीक्षक से पूछा इस वहां कितनी गाड़ियों को खड़ा किया जाता है। लिंक एक्सप्रेस को खड़ा करने की बात बताने में उन्होंने कहा कि ट्रेनों का मूवमेंट बढ़ाने के लिए पिटलाइन का दूसरा ट्रैक उपयोग करें। बिलासपुर की ओर से आने वाली ट्रेनों को जो एक नंबर प्लेटफार्म होकर आगे जाती हैं उनके लिए इस ट्रैक का उपयोग करें। इस बात से यह समझ आता है कि वर्ष बीते 12 सालों से जिस पिटलाइन को पूरा करने की मांग कोरबा के लोग कर रहे हैं उसकी उपयोगिता की दिशा में सोचने के बजाय रेल अफसर उसे रनिंग ट्रैक बनाना चाहते हैं। टीम में शामिल अधिकारियों को यहां 11.30 बजे पहुंचना था लेकिन वे आधा घंटे पहले ही पहुंच गए थे। यहां पहुंचने के बाद पिटलाइन, उरगा एंड, मानिकपुर कोल यार्ड, सेकंड एंट्री का निरीक्षण किए। दोपहर 3 बजे टीम वापस बिलासपुर लौट गई।

लोगों की मांगों को हम गंभीरता से लेते हैं, सुविधाएं बढ़ाने की दिशा में कर रहे हैं काम: डीआरएम
डीआरएम आलोक सहायक ने कहा कि यहां के लोगों की जो भी मांगें उसे गंभीरता से लिया जाता है। सुविधाएं बढ़ाने की दिशा में काम हो रहा है। काफी कुछ संभावनाएं हैं यहां विकास करने के लिए उसका प्रस्ताव बनाकर भेजा जाएगा। बिना रुकावट के मालगाड़ियों को चलाने के लिए ट्रैक का खाली होना जरूरी है। कई बार ऐसा होता है कि बिना वजह से मालगाड़ी खड़ी रहती हैं, इंजन रनिंग में रहते हैं क्योंकि उन्हें बंद नहीं किया जा सकता। कुसमुंडा की ओर जाने वाली कोई भी ट्रेन बिना किसी रुकावट से स्टेशन से रवाना हो जाए और वापसी में भी उसे यहां घंटों रोकने की जरूरत न पड़े, इसके लिए प्रयास चल रहा है।

कोरबा में ट्रैक का विस्तार करने या अलग यार्ड की है जरूरत
रेलवे के ही एक जिम्मेदार अधिकारी ने बताया कि जिस तरह से कोरबा रेलवे स्टेशन में ट्रैक बिछे हुए हैं उसमें और विस्तार किए जाने की जरूरत है। लेकिन स्टेशन के पास उतनी जमीन है। इसकी कमी के कारण ही जब भी मालगाड़ी आवागमन करती हैं उन्हें न रोककर यात्री ट्रेनों को उरगा या कुसमुंडा की ओर बेजा रोका जाता है। उरगा या फिर सरगबुंदिया में यार्ड बनाकर इस समस्या से निजात पाया जा सकता है।

कोल परिवहन को सुगम बनाने की तैयारी
एक अधिकारी ने बताया कि प्लांटों को भेजे जाने वाले रैक की वजह से कई बार ट्रैक को बाधित करना पड़ता है। क्योंकि क्योंकि विकल्प के रूप में कोई दूसरा ट्रैक खाली नहीं रहता है। इससे समय पर परिवहन नहीं होने के साथ तरह तरह की समस्याएं होती हैं। ट्रैक विस्तार करने के साथ ही स्टेशन के दोनों एंड पर उन्हें मुख्य ट्रैक से जोड़ने की कोशिश की जाएगी। इससे रेलवे को होने वाले नुकसान से बचाया जा सकेगा।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज उन्नति से संबंधित शुभ समाचार की प्राप्ति होगी। धार्मिक और आध्यात्मिक कार्यों में भी कुछ समय व्यतीत होगा। किसी विशेष समाज सुधारक का सानिध्य आपके अंदर सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करेगा। बच्चे त...

और पढ़ें