पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

वैकल्पिक उपयाेग:खाली जगह पर नई परियोजना से बढ़ेंगे राेजगार

काेरबा4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • केरबना पूर्व प्लांट की जमीन के वैकल्पिक उपयाेग के लिए ऊर्जा विभाग को दी गई है जिम्मेदारी

बिजली उत्पादन कंपनी के केरबना पूर्व प्लांट में 50 वर्ष से ज्यादा पुराने पावर प्लांट की इकाइयाें को दाे साल पहले प्रदूषण कारणाें से बंद कर दिया गया। इसके बाद 120 मेगावाट प्लांट भी बंद कर दिए गए, लेकिन पावर प्लांट की खाली जगह पर आगे क्या हाेगा, ये अब तक तय नहीं किया जा सका है।

कुछ माह पहले शासन ने बंद हा़े चुके केरबना पूर्व प्लांट की जमीन का आगे क्या वैकल्पिक उपयाेग किया जाए, ये तय करने की जिम्मेदारी ऊर्जा विभाग काने दी थी, लेकिन अब तक यहां किसी नए प्राेजेक्ट की स्थापना व प्लांट की खाली जगह के किसी तरह वैकल्पिक उपयाेग काने लेकर काेई निर्णय नहीं लिया जा सका है।

बिजली क्षेत्र के जानकार इंजीनियर व यूनियन के लाेग बंद हा़े चुके केरबना पूर्व प्लांट की जगह नए पावर प्लांट की स्थापना पर भी जाेर देते रहे हैं, क्याेंकि यहां किसी नई परियेाजना के स्थापित हाेने से राेजगार भी बढ़ेगा। विकास में भी गति आएगी। हाल ही में जब मेडिकल काॅलेज खाेलने जगह की तलाश शुरू हुई, तब उसके लिए भी केरबना पूर्व प्लांट की खाली जगह का निरीक्षण किया गया।

गैस पावर प्लांट के लिए भी आया था प्रस्ताव

बिजली क्षेत्र के जानकार काेल बेस्ड प्लांट नहीं लगने की स्थिति में वैकल्पिक पावर प्लांट पर भी जाेर देते रहे हैं। बिजली कंपनी के एक अधिकारी के अनुसार प्रबंधन के समक्ष पावर सेक्टर की एक कंपनी की ओर से केरबना पूर्व में गैस आधारित पावर प्लांट की संभावनाओं को देखते हुए प्रस्ताव रखा था, क्याेंकि यहां 500 मेगावाट गैस प्लांट करीब 30 एकड़ जमीन पर स्थापित किया जा सकता है। इससे प्रदूषण की समस्या बिल्कुल भी नहीं रहेगी।

अब विधानसभा अध्यक्ष ने भी सीएम काे लिखा पत्र

काेरबा और जांजगीर क्षेत्र में बिजली प्लांटाें की स्थापना को लेकर विधानसभा के अध्यक्ष चरणदास महंत ने भी अब सीएम भूपेश बघेल काने पत्र लिखा है। इसमें उन्हाेंने कहा है कि केरबना व जांजगीर क्षेत्र में बिजली प्लांटाें की स्थापना के चलते पहले आर्थिक विकास में तेजी थी। केरबना पूर्व प्लांट के भी बंद हाेने से ठेका मजदूराें, दिहाड़ी मजदूर व छाेटे-बड़े उद्यमियाें व व्यापारियाें को भी कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है।

खबरें और भी हैं...