पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

चुनाव:बिजली कंपनी में अभियंता संघ चुनाव; पहले चरण में ही एक हजार सदस्याें ने की वोटिंग

काेरबा13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • एचटीपीपी, काेरबा पूर्व व मड़वा प्लांट सहित पूरे 11 रीजन में औसत 80 फीसदी से ज्यादा वाेटिंग

राज्य बिजली कंपनी के इंजीनियराें के संगठन छत्तीसगढ़ विद्युत मंडल अभियंता संघ का चुनाव काे लेकर मंगलवार काे जिले में बिजली कंपनी के इंजीनियराें के बीच सुबह से ही गहमागहमी का माहाैल रहा। यहां पहले चरण के चुनाव के तहत सुबह 8 से शाम 6 बजे तक सदस्याें ने वाेटिंग किया।

इधर सदस्याें को वाेटिंग करने से पहले तक चुनाव में खड़े उम्मीद्वार अपने पक्ष मे माहाैल व वाेटिंग कराने की काेशिश में जुटे रहे। संघ के चुनाव में अध्यक्ष पद के लिए विनाेद कुमार अग्रवाल, प्रतीक शुक्ला, राजेश कुमार पांडेय व रामजी सिंह मैदान में है। जनरल सेकेटरी पद के लिए मनाेज कुमार वर्मा व चंद्रशेखर सिंह के बीच मुकाबला है।

फाइनेंस सेक्रेटरी के लिए आशीष अग्निहाेत्री व राकेश कुमार शर्मा मैदान में है। एक्सीक्यूटिव मेंबर के के लिए लिए 48 उम्मीदवार मैदान में हैं। जाे पूरे वाेटिंग टाइम में सक्रिय रहे। तय टाइम तक करीब 1000 इंजीनियराें ने वाेटिंग में हिस्सा लिया। इस तरह पहले चरण के चुनाव में सभी 11 रीजन में 80 फीसदी से ज्यादा वाेटिंग हुई। एचटीपीपी, काेरबा पूर्व व मड़वा रीजन में भी वाेटिंग का प्रतिशत 80 फीसदी से अधिक रहा।

संघ की सदस्यता सूची में सभी रीजन काे मिलाकर करीब 1200 सदस्य हैं। पहले चरण में हुई वाेटिंग के दिन ही इसमें से लगभग 1000 इंजीनियर सदस्याें ने संघ के कार्यकारिणी के निर्वाचन के लिए अपने मताधिकार का उपयाेग किया। अभियंता संघ निर्वाचन के मुख्य चुनाव अधिकारी राजेश कुमार शुक्ला ने कहा कि सभी 11 रीजन में शांतिपूर्ण तरीके से चुनाव प्रक्रिया हुई है।

बिजली कंपनी में इंजीनियराें के कार्य की प्रकृति व क्षेत्र काे ध्यान में रखकर दाे चरणाें में चुनाव कराई जाती है। मंगलवार काे पहले चरण की वाेटिंग में ही अधिकांश सदस्याें ने अपने वाेट डाल लिए है। अब बचे हुए सदस्य दूसरे चरण के चुनाव में 21 सितंबर काे शामिल हाेंगे। दाेनाे चरणाें का चुनाव खत्म हाेने के बाद निर्धारित तिथि काे मताें की गणना व परिणाम घाेषित किए जाएंगे।

प्लांट विस्तार,संगठन हित जैसे मुद्दाें काे लेकर की जाेर आजमाईश

अभियंता संघ के चुनाव में इस बार उम्मीद्वार नए प्लांट की स्थापना व पुराने प्लांट विस्तार जैसे मुद्दाें काे लेकर चुनाव मैदान में सक्रिय नजर आए। इसमे काेरबा पूर्व प्लांट की खाली जगह पर सुपर क्रिटिकल प्लांट लगाने, एचटीपीपी व मड़वा प्लांट का विस्तार करने व खाली जगहाें पर साेलर प्लांट की स्थापना काे लेकर भी प्रयास करने उम्मीद्वाराें ने इसे मुद्दा बनाया। इसके अलावा संगठन व सदस्याें के हिताें से जुड़े मुद्दाें काे लेकर भी उम्मीद्वार चुनाव मैदान में जाेर आजमाईश करते दिखे।

खबरें और भी हैं...