खतरा अभी टला नहीं / सरकार से छूट मिली तो बिना मास्क निकल पड़े लोग ऑटो में भी पहले की तरह ठूंस-ठूंसकर ढो रहे सवारियां

If the government gets an exemption, the people are carrying the passengers in the auto like a passenger without leaving the mask.
X
If the government gets an exemption, the people are carrying the passengers in the auto like a passenger without leaving the mask.

  • अनलॉक-1 में नजर आई ज्यादा लापरवाही, दिनभर बाजार में रही भीड़

दैनिक भास्कर

Jun 02, 2020, 05:00 AM IST

कोरबा. लॉकडाउन- 4 का आखरी दिन रविवार को पूरा हुआ। केन्द्र सरकार ने अनलॉक-1 के रूप में नई गाइडलाइन जारी की।जिसके बाद रविवार को राज्य सरकार ने भी निर्देश रविवार को जारी किए। जिसके मुताबिक अनुमति प्राप्त दुकानें सुबह 9 बजे से शाम 7 बजे तक खुलनी हैं।
इधर जिला प्रशासन ने सोमवार को कोई आदेश जारी नहीं किया जिसके कारण पहले के जैसे ही 5 बजे मार्केट बन्द हो गया। कोरोना संक्रमण रोकने के लिए देश में लगाए लगे लॉकडाउन के 5वें चरण की सोमवार को शुरुआत हो गई। हालांकि यह चरण अनलॉक-1 में शामिल है इसलिए कई तरह की छूट मिल गई है। जिसका असर यह रहा कि शहर के सड़क से लेकर बाजार व व्यवसायिक कॉम्प्लेक्स में अन्य दिनों से ज्यादा भीड़ रही। लेकिन छूट के साथ ही इन स्थानों पर ज्यादातर लोग सोशल डिस्टेंसिंग के पालन व कोरोना प्रोटोकॉल के नियमों की अनदेखी करते दिखे। जबकि रोज नए आ रहे संक्रमण के मामलों के कारण लोगों को बेहद सावधानी रखने की जरूरत है। अब बड़ी संख्या में बाहरी राज्यों से प्रवासी मजदूर व अन्य लोग लौट रहे हैं। जिले में दो सप्ताह के भीतर ही 19 प्रवासी कोरोना पॉजिटिव भी मिले हैं। करीब 30 फीसदी लोगों की 14 दिन की क्वारेंटाइन अवधि पूरी होने के बाद क्वारेंटाइन सेंटरों से छुट्टी हो गई है। जिसमें ज्यादातर लोगों के कोरोना जांच की रिपोर्ट नहीं आई है। पसान में क्वारेंटाइन सेंटर से बाहर निकलकर संक्रमित के घूमने और रविवार को हरदीबाजार समेत दर्री क्षेत्र के क्वारेंटाइन सेंटर से छुट्टी दे दिए गए दो लोग कोरोना पॉजिटिव मिलने के अलावा सोमवार को एक प्रवासी मजदूर की मौत का मामला भी सामने आया है।

प्रशासन-पुलिस नरम तो बढ़ी लापरवाही

लॉकडाउन के शुरुआत में प्रशासन-पुलिस ने कोरोना संक्रमण रोकने के लिए कड़ाई रखी। सोशल डिस्टेंसिंग व मास्क की अनिवार्यता के साथ ही बेवजह निकलने पर कड़ी कार्रवाई की गई। लेकिन जैसे-जैसे लॉकडाउन का चरण बढ़ता गया वैसे-वैसे प्रशासन-पुलिस नरम होते गए। अनलॉक-1 के दौरान सोमवार को तो सड़क, बाजार समेत व्यवसायिक कॉम्प्लेक्स में टोकाटाकी पूरी तरह बंद हो गई। 

ऑटो चालक भी पहले की तरह ढो रहे सवारी
राज्य शासन ने ऑटो व टैक्सी को सशर्त सोशल डिस्टेंसिंग के साथ परिचालन की अनुमति दी है।  नियम के तहत सवारी ऑटो में दो से अधिक सवारी नहीं बैठाना है। जबकि अब ज्यादातर ऑटो चालक सोशल डिस्टेंसिंग को दरकिनार कर पहले की तरह सवारी ढो रहे हैं। जिला ऑटो संघ के सचिव पंकज तिवारी के मुताबिक सभी चालकों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन के निर्देश दिए गए हैं।

विभागीय रिपोर्ट में 12 सौ जांच  पेंडिंग, कमांड सेंटर बता रहा शून्य 
जिले में लगभग डेढ़ सौ क्वारेंटाइन सेंटर में लगभग 4 हजार प्रवासी लोग ठहरे हैं। वहीं 2 हजार से अधिक लोगों को डिस्चार्ज किया जा चुका है। जिला प्रशासन के रिकार्ड के अनुसार जांच के लिए भेजे गए करीब 12 सौ सैंपल की रिपोर्ट पेंडिंग है। जबकि राज्य कंट्रोल एंड कमांड सेंटर से जारी बुलेटिन में प्रतीक्षित रिपोर्ट शून्य बताई जा रही है।

ठेले-खोमचे वाले कर रहे जिला प्रशासन की अनुमति का इंतजार 
केंद्र सरकार ने दुकानों को खोलने का आदेश जारी किया है। जिसमें ठेले-खोमचे भी शामिल हैं। लेकिन जिला प्रशासन ने सोमवार की शाम तक इस संबंध में कोई आदेश नहीं जारी किया। जबकि शहरी क्षेत्र में चौपाटी में ठेले-खोमचे लगाकर परिवार चलाने वाले लोगों को अनुमति का इंतजार है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना