पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

शिक्षा:इस सत्र की मुख्य परीक्षा में 9वीं व 11वीं के 29 हजार छात्र देंगे ऑफलाइन परीक्षा

कोरबा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • स्कूल ही बनाएंगे प्रश्न पत्र, उसी स्कूल में होगी परीक्षा जहां पढ़ते हैं छात्र 10वीं व 12वीं बोर्ड की परीक्षा का पहले ही जारी हो चुका है सर्कुलर

छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल ने स्कूल स्तर की परीक्षाओं के लिए कार्यक्रम की घोषणा कर दी है। जिसके अनुसार कक्षा 9वीं व 11वीं के छात्र-छात्राओं की परीक्षाएं स्थानीय पर आयोजित की जाएंगी। संबंधित स्कूलों के प्रमुख ही परीक्षा की समय सारणी ही नहीं वरन प्रश्न पत्र भी तैयार करेंगे। मूल्यांकन कराकर परिणाम की घोषणा भी स्कूल स्तर पर ही करने कहा गया है। जिले से इस बार 9वीं व 11वीं की परीक्षा में 29 हजार छात्र-छात्राएं शामिल होंगे। इनकी परीक्षा ऑफलाइन होगी। कोरोना संक्रमण के कारण शैक्षणिक सत्र 2020-21 में स्कूल शिक्षा विभाग की ओर से शिक्षा गुणवत्ता को ध्यान में रखते हुए ऑनलाइन, ऑफलाइन, पढ़ई तुंहर दुआर, मोहल्ला क्लास आदि के माध्यम से छात्र-छात्राओं को पढ़ाने पर जोर दिया गया। छात्रों के लिए स्कूल नहीं खोले गए। अब परीक्षा का समय आ गया है तब उन्हें स्कूल आने को मिलेगा। माध्यमिक शिक्षा मंडल के सचिव प्रो.वीके गोयल ने जारी सर्कुलर में स्पष्ट किए हैं कि कोविड-19 के निर्देशों का पालन करते हुए परीक्षाएं आयोजित की जाएंगी। फिलहाल 9वीं से 11वीं के छात्रों को उनके ही स्कूल में परीक्षा देने कहा गया है। दोनों ही कक्षाओं में पूरे जिले से 29 हजार छात्र-छात्राएं शामिल होंगे। वहीं पहली से आठवीं तक के छात्रों के लिए भी दिशा निर्देश संचालनालय से जारी हो गया है।

जारी हो चुके हैं परीक्षा के कार्यक्रम: डीईओ
जिला शिक्षा अधिकारी सतीश कुमार पाण्डेय ने बताया कि बोर्ड से सभी कक्षाओं की परीक्षा आयोजित करने के कार्यक्रम जारी हो चुके हैं। जिसके आधार पर तैयारी करने संबंधित स्कूलों के प्रमुखों को कह दिया गया है। परीक्षा परिणाम प्रभावित न हो इसके लिए प्रारंभ से ही अलग-अलग माध्यम से छात्रों को जोड़कर अध्ययन कराया जा रहा है।

आठवीं तक पुरानी परीक्षा नीति रहेगी लागू
छत्तीसगढ़ शासन स्कूल शिक्षा विभाग ने लोक शिक्षण संचालनालय रायपुर के संचालक जितेन्द्र शुक्ला के अनुसार प्रदेश में पहले से ही यह नीति है कि कक्षा पहली से आठवीं तक के बच्चों को परीक्षा के आधार पर पिछली कक्षा में नहीं रोकना है। कक्षा पहली से आठवीं तक के सभी बच्चों को समान्य रूप से अगले शिक्षा सत्र में अगली कक्षा में प्रवेश दिया जाता है। कोरबा ही नहीं प्रदेश के सभी स्कूलों में बच्चों की अकादमिक अकादमिक उपलब्धियों का मूल्यांकन किया जाता है। कोरबा जिले से इस बार पहली से आठवीं तक की कक्षा में एक लाख 81 हजार 104 छात्र अध्ययनरत हैं। जिन्हें इस नीति का लाभ मिलेगा।

बोर्ड परीक्षा के लिए नहीं जाना पड़ेगा दूसरे केन्द्र
माध्यमिक शिक्षा मंडल ने हाल में सर्कुलर जारी कर बोर्ड परीक्षा के लिए कार्यक्रम घोषित किए थे। जिसमें इस बार 10वीं व 12वीं के छात्र-छात्राओं को अपने स्कूल में ही परीक्षा देने की सुविधा होगी। इसके लिए उन्हें किसी दूसरे परीक्षा केन्द्र में जाने की जरूरत नहीं होगी। परीक्षक अलग स्कूल के हो सकते हैं। कोविड -19 के कारण इस सुविधा का लाभ जिले के 180 हाई व हायर सेकेंडरी स्कूलों के कक्षा 10वीं व 12वीं में पढ़ने वाले 28 हजार के करीब छात्र-छात्राओं को इस बार मिलेगा। इस पद्धति से स्कूलों के रिजल्ट में काफी सुधार होने की संभावना है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- किसी भी लक्ष्य को अपने परिश्रम द्वारा हासिल करने में सक्षम रहेंगे। तथा ऊर्जा और आत्मविश्वास से परिपूर्ण दिन व्यतीत होगा। किसी शुभचिंतक का आशीर्वाद तथा शुभकामनाएं आपके लिए वरदान साबित होंगी। ...

    और पढ़ें