पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

एक और खतरा:काेराेना की तरह दूसरे राज्यों से डेंगू दे रहा दस्तक, 1 महीने में 50 केस पहुंचे अपाेलाे

काेरबा12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • स्वास्थ्य विभाग ने जरूरी एहतियात बरतने कहा, कटघाेरा ब्लॉक में मिले ज्यादातर मामले
  • लार्वा टेस्ट में अब तक जिले के किसी भी क्षेत्र में एडीज मच्छर पनपता नहीं मिला
  • इस तरह दूसरे राज्य से लाैटे लोग मिले संक्रमित

काेराेना जिस तरह से दूसरे राज्याें से आने वाले लोगों से जिले में फैला, उसी तरह अब डेंगू भी जिले में दस्तक दे रहा है। एक माह में सरकारी अस्पतालाें में मिले कुछ मामलाें समेत काेरबा से अपाेलाे पहुंचे डेंगू के 50 केस से यह बयां हाे रहा है। हालांकि स्वास्थ्य विभाग के द्वारा किए गए लार्वा टेस्ट में अब तक किसी भी क्षेत्र में एडीज मच्छर पनपता नहीं मिला है।

देश में दूसरे राज्याें के साथ ही प्रदेश के रायपुर-दुर्ग समेत कई जिलाें में डेंगू के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। जिले में भी डेंगू के केस मिलने लगे हैं। हालांकि जाे केस मिले हैं, वे गेवरा-दीपका, कुसमुंडा और कटघाेरा क्षेत्र से है। इनमें स्वास्थ्य विभाग के रिकार्ड में जाे केस ट्रेस हुए हैं, उनमें सभी में डेंगू से संक्रमित मिले मरीज दूसरे प्रदेशाें से लाैटने वाले हैं।

अपाेलाे में एक माह के दाैरान काेरबा से भर्ती हुए डेंगू मरीजाें की संख्या 50 के करीब हैं। हालांकि यहां स्वास्थ्य विभाग के रिकार्ड में महज 3-4 केस ही दर्ज है। सूत्राें के मुताबिक अपाेलाे में ज्यादातर मरीज एसईसीएल के हाॅस्पिटल से रेफर किए गए हैं। इनमें स्वास्थ्य विभाग काे जानकारी नहीं दी गई है। दूसरी ओर एसईसीएल अस्पताल के डाॅक्टराें ने बताया कि ज्यादातर मरीजाें की तबीयत ठीक नहीं हाेने पर उन्हें प्रक्रिया के तहत आगे अपाेलाे रेफर किया था, वहां जांच में डेंगू की पुष्टि हाेने से ऐसी स्थिति हुई है।

झांसी से लाैटा परिवार पिता-पुत्र मिले संक्रमित

केस 1 कटघाेरा स्वास्थ्य केंद्र में कुछ दिन पहले डेंगू के दाे केस मिले। इनमें संक्रमित पिता-पुत्र थे, जिन्हें इलाज के लिए अपाेलाे रेफर किया गया। स्वास्थ्य विभाग ने उनकी ट्रेवल हिस्ट्री निकाली ताे पता चला कि उक्त परिवार झांसी से लाैटा था। इसमें मां स्वस्थ थी, जबकि पिता-पुत्र डेंगू से ग्रसित थे।

राजस्थान से आए जवान डेंगू से हुआ संक्रमित

केस 2 दीपका सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में डेंगू का एक मामला मिला। इसमें डेंगू संक्रमित सीआईएसएफ जवान था, जाे छुट्टी पर अपने घर राजस्थान गया था। वहां से लाैटने के बाद उसकी तबीयत लगातार खराब चल रही थी। उसे स्वास्थ्य केंद्र लाया गया, जहां जांच में वह डेंगू से संक्रमित मिला।

एमपी से लाैटा कर्मी मिला डेंगू ग्रसित

केस 3 एसईसीएल के गेवरा एनसीएच से एक माह पहले एमपी से लाैटने के बाद एक कर्मी में डेंगू के लक्षण मिले थे। तेज सिर दर्द और बुखार के नहीं उतरने पर परिजन ने उसे एनसीएच में भर्ती कराया था, जहां उसकी हालत नहीं सुधरने पर उसे अपाेलाे रेफर कर दिया था। यहां इलाज के बाद कर्मी ठीक हाे गया।

बचाव के लिए पानी जमा न हाेने दें, सफाई रखें

डेंगू एडीज मच्छर के काटने से हाेता है, जाे साफ पानी में पनपते हैं। इसलिए कूलर, पानी टंकी, बर्तन, फ्रिज की ट्रे, टायर, डिब्बे समेत अन्य सामान में पानी जमा न हाेने दें। साथ ही हर सप्ताह धूप में सुखाकर प्रयाेग करें। घर के दरवाजे-खिड़की पर जाली-पर्दा लगाएं।

3 केस ही मिले, जांच में क्षेत्र में डेंगू नहीं फैला

कटघाेरा बीएमओ डाॅ. रूद्रपाल सिंह कंवर के मुताबिक वर्तमान सीजन में विकासखंड में डेंगू के 3 केस ही मिलने की पुष्टि हैं। इसमें डेंगू ग्रसित मरीज दूसरे प्रदेशाें से लाैटे थे। एहतियातन उनके घराें के आसपास काॅलाेनी में सर्वे कराकर लार्वा जांच की गई, जिसमें एडीज मच्छर का पनपना नहीं मिला। इस तरह जांच में क्षेत्र में डेंगू नहीं फैलना पाया गया है। लेकिन जागरूक रहना जरूरी है।

ये भी जानिए: मेडिकल काॅलेज हाॅस्पिटल में नहीं मिले एक भी केस

मेडिकल काॅलेज हाॅस्पिटल के मेडिसीन एचओडी डाॅ. गाेपाल कंवर के मुताबिक हाॅस्पिटल के ओपीडी में अब तक डेंगू के केस नहीं मिले हैं। ज्यादातर माैसमी बीमारी वायरल फीवर, सर्दी-खांसी के केस ही आ रहे हैं। इसमें विशेष बीमारी के मरीज नहीं मिल रहे हैं।

ये जानना भी जरूरी: डेंगू के ये हैं लक्षण, नजर आएं ताे कराएं जांच

जिला स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक डेंगू हाेने पर अलग तरह के लक्षण दिखते हैं। इसमें अचानक तेज सिर दर्द व तेज बुखार, मांसपेशियाें व जाेड़ाें में दर्द, आंखों के पीछे दर्द, जी मिचलाना-उल्टी हाेना, गंभीर मामलाें में नाक-मुंह व मसूड़ाें से खून आना, त्वचा पर चकते आना है। ऐसे लक्षण दिखे ताे जांच कराएं।

खबरें और भी हैं...