महाष्टमी आज:नवरात्र, देवी माता का दरबार सूना, मनोकामना ज्योति प्रज्ज्वलित

कोरबा6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अंचल समेत प्रदेश के कोने-कोने में पर्वतवासिनी मां मड़ावारनी और चैतुगढ़ की महिषासुर मर्दिनी माता के प्रति लोगों में आस्था है। चैत्र नवरात्र हो या शारदीय, यहां दूर-दूर से लोग बड़ी संख्या में पहुंचकर शीश नवाते हैं। महाष्टमी पर तो इतनी भीड़ होती है कि दर्शन पाने लोगों को कई घंटे कतार में खड़ा होना पड़ता है, लेकिन कोरोना महामारी ने भक्तों को माता के पूजन दर्शन से दूर रखे हुए हैं। इसके कारण बीते साल की चैत्र नवरात्र की तरह इस बार भी मां महिषासुर मर्दिनी और मां मड़वारानी दाई का दरबार भक्तों के खाली पड़ा है।

आदिशक्ति पर्वत वासिनी मां मड़वारानी दाई मंदिर में चैत्र नवरात्रि के दौरान सुबह शाम पूजा, आरती मंदिर के पुजारी संपन्न करा रहे हैं। यहां मां मड़वारानी सेवा व जन कल्याण समिति द्वारा श्रद्धालुओं द्वारा जलवाए गए मनोकामना ज्योति कलश अलग-अलग कक्ष में प्रज्जवलित किए गए हैं। समिति के सचिव विनोद कुमार साहू ने बताया कि कक्ष क्रमांक 1 मुख्य मड़ावारनी दाई मंदिर में घृत श्रृंगार ज्योति कलश 21, तेल श्रृंगार ज्योति कलश 1, कक्ष क्रमांक 2 मड़वारानी दाई काली मंदिर में तेल श्रृंगार ज्योति कलश 13, कक्ष क्रमांक 3 में घृत श्रंगार ज्योति कलश 41, घृत ज्योति कलश 13, तेल श्रृंगार ज्योति कलश 72, तेल ज्योति कलश 182, कक्ष क्रमांक 4 में तेल ज्योति कलश 165 और कक्ष क्रमांक 5 हनुमान मंदिर में तेल श्रृंगार कलश 13 भक्तों ने जलवाए हैं।

खबरें और भी हैं...