पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गणेश पूजा के लिए नया आदेश जारी:अब आठ फीट की मूर्तियां स्थापित कर सकेंगे आयोजक, मूर्तिकारों को आदेश बदलने का नहीं मिलेगा लाभ

काेरबा18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

गणेशोत्सव में अब 3 दिन बाकी हैं। इस उत्सव को लेकर दूसरी बार आदेश सोमवार को जिला प्रशासन ने जारी हुआ है। इसके अनुसार अब गणेशोत्सव उत्साह से आयोजन समितियां कर सकेंगी। वहीं पंडालों के निर्धारित जगह का दायरा कम करने के साथ श्रद्धालुओं की उपस्थिति बढ़ा दी है। हालांकि इस आदेश का लाभ उन मूर्तिकारों को नहीं होगा, जो गणेश और विश्वकर्मा की मूर्तियां बनाते हैं।

इसके लिए उनके पास समय नहीं रह गया है। जिला प्रशासन से जारी आदेश के अनुसार गणेश मूर्ति की अधिकतम ऊंचाई 8 फीट तक हो सकती है, लेकिन प्लास्टर ऑफ पेरिस निर्मित मूर्ति बिक्री व स्थापित करना प्रतिबंधित रहेगा। मूर्ति स्थापना वाले पंडाल का आकार 15 गुना 15 फीट से अधिक नहीं होगी। पंडाल के सामने कम से कम 5सौ वर्ग फीट की खुली जगह होनी चाहिए। किसी भी एक समय मंडप और सामने मिलाकर 50 व्यक्ति तक शामिल होंगे। ध्वनि विस्तारक यंत्र, धुमाल और डीजे बजाने की अनुमति पहले जिला प्रशासन द्वारा जारी शर्तों के अधीन होगी।

विसर्जन में एक वाहन ही कर सकेंगे उपयोग
मूर्ति विसर्जन के लिए एक से अधिक वाहन की अनुमति नहीं होगी। मूर्ति विसर्जन के वाहन में किसी भी प्रकार के अतिरिक्त साज-सज्जा, झांकी की अनुमति नहीं होगी। मूर्ति विसर्जन के लिए 4 से अधिक व्यक्ति नहीं जा सकेंगे और सभी मूर्ति के वाहन में ही बैठेंगे। अलग से वाहन ले जाने की अनुमति नहीं होगी।

धुमाल या ब्रॉस बैंड बजाने के दिशा-निर्देश
धुमाल-ब्रॉस बैंड और बैंड पार्टी बजाने वालों की कुल संख्या 10 से अधिक नहीं होगी। बैंड पार्टियों को सिर्फ बैंड बजाने की अनुमति होगी। 200 वाट पीएमपीओ से अधिक क्षमता के साउंड बॉक्स बजाना प्रतिबंधित रहेंगे। बैंड किसी भी सार्वजनिक सड़क पर नहीं बजाया जाएगा। कार्यक्रम के लिए निर्धारित स्थान पर बैंड बजाने की अनुमति भी रात 10 बजे तक के लिए मान्य होगी।

खबरें और भी हैं...