पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

विरोध:निजी स्कूलों की फीस वसूली के विरोध में पैरेंट्स एसोसिएशन ने निकाली शव यात्रा

कोरबा3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • एक दिन पहले ही एडीएम के साथ निजी स्कूल प्रबंधन व पालकों हुई थी बैठक

कोरोना संक्रमण के कारण लोगों की बिगड़ चुकी आर्थिक व्यवस्था व स्कूलों के नहीं खुलने के बाद भी निजी स्कूल प्रबंधन बच्चों से शुल्क वसूल रहे हैं। उन पर आरोप है वे मनमाना शुल्क लेने पालकों पर दबाव भी बना रहे हैं। विरोध स्वरूप पैरेंट्स एसोसिएशन के नेतृत्व में सुनालिया चौक से उषा कॉॅम्प्लेक्स रेलवे फाटक तक शव यात्रा निकाली गई। एसोसिएशन की मांग पर मंगलवार को कलेक्टोरेट में एडीएम, डीईओ के साथ निजी स्कूलों के प्रतिनिधि व पैरेंट्स एसोसिएशन के बीच बैठक हुई थी। एसोसिएशन के अध्यक्ष नूतन सिंह ठाकुर ने कहा कि एसोसिएशन के आह्वान पर एक दिवसीय ऑनलाइन क्लास का बहिष्कार किया गया था। उसके बाद बुधवार को शिक्षा विभाग की व्यवस्था के खिलाफ शव यात्रा निकाली गई। कोरोना संकट के कारण आर्थिक कठिनाइयां झेल रहे पालकों से फीस वसूली के लिए निजी स्कूल मनमानी कर रहे हैं। नूतन ने कहा कि पालकों के साथ मिलकर ट्यूशन फीस तय करने के लिए शिक्षा विभाग ने 2016 में गाइड लाइन जारी की थी, लेकिन जिले के अधिकांश स्कूल उसके विपरीत अपने स्कूल की फीस का अनुमोदन शासन से नहीं कराए हैं।़ विरोध प्रदर्शन में नूतन सिंह के साथ संयोजक रवि सिंह चंदेल, उपाध्यक्ष सरवर खान, भरत रोहरा, मनीषा अग्रवाल, सचिव दीपक साहू, सहसचिव रुपा मित्रा, निर्मला शर्मा, मोहन सोनी, राकेश चौहान, कोषाध्यक्ष नूर आरबी, सत्या जयसवाल, नरेश श्रीवास, एजाज मेमन, मनीराम जांगड़े, रामशंकर साहू, श्रीराम श्रीवास, ईश्वर राव, अशोक यादव, अजय सिंह, प्रमिला सागर, शोभा यादव, संदीप मित्तल, राजा गुप्ता, सिमरन कौर, रमेश पांडेय शामिल थे।

एडीएम की अध्यक्षता में हुई त्रिपक्षीय वार्ता में कहा- स्कूल प्रबंधन रियायत पर विचार करे
निजी स्कूलों द्वारा ट्यूशन फीस लिए जाने के मुद्दे पर मंगलवार को कलेक्टोरेट में एडीएम संजय अग्रवाल, डीईओ सतीश कुमार पाण्डेय, निजी स्कूलों के प्रतिनिधि व पैरेंट्स एसोसिएशन का प्रतिनिधि मंडल उपस्थित रहा। एडीएम अग्रवाल ने दोनों पक्षों की बात सुनते हुए समन्वय बनाकर ट्यूशन फीस चुकाने की बात कही। उन्होंने कहा कि हाईकोर्ट के आदेशानुसार स्कूलों की ट्यूशन फीस से संबंधित दिशा-निर्देश का पालन करना दोनों पक्षों को जरूरी है। एडीएम ने कहा कि हाईकोर्ट के आदेश पर केवल ट्यूशन फीस ली जा सकती है। एडीएम ने कहा कि जो छात्र गरीब परिवार से हैं तथा फीस नहीं दे सकते उसके लिए स्कूल प्रबंधन को रियायत देने पर विचार करने की जरूरत है।

एसोसिएशन प्रदर्शन के लिए स्वतंत्र है
जिला शिक्षा अधिकारी सतीश कुमार पाण्डेय ने कहा कि कोई भी एसोसिएशन या संस्था किसी मांग को लेकर विरोध या प्रदर्शन के लिए स्वतंत्र है। जहां तक उनकी मांगों की बात है तो निजी स्कूलों पर लगाए गए आरोपों की जांच करने टीम गठित की गई है, टीम जांच प्रतिवेदन बनाकर देगी, जहां उल्लंघन या मनमानी साबित होगी उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज उन्नति से संबंधित शुभ समाचार की प्राप्ति होगी। धार्मिक और आध्यात्मिक कार्यों में भी कुछ समय व्यतीत होगा। किसी विशेष समाज सुधारक का सानिध्य आपके अंदर सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करेगा। बच्चे त...

और पढ़ें