पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सीआईएसएफ की फायरिंग पर संदेह:घटनास्थल से 3 किमी दूर थाना, लेकिन सूचना देने में लगे साढ़े 6 घंटे

कोरबा11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • एसईसीएल के सुरक्षा विभाग को महज आधे घंटे के भीतर मिली जानकारी, पुलिस को नहीं दी सूचना

एसईसीएल की गेवरा खदान में शुक्रवार की रात सीआईएसएफ की क्यूआरटी पेट्रोलिंग टीम द्वारा की गई फायरिंग के बाद बताई गई स्क्रिप्ट पर पुलिस को भी संदेह हो रहा है, क्योंकि घटनास्थल से महज 3 किमी दूर दीपका थाना होने के बाद भी वहां साढ़े 6 घंटे बाद सूचना दी गई, जबकि खदान में गोली चलने की घटना संवेदनशील मानी जाती है। यहां तक कि एसईसीएल की विभागीय सुरक्षा टीम को भी घटना के आधे घंटे के भीतर फायरिंग की सूचना मिल गई थी, लेकिन एसईसीएल की ओर से भी पुलिस को जानकारी नहीं की गई, जबकि पुलिस के महत्वपूर्ण नंबर सीआईएसएफ और एसईसीएल के सुरक्षा विभाग के पास हैं। मोबाइल पर कॉल कर चंद मिनट के भीतर घटना की सूचना दी जा सकती थी, लेकिन ऐसा नहीं किया गया। सीआईएसएफ के कंपनी कमांडर अभय कुमार ने रिपोर्ट लिखाई है। उसमें पेट्रोलिंग वाहन में सवार सभी लोगों की जान को खतरा होने पर 6 गोली फायरिंग करना बताया है। पुलिस ने इस पर ही जांच केंद्रित कर दी है कि ऐसी विषम परिस्थिति निर्मित हुई थी या नहीं, जिससे फायरिंग करनी जरूरी थी।

फायरिंग की कर रहे जांच
एडिशनल एसपी कीर्तन राठौर के मुताबिक गेवरा खदान में हुए फायरिंग के मामले में जांच-पड़ताल जारी है। घायल सालिक राम से पुलिस टीम घटना के संबंध में विस्तृत पूछताछ कर बयान दर्ज करेगी। उसके साथ शामिल लोगों की जानकारी जुटाकर उनसे भी पूछताछ की जाएगी।

दीपका पुलिस की टीम लेगी बयान
फायरिंग में घायल सालिक राम का बयान सरकंडा पुलिस ने अपोलो में लेकर दीपका पुलिस को बंद लिफाफा सौंपा, लेकिन दीपका पुलिस अब सीधे सालिकराम से बात करते हुए घटना के बारे में विस्तार से पूछते हुए बयान दर्ज करेगी। इसके लिए दीपका पुलिस की टीम अपोलो गई, लेकिन सालिकराम का बयान नहीं हो सका।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आर्थिक योजनाओं को फलीभूत करने का उचित समय है। पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी क्षमता अनुसार काम करें। भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। विद्यार्थियों की करियर संबंधी किसी समस्...

    और पढ़ें