पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

राजस्व मंत्री ने किया शुभारंभ:कहा आगे और बढ़ाएंगे सुविधा; जिला अस्पताल में होगा कोरोना मरीजों का इलाज, 35 आक्सीजिनेटेड बेड की सुविधा

काेरबाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिला अस्पताल इलाज कराने पहुंचे मरीजों में कोरोना के लक्षण पर कोविड टेस्ट कराए जाने पर पॉजीटिव आने पर कोविड हॉस्पिटल ईएसआईसी या बालाजी हॉस्पिटल रेफर करना पड़ रहा था। अब यहां 35 आक्सीजिनेटेड बेड युक्त कोविड हॉस्पिटल शुरू हो गई है। शुक्रवार को राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने इसका शुभारंभ किया।

उन्होंने कहा कि कोरोना मरीजों के बेहतर इलाज मिल सके इसके लिए जिला अस्पताल में आगे और सुविधा बढ़ाई जाएगी। जिला अस्पताल में कोरोना मरीजों के इलाज के लिए कोविड हॉस्पिटल नहीं होने से रेफर करना पड़ रहा था। अब जिला अस्पताल के नए भवन में 35 आक्सीजिनेटेड बेडयुक्त कोविड हॉस्पिटल बनाया गया है। अगले दो दिनों में यहां कोरोना मरीजों की भर्ती शुरू हो जाएगी।

राजस्व मंत्री अग्रवाल ने आक्सीजन सप्लाई सिस्टम की शुरुआत की है। उन्होंने कहा कि अस्पताल में सेंट्रल आक्सीजन वितरण प्रणाली के तहत 25 बिस्तरों पर अभी आक्सीजन सप्लाई की सुविधा है। 10 बिस्तरों पर सिलेंडर लगाकर मरीजों काे आक्सीजन दी जा सकेगी। 15 कोविड हॉस्पिटलों में कोरोना मरीजों का इलाज किया जा रहा है। जिले के निजी, शासकीय अस्पतालों और आइसोलेशन सेंटरों को मिलाकर लगभग 1800 बिस्तरों की क्षमता बीते दो महीने में ही विकसित की गई है। आक्सीजन और स्वास्थ्य संसाधनों की कोई कमी नहीं है।

मेडिकल स्टाफ, दवाइयां व आक्सीजीनेटेड बिस्तरों की पर्याप्त उपलब्धता कोविड अस्पतालों में है। जिला अस्पताल के कोविड हॉस्पिटल में अगले एक सप्ताह में गंभीर कोरोना मरीजों के पूर्ण इलाज के लिए 5 नए वेंटिलेटर और 15 नॉन इनवेंसिव वेंटिलेटर यूनिट भी लगाई जाएगी। जिला अस्पताल में व्यवस्थाओं का जायजा लेते हुए राजस्व मंत्री ने कलेक्टर किरण कौशल से डाक्टरों, पैरा मेडिकल स्टाफ, दवाओं और पीपीई किट समेत अन्य सुरक्षात्मक व्यवस्थाओं के बारे में जानकारी ली।

खबरें और भी हैं...