पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जांच ये जरूरी है:लिंक एक्सप्रेस से एपी स्ट्रेन के पहुंचने का खतरा, शहर के स्टेशन की किलेबंदी, हर यात्री की कोरोना जांच हो रही

काेरबाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लिंक एक्सप्रेस पहुंचने पर यात्रियाें की काेविड टेस्ट करती टीम व निगरानी करते आरपीएफ जवान - Dainik Bhaskar
लिंक एक्सप्रेस पहुंचने पर यात्रियाें की काेविड टेस्ट करती टीम व निगरानी करते आरपीएफ जवान
  • स्टेशन के मुख्य दरवाजे से ही यात्रियाें की जांच के बाद आवाजाही, बाहर जाने वाले दाेनाें छाेर पर बैरिकेड्स लगाकर राेक

आंध्र प्रदेश में काेराेना का नया और खतरनाक स्ट्रेन मिला है। जिसे एपी स्ट्रेन कहा जा रहा है। आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम से शहर के बीच राेजाना लिंक एक्सप्रेस चलती है। इसलिए वहां से लिंक एक्सप्रेस में आने वाले यात्रियाें के साथ एपी स्ट्रेन के शहर में पहुंचने का खतरा है। इसलिए रेलवे व स्वास्थ्य विभाग ने लिंक एक्सप्रेस में पहुंचने वाले यात्रियाें की कड़ी निगरानी करते हुए काेविड टेस्ट शुरू कर दी है।

इसके लिए रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म-1 में ही ट्रेन काे लाया जा रहा है। प्लेटफार्म के शुरूआत और अंतिम छाेर पर बैरिकेड्स लगाकर लाेगाें की आवाजाही राेक गई है। ट्रेन में आने और जाने के लिए स्टेशन में मुख्य द्वार से प्रवेश-निकास की सुविधा तय की गई है। सुबह, दाेपहर और रात में स्टेशन में ट्रेनाें के पहुंचते ही आरपीएफ की टीम यात्रियाें काे अपनी निगरानी में ले लेते हैं। यात्री बिना काेविड टेस्ट के बाहर न निकले इसके लिए प्लेटफार्म के दाेनाें छाेर पर आरपीएफ के जवान तैनात रहते हैं। मुख्य द्वार के पास आरपीएफ व टीटीई की टीम साेशल डिस्टेंसिंग के साथ लाइन में लगवाकर बारी-बारी प्रत्येक यात्री का काेविड टेस्ट कराते हैं।

दक्षिण भारत की दाे ट्रेनाें में टेस्ट नहीं
एपी स्ट्रेन आंध्र प्रदेश के अलावा दक्षिण भारत के कुछ राज्य में पहुंच गया है। अभी शहर में सीधे आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम से आने वाली लिंक एक्सप्रेस आती है। जबकि यशवंतपुर एक्सप्रेस व त्रिवेंद्रम एक्सप्रेस भी दक्षिण भारत के उन राज्याें से हाेते हुए पहुंचते हैं जहां नए स्ट्रेन ने दस्तक दे दी है। लेकिन काेविड टेस्ट मात्र लिंक एक्सप्रेस के यात्रियाें की हाेती है। बाकी दाेनाें लंबी दूरी की ट्रेन रविवार और बुधवार की तड़के 3-5 बजे के बीच पहुंचते हैं। इसलिए अंधेरे में काेविड टेस्ट की व्यवस्था नहीं बनाई गई है।

55 यात्री पहुंचे, 20 टेस्ट, सभी निगेटिव
दाेपहर 12.30 बजे स्टेशन में आंध्र प्रदेश से लिंक एक्सप्रेस पहुंची। जिसमें 55 यात्री उतरे। आरपीएफ टीम ने यात्रियाें काे मुख्य द्वार के सामने साेशल डिस्टेसिंग के साथ खड़ा कराया। स्वास्थ्य विभाग के महिला स्वास्थ्य कर्मियाें की टीम एक हर यात्री का नाम-पता और ट्रैवल हिस्ट्री पूछकर दर्ज कर रही थी। ताे दूसरी एंटीजन काेविड टेस्ट। ज्यादातर यात्रियाें ने पहले ही काेविड टेस्ट कराया था। जिनकी रिपाेर्ट देखने के बाद उन्हें बिना टेस्ट के बाहर जाने दिया जा रहा था। टीम ने 20 लाेगाें का टेस्ट किया।

आंध्र प्रदेश जाने वाली कई ट्रेन की रद्द
आंध्र प्रदेश में काेराेना के नए स्ट्रेन के मिलने के बाद रेलवे ने वहां से चलने वाली कई ट्रेन काे रद्द कर दिया है। काेरबा से विशाखापट्टनम के लिए चलने वाली लिंक एक्सप्रेस जारी है। औद्याेगिक नगरी हाेने से शहर से आंध्र प्रदेश के लाेग बड़ी संख्या में निवासरत है। इसके अलावा आंध्र प्रदेश में इलाज के लिए लाेग जाते हैंं। इसलिए प्रतिदिन लिंक एक्सप्रेस में बड़ी संख्या में शहर के यात्री आवाजाही करते हैं। अब कई ट्रेनाें के बंद हाेने से आंध्र प्रदेश से रायपुर की ओर आवाजाही के लिए निश्चित ही लिंक एक्सप्रेस में दबाव बढ़ेगा।

ट्रेनाें के अलसुबह पहुंचने से टेस्ट नहीं
स्वास्थ्य विभाग के सीपीएम अशाेक सिंह ने बताया प्रशासन के निर्देशानुसार शहर के रेलवे स्टेशन में मेडिकल टीम सुबह से लेकर रात तक आने वाले सभी ट्रेनाें के यात्रियाें की जांच कर रही है। काेविड टेस्ट करा चुके यात्रियाें काे रिपाेर्ट दिखाने पर छूट है। अन्य यात्रियाें का काेविड टेस्ट कर रहे हैं। दूसरे राज्याें से आने वालों काे विशेष रूप से निगरानी में रखा जा रहा है। दक्षिण भारत से आने वाली यशवंतपुर और त्रिवेंद्रम एक्सप्रेस के अलसुबह पहुंचने से काेविड टेस्ट नहीं हाे पा रहा। इस संबंध में अफसरों काे अवगत कराया गया है।

खबरें और भी हैं...